Scent of a woman


21769386_1958829641052829_1413706648_o

Please use the star ratings above to rate this story!

Note: We are thankful to lovely Alisha Sista for contributing her story. Not just that, she also gave her sexy pics to go with the story! Please say thanks to this hot girl on facebook!

This story started with me being obsessed with the scent of a woman’s dress. I was just about 10 years old when I started noticing the difference between how a woman and a man smelled. I was so attracted to the woman’s scent that I wanted to smell like her. The fascination drove me to rummaging through my mother’s washed clothes but the scent was just not there. I used to get that heavenly scent from my aunt who used to stay out of my town and used to visit us once in every 3 months. I used to wait for her to come & used to find multiple reasons to stay around her so that I can experience her scent. My first thoughts were that my aunt must using some imported perfume to get this heavenly scent. Her husband was after all working abroad & he must be sending her this imported stuff for her to smell so angelic. Oh how wrong was I !!! Continue reading “Scent of a woman”

देवर और भाभी


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर इस कहानी को रेटिंग दे!

नोट: इस कहानी की लेखिका है “मेल इन साड़ी” जिन्होंने यह बहुत ही प्यारी देवर भाभी की कहानी हमारे expression challenge #3 के जवाब में लिखी है. आशा है आपको बहुत पसंद आएगी! हम तो इस कहानी को पढ़ कर पहले ही दीवाने हो चुके है!

देवर और भाभी का रिश्ता बड़ा ही प्यार भरा होता है| मेरा भी मेरी भाभी के साथ कुछ ऐसा ही था| एक दिन भाभी को पता नहीं क्या सूझी और बोली “देवर जी तुम भी चलो न मेरे साथ मेरी दोस्त की शादी में “| मैं बोला, “भाभी आपकी दोस्त की शादी है और वो भी गाँव में, मैं क्या करूंगा ? और फिर मेरे साथ का कोई होगा भी नहीं बोर हो जाऊंगा।” Continue reading “देवर और भाभी”

The daughter who never was – Part 1


Please use the star rating option above to rate this story!

हिंदी में पढ़े/ Click to read all the parts

It was already evening. The sun was going down. And the villages I could see from the train window looked really beautiful in the twilight hours. Bulbs and tubelights were now tinkling in those beautiful small houses. I could see people heading back home in their cycles and bikes. I was enamored with the beauty of the simplicity with which those villagers seemed to live their lives. Continue reading “The daughter who never was – Part 1”

बेटी जो थी नहीं – १


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर इस कहानी को रेटिंग दे!

Read this in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

शाम हो रही थी. और ट्रेन के बाहर जाते हुए छोटे छोटे गाँव शाम की हलकी रौशनी में बड़े सुन्दर दिख रहे थे. घरो में रौशनी के लिए बल्ब और ट्यूबलाइट अब चालू होने लगी थी. लोग शायद अब अपने अपने घरो को साइकिल और गाड़ियों से वापस हो रहे थे. और मेरा मन उनको निहारने में लगा हुआ था. Continue reading “बेटी जो थी नहीं – १”

The girl in me

The girl in me


Please use the star ratings above to rate this story

Special thanks: We thank Gitanjali Paruah, the writer of the story First Time/ पहली बार, who once again contributed this lovely story about falling in love.

I love this brute, I thought. I smiled. But it wasn’t always like this. I was mortally scared of him, some years back. I used to be terrified.

He was my roomy from college. He was this swaggering blusterhead in first year. And he was loud, big and brawny to boot – the complete opposite of me. I could hardly hear myself speak in those days, I smiled as I recollected. Now I am a complete chatterbox.

The first day was absolutely terrifying. He just swooped in to my room and occupied my bed and started removing my clothes from the cupboard nearby. Then he noticed me glaring and stopped. Good, I thought. But he had an amused look on his face. “Clear up, babe,” he said. I don’t know what made me do it. But I quietly cleared the cupboard and moved my stuff to the other cupboard that had one door jammed. Continue reading “The girl in me”

First time

पहली बार


कृपया ऊपर दिए गए स्टार रेटिंग का उपयोग कर इस कहानी को अपनी रेटिंग दे!

ख़ास धन्यवाद: हम धन्यवाद करना चाहते है Gitanjali Paruah जी का जिन्होंने छोटी मगर इतनी ज़बरदस्त कहानी लिख कर हमें दी. जितनी सुन्दर उन्होंने इस कहानी को इंग्लिश में लिखा है, हमने अपनी तरफ से प्रयास किया है कि हिंदी में भी उतनी ही प्रभावशाली कहानी लगे, पर कोई कमी रह गयी हो तो पाठको और गीतांजलि जी से क्षमा चाहते है.

Read in English

मेरी गर्लफ्रेंड थी वो. पर मैंने उसे उस दिन उसके बेस्ट फ्रेंड की बांहों में देखा.  उसका बेस्ट फ्रेंड एक आदमी था. मुझे इस बात से कोई समस्या भी नहीं थी. कम से कम उस दिन तक तो नहीं. वो दोनों किसी दो दोस्त की तरह हाथ पकडे हुए अवस्था में नहीं थे. उन दोनों के बीच उससे कुछ ज्यादा चल रहा था.

z6aमैं वहां उस लड़की को डेट पर ले जाने के लिए उस दिन उसके घर गया हुआ था. इसलिए मैं सीधा उसके कमरे की ओर बढ़ गया था. कमरे से कुछ आवाज़े आ रही थी. और मैंने उन दोनों को दरवाज़े के की-होल से देखा था. वो बेहद हॉट ड्रेस पहनी हुई थी और वो लड़का जॉगिंग करके वापस ही आया था. उसने जॉगिंग के शॉर्ट्स पहने हुए थे, और मेरी गर्लफ्रेंड ने ऊँची हील्स और सेक्सी टूब टॉप. कमरे के बाहर तक मुझे उसकी परफ्यूम की खुशबू आ रही थी.

देख कर लग रहा था कि दोनों किस कर रहे थे. पर उस छोटे से छेद से देखते हुए मैं निश्चित होकर नहीं कह सकता था. और वो मुझे बताना भी नहीं चाहती थी. डेट पर रेस्टोरेंट में मैंने उससे पूछा भी. पर उसने मुझे यह कह कर चुप करा दिया कि मैं कोरी कल्पना कर रहा हूँ. मैं इतना असुरक्षित क्यों महसूस करता हूँ इस रिश्ते में? उसने मुझसे पूछा. कोई ऐसी वैसी बात नहीं है, उसने मुझे दिलासा दिया. वो लड़का घर में कुछ सामान लेने आया था पर मेरी आँखों में कुछ गिर गया था, जिसे वो फूंक कर निकाल रहा था. कम से कम ऐसी कहानी मेरी गर्लफ्रेंड ने मुझे सुनाई.

ये बात पिछले हफ्ते की थी. और कल? कल उसने मुझसे अपना रिश्ता तोड़ लिया. उसने मुझे बताया भी कि वो ऐसा क्यों कर रही है. मैं एक आदमी के रूप में उसके लिया नाकाफी था. मैं बहुत ही भावुक और कद में छोटा था, उसने मुझे बताया. इन बातों को लेकर भी कभी कोई रिश्ता तोड़ता है? मैं उसी की आँखों के सामने रोने लगा. अब बंद भी करो रोना. ओह गॉड! तुम भी न पूरे सिस्स… , वो कहते कहते रुक गयी. वो मुझे सिस्सी (Sissy) या नामर्द कहने वाली थी. वो शायद गलत भी न थी.

हम दोनों में वो हमेशा मुझसे हर बात में आगे रहती थी. हील पहनकर वो मुझसे ऊँची भी लगती थी. मैं उससे हमेशा कहता था कि वो इतनी ऊँची हील न पहने, पर अपनी जिद पर अड़ कर हमेशा मुझसे ऊँची दिखना उसे पसंद था शायद. मुझ पर जैसे अपना रौब चला कर उसे कुछ अजीब सी ख़ुशी मिलती थी. उसके प्रभावशाली व्यक्तित्व से मैं हमेशा प्रभावित रहता था, पर मुझे नहीं पता था कि उसे ऐसा आदमी चाहिए था जो उसी की तरह का व्यक्तित्व वाला हो. और मैं वैसा कभी नहीं बन सकता था. Continue reading “पहली बार”

First time

First Time


Please use the star rating option above to rate this story!

A special thanks: We would like to thank Gitanjali Paruah for such a powerful and mind-boggling story. The story and the language used is so perfect and powerful that we didn’t edit a single word in this story.

हिंदी में पढ़े

She was my girlfriend. Except that I saw her in the arms of her best friend. And her best friend was a male. I always had a problem with that. But I had never felt threatened. Not until now. It was not casual hand holding. It was nothing short of intimate.

z6aI was supposed to pick her up for a date. So I had gone to her room. I had heard noises. And I had peeked through the key hole. She was in a hot dress and he had just come back from a jog. She was in a tight sleeveless top and a tube mini bottom. He was in shorts and a cut unisex tee. She was in high heels. He was barefoot. He always jogged barefoot as I would learn later from him. I could smell her perfume through the keyhole. He was sweating after a jog.

It looked like they were kissing. But I could not make out. She wouldn’t tell me when I asked her after we had gone on the date. She shushed me saying it was nothing and I was imagining. Why was I so insecure, she asked. It was nothing, she said. He had come to pick up something and she had something fall into her eyes. And he had blown her eyes. Or so she said.

This had happened last week. Yesterday, she had dumped me. And she had told me why. I wasn’t man enough for her. I was too short and too soft for her, she said. My eyes welled up. Before I realized it, she had seen it. Are you about to cry? For God’s sake! I knew it, you ARE a sis…, she held herself back. I desperately bit back my tears for fear of looking unmanly, the irony was all but lost on me.  Continue reading “First Time”