Caption: Stuck

A night of being stuck in a small town with no comfortable clothes to wear.


Please use the star rating option above to rate this caption by Sonali Kapoor!

z1

English हिंदी

English

I was travelling back to our town after a project meeting along with my colleague and Kalpana, my girlfriend. But unfortunately, our car broke down and we were stuck near a small town. Since it was almost dark, we all decided to spend the night in a nearby lodge and sort things in the morning.

When we reached our room to get fresh, I was wearing my business suit and I was wondering how will I spend the night wearing it. Kalpana, on the other hand, was fine as she was wearing a short dress. But before dinner, she offered me to her babydoll nighty to wear which she was carrying in her handbag. She said, it will help me sleep comfortably later at night. I hesitated at her offer but I had no other option available. Since she was my girlfriend, I decided to give it a try.

Later that night,I wore that sexy baby doll and suddenly I got a hard-on which came as a surprise to both of us. I was turned-on like never before. She looked at me and said, “Wow! What’s the reason behind this baby?” I said, “I don’t know. May be this nighty has some special kind of effect on me.”. She looked at me and said suggestively, “As long as it works, I am happy for us my dear Sona … Sonali… my girl.” That night was the start of my exploration of femininity within me.

Click here for all the captions from this challenge

हिंदी

उस शाम मैं एक प्रोजेक्ट मीटिंग निपटा कर अपने एक सहकर्मी और अपनी गर्लफ्रेंड कल्पना के साथ कार से वापस आ रहा था जब रास्ते में हमारी कार ख़राब हो गयी. क्योंकि अँधेरा हो रहा था, उस रात हमने पास में ही एक लॉज ढूंढ कर वहां रुकने का निर्णय लिया और तय किया कि अब सुबह ही कार ठीक कराएँगे.

जब मैं कल्पना के साथ लॉज के कमरे में पहुंचा तब मैं बिज़नस सूट पहना हुआ था. क्योंकि हमारा प्लान रात तक घर वापस जाने का था इसलिए मेरे पास सोने के लिए और कोई कपडे भी नहीं थे. कैसे सोऊंगा सूट पहनकर मैं यही सोच रहा था. कल्पना तो एक छोटी ड्रेस पहनी हुई थी और उसके लिए ऐसी कोई समस्या नहीं थी. मैं ये सोच ही रहा था कि तभी उस रात डिनर पर जाने से पहले कल्पना ने मुझसे कहा कि वो अपनी पर्स में एक बेबी डॉल साथ लायी है. मैं उसे पहनकर रात को कम्फ़र्टेबल होकर सो सकता हूँ. उसके इस ऑफर पर मैं हँस दिया पर मेरे पास और कोई कपडे उपलब्ध भी नहीं थे. अब कल्पना मेरी गर्लफ्रेंड थी तो मैंने सोचा कि चलो ट्राई करके देखते है.

डिनर के बाद रात में आखिर मैंने कल्पना की बेबी डॉल पहन ही लिया. पर उसे पहनते ही मेरे अन्दर कुछ होने लगा और उस सेक्सी बेबी डॉल के स्पर्श से और कामुकता के एहसास में मेरा लिंग कठोर हो गया. कल्पना से ये छुपा न रहा और उसने देख कर मुझसे कहा, “wow! क्या बात है… तुम तो जोश में आ गए हो.” मैं सकपका गया और बोला, “सॉरी. पता नहीं शायद इस बेबी डॉल का कपडा ही कुछ ऐसा है कि मुझ पर ऐसा असर हो रहा है”. वो मेरी और देख कर मुस्कुरायी और बोली, “डार्लिंग. मैं तो खुश हूँ कि तुम पर ऐसा असर हो रहा है. आ जाओ मेरी बाहों में समा जाओ … मेरे सोना… मेरी सोनाली… मेरी जानू”. वो रात पहली रात थी जबसे मैंने अपने अन्दर की औरत को पहली बार अनुभव किया था. अब कल्पना के साथ मैं कई बार सोनाली बनकर उस अनुभव को बार बार जीता हूँ.

इस चैलेंज में स्वीकृत सभी कहानियों के लिए यहाँ क्लिक करे

If you liked this caption, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter

Caption: Womanhood

Would you like to be born as a woman in your next life?


Please use the star rating option above to rate this caption by Gitanjali Paruah!

Note: The subject matter of this caption deals with alternative sexuality. Please do not proceed if you do not like the subject.

z1

 

English हिंदी

English

“In your next birth, do you want to be born a real girl, Gitu”, he asked as he absent mindedly tweaked my right nipple with his left hand. My head rested on his wide right shoulder and my right hand that was playing with the thick black hair on his chest both snapped out of their reveries with a jerk.

I didn’t need to think this, I realised. “No dear, femininity would not feel special at all if I got in on a platter by being born a real woman. This is who I am. This is what I want to be. Being born a boy and aspiring to feel all my femininity slowly slowly during an entire lifetime is what I want to be doing in all my births!”

Click here for all the captions from this challenge

हिंदी

“क्या तुम अगले जन्म में औरत बनना चाहोगी गीतू?”, उसने अपनी हाथ की उँगलियों से मेरे निप्पल को चिकोटते हुए पूछा. मैं उस वक़्त उसके कंधे पर सर रख कर उसके सीने पर हाथ फेर रही थी. पर उसके इस सवाल ने जैसे मुझे उस पल से झकझोर कर जगा दिया.

पर मुझे इसका जवाब सोचने की ज़रुरत नहीं थी. मुझे जवाब पता था. “नहीं डिअर, ये स्त्रीत्व मुझे उतना ख़ास नहीं लगेगा यदि मुझे जन्म से ही औरत बनकर मिल जाएगा. मैं इस जन्म में जो हूँ वैसे ही अगले जन्म में भी रहना पसंद करूंगी. लड़के के रूप में जन्म लेकर पूरे जीवन धीरे धीरे कर औरत बनने की ओर कदम बढ़ाना, यही मैं हर जन्म में करना चाहूंगी. संघर्ष के बाद पाए हुए अपने इस स्त्रीत्व का मोल मेरे लिए कहीं ज्यादा अधिक है.”

इस चैलेंज में स्वीकृत सभी कहानियों के लिए यहाँ क्लिक करे

If you liked this caption, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter

Caption: Another Life

Can a cross-dresser have it all or they need to choose between the two lives they have?


Please use the star rating option above to rate this caption by Devika Sen!

Note: The subject matter of this caption deals with alternative sexuality. Please do not proceed if you do not like the subject.

z1.jpg

English हिंदी

English

“Did you think about it?”

“I just can’t move in with you Dev! No matter how much I love to be in your arms in sexy lingerie and escort you in gorgeous sarees to dates, when the time’s up and I shed this garb, I must go back, being a good father to my kids and a good husband to my girl, making love to her. I wish I could pleasure her as good as you do me.”

Click here for all the captions from this challenge

हिंदी

“क्या तुमने कुछ सोचा उस बात के बारे में?”

“मैं क्या कहूं तुमसे देव! चाह कर भी मैं तुम्हारे साथ रहने नहीं आ सकती. चाहे मुझे तुम्हारी बांहों में रहना कितना ही अच्छा लगता हो या फिर तुम्हारे साथ सुन्दर साड़ी पहन कर डेट पर जाना मुझे कितना ही पसंद क्यों न हो, पर अंत में मुझे इस रूप से दूर जाना ही होगा. अपने उस जीवन में जहाँ मुझे अपने बच्चो के लिया अच्छा पिता का दायित्व निभाना है, जहाँ मेरी पत्नी का सहभागी पति बनना है और उसे प्यार देना है. कभी कभी सोचती हूँ कि काश मैं भी उसे उतना प्यार दे पाती उतना ही सुख दे पाती जितना तुम मुझे अपनी प्रेमिका के रूप में देते हो. मुझे गलत न समझना देव, पर तुम्हारी प्रेयसी होने के साथ साथ मेरा ये दूसरा जीवन भी है जहाँ मेरी ज़रुरत है”

इस चैलेंज में स्वीकृत सभी कहानियों के लिए यहाँ क्लिक करे

If you liked this caption, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter

Expression Challenge #5 Response

One picture several stories. Here are your responses to the expression challenge!


Expression Challenge #5 Response

Hi Ladies, we are so happy to bring all your beautiful responses you submitted for Expression Challenge #5 for the above picture. The challenge was to answer the question ‘What are you dreaming?’ asked by the mirror in front of you.  Read all your submissions below. (You can find all our past challenges here!)

Congratulations Alexis and Yashika Crossy. Your entries have been selected as editor’s choice!

Continue reading “Expression Challenge #5 Response”

चांदी की पायल

हर क्रॉसड्रेसर की इच्छा होती है कि वो दुल्हन की तरह सजे और हाउसवाइफ बने. पर जब बात आती है किसी आदमी की पत्नी बनने की, तब मन में एक दुविधा होती है. इसी दुविधा पर आधारित एक कहानी.


कृपया ऊपर दिए हुए स्टार रेटिंग का उपयोग कर कहानी को रेट करे!

संपादक के विचार: हम नहीं चाहते कि इस कहानी को पढ़कर पाठक समझे कि क्रॉसड्रेसर कहीं से भी किसी भी पुरुष या स्त्री से कमतर है.

नोट: हम क्रॉसड्रेसर की ज़िन्दगी भी बड़ी अजीब होती है. एक तरफ तो हम एक औरत के रूप में दुल्हन की तरह सजने और एक हाउसवाइफ की तरह ज़िन्दगी बिताने के सपने देखती है, और दूसरी तरफ जब सचमुच किसी की पत्नी बनने का सवाल आता है, तो मन में एक झिझक होती है. मन में कई सवाल आते है. ये दुविधा न होती यदि हम तन से औरतें होती, काश…! इसी दुविधा को उकेरने के लिए कई पाठको ने हमें मेसेज भेजे. संयोग से Minal Minu जो कि खुद एक cd admirer है, उन्होंने हमें यह कहानी लिख भेजी जो इन्ही भावनाओं पर आधारित है. तो पढ़ कर हमें बताये क्या आप भी इस कहानी की कोयल की तरह महसूस करती है?

अनुपमा त्रिवेदी

दोस्तों ये दास्तान उस मज़बूरी में छुपी हुई एक औरत की है जो पूरी तरह से औरत तो बनना नहीं चाहती पर उस एहसास को सिर्फ औरत के कपडे पहनने तक सीमित नहीं रखना चाहती! उसको हर उस एहसास से गुजरने का मन होता है जिससे एक स्त्री रोजमर्रा की जिंदगी में गुजरती है। उसे गर्लफ्रेंड भी बनना है…स्कूल गर्ल भी। उसे नर्स भी बनना है और दुल्हन भी। उसे सजते समय कोई कमी भी नही चाहिए। उसे दुल्हन भी बनना है और प्रेग्नेंट होने का एहसास भी चाहिए। उसे भाभी भी बनना है और एक बच्चे को गोद में दूध भी पिलाने का मन है…… ये जो यहाँ वहा घूमता हुआ एक पुरुष के अंदर बैठी नारी का मन है उसी की किस्सा गोई है। काश कि जितना मन करता है उस औरत का, उसका दशांश भी संभव हो पाता! आशा है कि कोयल और मानस की कहानी आपको अच्छी लगेगी|

Continue reading “चांदी की पायल”

Expression Challenge #4 Response

One picture several stories. Here are your responses to the expression challenge!


Expression Challenge #4 Response

Hi Ladies, we are so happy to bring all your beautiful responses you submitted for Expression Challenge #4 for the above picture. It was really fun to read all your responses. Read all your beautiful submissions below. (You can find all our past challenges here!)

Congratulations Kritika, Ramya Crossy, Puneri Priyanka and Sharma Asha Sangeeta. Your entries have been selected as editor’s choice!

Continue reading “Expression Challenge #4 Response”

Varsha: Anniversary

Is it possible for a crossdresser to give up crossdressing for the sake of his wife? Can they do something about it?


Please use the star ratings above to rate this story!

Click here to read all the parts of this story

Note: This story is contributed by our lovely reader, Lakshmi Seetha. We have not edited this story in any way. All rights for this story belong to the original author.

“Promise me”, Aruna asked me promise not to do one thing I held to close to my heart. “Promise me. What ever happened in the past stays in the past”, she wanted me to stop my crossdressing after marriage. “Whatever happened, will never happen”, I promised as I did not want to lose her. Continue reading “Varsha: Anniversary”