दूसरी औरत


z6da

Note: This story has been contributed by one of our readers, Ankita Sharma. All credit goes to her for the story.

Read in English

“मेरी शादी हो चुकी है”, उसने लड़की से कहा| “अब मेरे जीवन में तुम्हारे लिए कोई जगह नहीं है|”

“तुम मेरे साथ ऐसा नहीं कर सकते| हम एक दुसरे के बगैर नहीं जी सकते|”, उसने अपनी आँखों के बहते आंसूओं के साथ कहा|

उसने लड़की की ओर देखा; अपनी खुबसूरत दोस्त को निहारता रह गया| उसकी यह दोस्त उसके जीवन के हर पल उसके साथ रही है जबसे उसे याद है| उसे भी नहीं पता था कि अपनी इस दोस्त से और क्या कहे और कैसे कहे? उसके लिए भी यह आसान नहीं था और यह दोनों के दिल को तोड़ देने वाली बात थी| पर यह करना बेहद ज़रूरी था| उसने हिम्मत की और कहा, “तुम तो जानती हो हमारे रिश्ते को दुनिया में कोई समझ नहीं सकेगा| हमारा रिश्ता बेहद ख़ास है| मैं तुम्हारे साथ बिताया हर पल जीवन भर याद रखूंगा, तुम्हे जब जब देखा, तुम्हारी एक एक मुस्कान, तुम्हारी नज़रें, तुम्हे बढ़ते और खिलते हुए देखना, मुझे कितना पसंद है, तुम तो जानती ही हो? हम दोनों के बीच कुछ गलत नहीं है| पर यही सच है| क्या तुम यह समझती नहीं हो? अब हम नहीं मिल सकते|”

उसके शब्द लड़की के दिल पर मानो पत्थर की तरह पड़े, और उसके दिल को इतना दुःख कभी न हुआ था| वो तो बस इतना चाहती थी कोई उसके अस्तित्व को बस स्वीकार कर ले, और अपने जीवन में सिर्फ कुछ पल ही सही, उसे मौका दे कि वो लड़की उस लड़के के साथ थोड़ी देर इस दुनिया को देख सके| वो ज्यादा कुछ नहीं चाहती थी| बस कभी वो लड़का उससे दो शब्द तारीफ़ के कह दे कि हाँ, वो बेहद खुबसूरत है और बेहद ख़ास लड़की है| इतने सालो के रिश्ते में इतना तो उसका अधिकार था| वह भी तो खुश जीवन की अधिकारी थी|

लड़की ने लड़के से कहा,” मैं दिल से चाहती हूँ तुम हमेशा खुश रहो| सच्ची! पर तुम्हे सच पता है|” वह थोड़ी देर रुकी और वो लड़का उसकी ओर देखता रहा| लड़की ने कहा, “तुम जिसे चाहे भुला सकते हो पर उसे कैसे भुला सकते हो जो तुम्हारे दिल में रहती हो और तुम्हारी आत्मा में भी तुम्हारी सहभागी हो?”

वो जानता था कि वह लड़की सही कह रही है| उन दोनों की आत्मा एक ही थी| पर यह करना बेहद ज़रूरी था| उसने लड़की को आखिरी बार शीशे में देखा, उसके चेहरे को एक आखिरी बार प्यार से हाथ लगाया| “अलविदा मेरे दोस्त”, यह बोल कर उसने अपने होंठो पर लगी लिपस्टिक पोंछ डाली|

Epilogue

वो लड़की आज भी अँधेरे में इंतज़ार करती है कि किसी दिन वह बाहर आकार यह दुनिया देख सकेगी और अपनी ज़िन्दगी जी सकेगी|

Like/Follow us on our Facebook page to stay updated
free hit counter

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s