The daughter who never was – Part 2


Please use the star rating option above to rate this story!

हिंदी में पढ़े/ Click here for all the parts

When I close my eyes, all the past events begin to show up in front of my eyes like a lucid dream. I remember those beautiful moments as a girl when I would chat with my sister Shikha didi for long, and how I would tease my brother-in-law as his young naughty sister-in-law. I also remember those moments which were not as beautiful. I remember how I felt humiliated when I went out as a girl for the first time in this world. I still remember how boys from my school teased me when they found the truth about me. I also remember when another boy touched my body parts inside my saree for the first time… and I certainly remember all the humiliating taunts by Gita. Continue reading “The daughter who never was – Part 2”

बेटी जो थी नहीं – २


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर इस कहानी को रेटिंग दे!

Read this in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

आँखें बंद करती हूँ तो पुरानी यादो की तसवीरें जेहन में दिखने लगती है. कुछ अच्छे पल भी याद आते है कि कैसे मैं और शिखा दीदी हँसते खेलते घंटो बाते किया करती थी, कैसे जीजू के साथ मैं उनकी प्यारी साली बनकर उनको परेशान किया करती थी. पर वो पल भी याद आते है जो उतने अच्छे न थे.. आज भी अच्छे से याद है कैसे बाहर की दुनिया में लड़की बनकर मुझे शर्मिंदगी महसूस करनी पड़ी थी. आज भी याद आता है कि कैसे स्कूल के लड़के मुझे घेर कर छेड़ रहे थे और मुझ पर हँस रहे थे. याद आता है कि कैसे एक लड़के ने मेरे अंगो को मेरी साड़ी के अन्दर हाथ डालकर मुझे छुआ था और… और गीता की दी हुई उलाहना! Continue reading “बेटी जो थी नहीं – २”

The daughter who never was – Part 1


Please use the star rating option above to rate this story!

हिंदी में पढ़े/ Click to read all the parts

It was already evening. The sun was going down. And the villages I could see from the train window looked really beautiful in the twilight hours. Bulbs and tubelights were now tinkling in those beautiful small houses. I could see people heading back home in their cycles and bikes. I was enamored with the beauty of the simplicity with which those villagers seemed to live their lives. Continue reading “The daughter who never was – Part 1”

बेटी जो थी नहीं – १


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर इस कहानी को रेटिंग दे!

Read this in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

शाम हो रही थी. और ट्रेन के बाहर जाते हुए छोटे छोटे गाँव शाम की हलकी रौशनी में बड़े सुन्दर दिख रहे थे. घरो में रौशनी के लिए बल्ब और ट्यूबलाइट अब चालू होने लगी थी. लोग शायद अब अपने अपने घरो को साइकिल और गाड़ियों से वापस हो रहे थे. और मेरा मन उनको निहारने में लगा हुआ था. Continue reading “बेटी जो थी नहीं – १”