मैं परिणिता: भाग 2


अगली सुबह

अगली सुबह क्या हुआ। कैसे बताऊँ? थोड़ी सी शर्म आ रही है! औरतें ऐसी बातें करने में थोड़ा शर्माती भी है। पर मेरी यह कहानी तो एक पति पत्नी की कहानी है। फिर ऐसे विषयों से दूर भी नहीं रहा जा सकता। वैसे भी हम एक सामान्य पति-पत्नी तो थे नहीं। यहाँ मैं पति हूँ जिसके भीतर एक औरत भी छुपी हुई। तो यूँ कहे कि सामान्य शादी शुदा कपल में एक आदमी और एक औरत होते है, हमारे रिश्ते में एक आदमी और दो औरतें थी। हर क्रोसड्रेसर की यही कहानी है। जहाँ दो औरतें हो जाए वहां थोड़ी खींचतान तो होती ही है। पर मैं विषय से भटक रही हूँ।

उस दिन सुबह सुबह सूरज को रौशनी मेरे चेहरे पर पड़ी तो आँख खुली। वो सुबह संडे की थी। और संडे सुबह प्यार करने वाले दम्पत्तियों के बीच क्या होता है सभी को पता है। खुशनुमा सुबह थी और दिल में प्यार उमड़ रहा था। मैंने आँखें बंद की और परिणिता की ओर पलट गयी। बंद आँखों के साथ ही परिणिता के होंठो को चुम ली। मुझे फिर शर्म आ रही है पर फिर भी बताती हूँ। मेरी तरह ही परिणिता ने भी मेरे होंठो को चूमना शुरू किया। न जाने क्या बात थी पर जो उत्तेजना आज मेरे होंठो पे महसूस हो रही थी वो बाकी दिनों से बहुत अलग थी। मैंने उत्तेजना में परिणिता को अपने पास खिंच लिया। आँख बंद कर एक दुसरे को छूने में जो एह्सास है वो आँखें खोल कर छूने में नहीं है। इस ज़ोर के चुम्बन से मन और कामुक भावनाओं से उत्तेजित हो रहा था। और जब ज़ोर से एक दुसरे को सीने से लगाए, तो मैं तो बस अपना वश ही खो दी थी। आज तो सीने में जो हलचल हो रही थी उससे ऐसा लग रहा था कि जैसे मेरे सीने पर स्तन उग आये हो। कुछ तो अलग था आज पर इतना अच्छा था कि कुछ और सोचने का मन ही न किया। और तभी मैंने नीचे कुछ महसूस किया। क्षमा चाहती हूँ यदि आपको पढ़ कर ठीक न लगे तो। नीचे पुरुष लिंग पूरी तरह से तना हुआ महसूस हुआ। वहां हाथ ले जाने पर पता चला की वह लिंग मेरा नहीं है! मैंने किसी और पुरुष का लिंग अपने हाथो में पकड़ा हुआ था! और जैसे ही यह हुआ, दोनों शरीर एक दुसरे से दूर हो गए। अब आँखें खुल चुकी थी। पर जो आँखें देख रही थी वह दिमाग यकीन नहीं कर पा रहा था।

मैं एक पुरुष को किस कर रही थी! और वो मेरी आँखों के सामने था। मैं जो भी हूँ, मुझे हमेशा लड़कियां ही आकर्षित करती रही है। यह पहली बार था कि मैंने किसी पुरुष के होंठो को चुम रही थी। दिल की धड़कने बहुत तेज़ हो गयी थी और कामोत्तेजना ख़त्म। दिमाग ने काम करना मानो बंद कर दिया था। दिमाग कह रहा था कि शायद यह बुरा सपना है, सो जाओ तो सब ठीक हो जाएगा। पर इन्द्रियां कह रही थी यह सपना नहीं है। और मेरे सामने वाला भी उतना ही विचलित लग रहा था। दो लोग हैरानी से एक दुसरे की ओर देख रहे थे।

आज सालों बाद भी यकीन नहीं होता कि ऐसा भी कुछ हुआ था और हो सकता है। आखिर जो मेरे सामने था वो यकीन करने लायक नहीं था। मेरे सामने जो पुरुष था वो कोई और नहीं मैं ही था। या यूँ कहे उसका शरीर मेरा था! और मैं अपनी पत्नी परिणिता के शरीर में थी! डरते हुए मैंने कहा, “परिणिता?” और उसने कहा, “प्रतीक? ये तुम हो?” Body Swapping या शरीर का बदलना: अब तक फिल्मों में ही देखा था। और फिल्मों में दो लोगो के शरीर बदलने के बाद बस कॉमेडी होती है। लड़की के शरीर में लड़के का दिमाग चलने लगता है, और लड़के के शरीर में लड़की का दिमाग। और अंत में सब ठीक हो जाता है।

पर हमारी कहानी में सब इतना आसान नहीं था। परिणिता के शरीर में मेरे विचार तो दौड़ रहे थे पर हॉर्मोन तो परिणिता के ही थे। जो दिमाग था वो भी काफी कुछ परिणिता का ही था। या यूँ समझ लो कि हॉर्मोन, दिमाग और आत्मा की खिचड़ी में हम दोनों के दिमाग का दही होने वाला था। आज तो हम दोनों उन दिनों की बातों को याद करके थोड़ा हँस लेते है पर तब सब जितना कंफ्यूसिंग था और जितनी इमोशनल परेशानियाँ हमको सहनी पड़ी, वो तो हम ही जानते है। मेरी इस कहानी में यही सब आपको बताने वाली हूँ। यदि आपको लग रहा है कि क्योंकि मैं क्रोसड्रेसर हूँ और मैं औरतों की तरह रहना चाहती थी, इसलिए मुझे परिणिता के शरीर में जाकर बहुत ख़ुशी मिली होगी। तो यह पूरी तरह सच नहीं है क्योंकि अपनी सुविधानुसार औरत बन कर रहना बड़ा आसान है और वास्तविकता में औरत होना बहुत कठिन।

अपनी आगे की कहानी आगे के भागों में लिखती रहूंगी। तो इंतज़ार करिये!
free hit counter

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s