Love

Sometimes we take long to understand what is love.


Please use the star ratings above to rate this story!

 

Credit: I don’t know how to thank Sensuous website who gave me this beautiful idea for a story, and inspired me to write once again. I hope you girls like this shorty story.

– Anupama

She was anxiously looking at the door again and again. Her anxiousness was evident from the way she would pick up her dupatta which would slip down from her shoulders. And then, she would take a sip from the cup of coffee which she would hold using both her hands. She was beautiful, and yet lonely. This city and this coffee shop was not unfamiliar to her, and yet, this city seemed to have changed a lot to her.

Amidst the crowd in that cafe, she would look at the door as if expecting someone to appear. Though she appeared lonely, yet another coffee cup sitting on the table told that she was waiting for someone who should have been there by now. May be that person won’t come now. She looked at her delicate watch on her dainty wrist to check the time once again. May be she should not wait anymore. May be she should leave.

“Hi!”, said the woman as she put her big purse on the table. She just came. Finally, she was here. She was still the same like before. She still had big smile on her face, her eyes were wide and lined with kohl as always. She was wearing a synthetic saree accompanied with an old fashioned katori-style blouse whose design defied all the new fashion diktats. She was still the same. She had a dozen of glass bangles on each of her hands. It was as if she belonged to a different era. She had been always like that. But her big simple smile would tell that she was a simple woman with a clear heart.

“Hi!”, Ritu smiled as soon as she saw Shilpa. Her wait and loneliness was finally over. Unlike Shilpa who was loud, Ritu’s voice was sweet and delicate. Ritu was happy.

“Sorry, it took me a little long to get ready. You know how it is!”, Shilpa said as she tried to manage her saree pallu while trying to sit elegantly on the chair in front of Ritu. She sat, folded her legs, and adjusted her pleats below her waist like any elegant woman would do. Seeing Shilpa sit and fiddle with her saree was a funny scene in itself. And as soon as she sat, her pallu slipped down her shoulders which she again pulled up and tried to keep it in its place. While she was adjusting her pallu, her eyes fell on Ritu who was intently looking at Shilpa with a big smile on her face. Looking at Ritu, Shilpa forgot about her pallu and she kept looking at Ritu. Ritu never understood why Shilpa would wear her saree with open pallu spread over her arm when she always struggled to manage it. Who knows what pleasure she derived from that struggle. But girls have their own idiosyncrasies. For Ritu, it was her love for her dupatta.

“You haven’t changed a bit!”, Ritu said laughingly. Shilpa continued to look at Ritu for a while, and then she flicked her hair on one side, and said, “Hmm.. I have become a little fat. That’s all. Otherwise I am still the same” She chuckled.

“Drink this coffee. It is the kind you like. May be it has gone cold by now.”, Ritu said as she pushed the second cup on the table towards Shilpa. Shilpa was still smiling and looking uninterruptedly at Ritu as if her eyes were saying, “You still remember my choice?” Shilpa’s intent look made Ritu a little aware of herself, and she tried to cover her top body with her dupatta though there was no need for that.

“How many days are you here for?”, Shilpa asked as she took a sip out of the coffee cup.

“Two days. I am here for some office work. I plan to meet old friends in the evening. That’s it.”, Ritu said. She was feeling more relaxed now. She didn’t realize that she would feel comfortable with Shilpa so quick. She found no reason to feel shy or uncomfortable in front of her.

They both sat their silently for some time while sipping their coffee. “Did you marry?”, Shilpa broke the silence with a question. She was a little nervous asking that question, and was fiddling with her bangles as if she was not ready to hear the answer.

“No”, Ritu answered after a brief pause. She was looking down. “And you? Any man?”, Ritu adjusted her dupatta on her shoulder as if trying to appear stronger in front of Shilpa.

Ritu’s question made Shilpa to look away from her. Shilpa smiled in a disbelief at that question and she said, “No.” She paused briefly and continued in a struggling voice, “I had told you about that even then.”

There was once again silence on that table. The hustle bustle in that cafe could not pierce the silence that was disturbing them both.

Shilpa finally mustered courage to say something to Ritu. “Let’s go out from here.”

“Where?”, Ritu bent forward with excitement in her eyes, as if she was waiting for this moment to go out with Shilpa.

“That same place … where we would go to eat gol-gappe (paani puri)”, Shilpa said. Ritu was touching her own arms. Her eyes were happy but her look had something naughty about it. “No … we had never been to that place together.”, Ritu said as she boldly corrected Shilpa. Probably, Shilpa’s memories were wrong. That’s the problem with memories. They get faded and jumbled with time.

They both got up and walked out of the cafe. They were walking next to each other on the street. It was clear that there was a common desire in both these girls. They wanted to hold each other’s hand. But none of the two made the first move to do so. Both girls continued to walk slowly and silently. Soon, they were at the gol-gappe stall. They both started eating something they both loved. It was pretty evident that they loved this stall. They both were smiling but didn’t say a word. And the silence was broken only when Ritu began to cough. Shilpa began to pat over Ritu’s back to make her feel better. She even moved Ritu’s long hair on one side to help with her coughing. It was the first time she was touching Ritu after a long long time. As soon as the coughing stopped, Ritu looked at Shilpa. She could feel something.

“You should not eat anymore.”, Shilpa said. “No, I am going to eat 4 more. Where else I would get to eat this delicious gol-gappe“, Ritu said adamantly as if it was her right to refuse Shilpa.

“Oh bhaiya… at least put a little more of that sweet chutney.” Shilpa said angrily to the person who was making gol-gappe for them. And Ritu continued to look at Shilpa. It seemed as if there was some kind of regret in her eyes.

After they were finished eating, they both started strolling once again. The weather was getting colder as the evening progressed. Ritu tried to cover herself with her dupatta to protect herself from the cold. But her thin dupatta was not enough to protect her. Shilpa looked at struggling Ritu. She opened her purse and took out a shawl, and used it cover Ritu with it. “You will feel better now. I knew that you wouldn’t be prepared for the cold weather. You have always been like that.”

Shilpa was really sweet with her gesture. She was always sweet like that, Ritu was thinking to herself. Feeling the warmth of that shawl, she was reminded of her old memories. But sometimes old memories with a lot of sweetness in it can still bring a little pain with it. Somehow Ritu controlled her thoughts. She turned towards Shilpa and said, “I think I should leave now. My friends must be waiting for me. I am supposed to be there in 5 minutes.”

So soon? They had barely met, and it is already time to separate. They had barely talked to each other. Shilpa got a little emotional but she tried her best to hide her emotions with a big fake smile on her face, and said, “I felt really nice seeing you.”

They both looked at each other. Ritu grabbed both of Shilpa’s hands in her hands. She loooked down and said, “I always loved you.”

“I know.”, said emotional Shilpa in a shaky voice. They both turned away from each other and walked in different directions. There were tears and memories in the eyes of both. Ritu continued to walk with moist eyes while feeling the warmth of love in that shawl. Only she knows how much courage she had to muster to meet Shilpa like this. If she hadn’t asked, Shilpa would never have come like this to meet her.

After a short drive in her car, Shilpa was back to her home. She sat on her sofa. She gave a brief sigh before she began going through the pictures on her phone to find a particular picture from 5 years back. In that picture, there was Ritu standing next to some guy. They both were eating gol-gappe in the same stall. They both looked really happy. After all, they both were in love.

“I am sorry, Sudeep. I was wrong. Can we be together once again?”, the typed message on Ritu’s phone said. But would she dare to send that message?

Image Credits: WebFab.in Cafe Latte Salwars

If you liked this story, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter

प्यार

कभी कभी प्यार को समझने में देर हो जाती है.


कृपया ऊपर दिए हुए स्टार रेटिंग का उपयोग कर कहानी को रेट करे!

 

क्रेडिट: पता नहीं कैसे शुक्रिया करू Sensuous website का जिसने इस कहानी का ये सुन्दर आईडिया दिया और मुझे एक बार फिर लिखने के लिए प्रेरित किया. आशा करती हूँ कि आपको ये छोटी सी कहानी पसंद आएगी.

– अनुपमा

वो बार बार बाहर दरवाज़े की ओर देखती और अपने दुपट्टे को बार बार कंधे पर उठाती और चुप चाप दोनों हाथो से कप को पकड़ कर कॉफ़ी की एक चुस्की लेती. ये शहर उसके लिए अनजान नहीं था फिर भी कितना बदल गया था ये शहर. और वो उस कॉफ़ी शॉप की भीड़ में एक अजीब सी कशमकश में इंतज़ार भरी आँखों से दरवाज़े की ओर देखती. उसकी टेबल में रखा एक और भरा हुआ कॉफ़ी का कप बता रहा था कि वो जिसका इंतज़ार कर रही थी उसे अब तक आ जाना चाहिए था. शायद जिसका उसे इंतज़ार था, वो अब नहीं आने वाला था. उसने अपनी कलाई में पहनी हुई एक पतली सी घडी में एक बार फिर समय देखा. शायद उसका इंतज़ार करना व्यर्थ था. शायद अब उसे वहां से चले जाना चाहिए था.

“हाय!”, उस औरत ने आते ही टेबल पर अपनी पर्स रखते हुए कहा. आज भी वो वैसी ही थी. पहले की ही तरह. बड़ी सी मुस्कान, बड़ी बड़ी कजरारी आँखें, फैशन के विपरीत डिजाईन की सिंथेटिक साड़ी, पुराने स्टाइल का कटोरी ब्लाउज, और हाथों में कांच की चूड़ियां, न जाने कौनसे समय के फैशन को फॉलो करती थी वो. उसे समझना मुश्किल था. पर उसकी भोली मुस्कान बताती थी कि वो एक सीधी सरल और दिल से साफ़ औरत थी.

“हाय!”, शिल्पा को देखते ही ऋतू के चेहरे पर मुस्कान थी. अब तक अकेले अकेले कॉफ़ी शॉप में बैठे हुए शिल्पा का ही तो इंतज़ार कर रही थी वो. शिल्पा के विपरीत ऋतू की आवाज़ धीमी थी और उसमें एक नजाकत थी.

“सॉरी मुझे तैयार होने में ज़रा देर हो गयी.”, शिल्पा ने अपनी साड़ी के पल्लू को एक हाथ से संभालते हुए और कुर्सी में अपने लिए जगह बनायीं. और फिर अपने एक पैर पर दूसरा पैर रख कर अपनी कमर के निचे अपनी साड़ी की चुन्नटो को एक ओर कर बैठ गयी. उसको बैठते देखना भी एक मज़ेदार दृश्य से कम नहीं था. बैठते ही उसका पल्लू फिर कंधे से निचे फिसलने लगा, जिसे वो फिर उठाकर अपने कंधे पर जमाने लगी. वो ऐसा कर ही रही थी कि उसकी नज़र ऋतू पे पड़ी जो अपने चेहरे पे हाथ रखे शिल्पा की हरकतें देख धीमे से मुस्कुरा रही थी. और फिर अपने पल्लू की चिंता छोड़ शिल्पा ऋतू को देखने लगी. ऋतू को कभी समझ नहीं आता था कि शिल्पा को जब साड़ी संभालने में इतनी मुसीबत होती है तो वो अपने पल्लू को प्लेट करके कंधे पर पिन क्यों नहीं कर देती. हमेशा इस तरह खुले पल्ले को संभालने में न जाने शिल्पा को क्या मज़ा आता था.

“तुम बिलकुल भी नहीं बदली न?”, ऋतू ने हँसते हुए धीरे से शिल्पा से कहा. कुछ देर शिल्पा उसकी ओर देखती रही और फिर अपने बालो को एक ओर झटकाते हुए बोली, “बस थोड़ी सी मोटी हो गयी हूँ. बाकी वैसी ही हूँ!”

“ये लो कॉफ़ी. तुम्हारी पसंद की है. अब तक तो शायद ठंडी हो गयी होगी.”, ऋतू ने टेबल पे रखे दुसरे कप को शिल्पा की ओर बढाते हुए कहा. शिल्पा अब भी बस ऋतू की ओर ही एक टक मुस्कुराते हुए देख रही थी जैसे उसकी आँखें बोल रही हो “तुम्हे अब भी याद है मेरी पसंद?” शिल्पा की एकटक नजरो को देख ऋतू थोड़ी शर्मा गयी और अपने दुपट्टे से खुद को ढंकने लगी.

“कितने दिन के लिए आई हो?”, शिल्पा ने कॉफ़ी की चुस्की लेते हुए ऋतू से पूछा.

“दो दिन के लिए. बस ऑफिस का काम और अपने पुराने दोस्तों से मिलकर चली जाऊंगी.”, ऋतू बोली. अब वो वापस सहज हो रही थी. शिल्पा से शर्माने का कोई कारण नहीं था उसके पास.

कुछ देर तक दोनों चुपचाप अपनी अपनी कॉफ़ी पीते रहे. फिर शिल्पा ने कहा, “तुमने शादी की?” शिल्पा को देखकर पता चल रहा था कि सवाल पूछकर वो नर्वस है, और वो अपनी चूड़ियों को छू रही थी जैसे वो जवाब जानने को तैयार नहीं है.

“नहीं.”, कुछ देर बाद ऋतू ने नज़रे झुकाकर धीमी आवाज़ में जवाब दिया. “और तुम? कोई आदमी?”, ऋतू ने अपने एक कंधे पर दुपट्टा संभालते हुए पूछा जैसे वो शिल्पा के सामने खुद को मजबूत दिखाना चाहती हो.

ऋतू का सवाल सुन शिल्पा ने ऋतू की ओर ऐसे देखा जैसे उसे सवाल पर यकीन नहीं हुआ. वो एक अविश्वास भरी हँसी हँस कर बोली, “नहीं.” और फिर रूककर लडखडाती हुई आवाज़ में बोली, “मैंने तो तुम्हे तब भी बताया था.”

उसके बाद एक बार फिर खामोशी छा गयी. उस कॉफ़ी शॉप की चहल पहल के बीच भी उन दोनों के बीच की ये ख़ामोशी दोनों को परेशान कर रही थी.

आखिर शिल्पा ने हिम्मत करके ऋतू से कहा, “चलो कहीं और बाहर चलते है.”

“कहाँ?”, ऋतू ने आगे बढ़कर उत्सुकता से भरी आँखों से पूछा, जैसे वो शिल्पा के ये कहने का इंतज़ार ही कर रही थी.

“वहीँ गोल गप्पे खाने… जहाँ हम दोनों जाया करते थे.”, शिल्पा बोली. ऋतू इस वक़्त अपनी ही बांहों को पकडे हुई थी. उसकी आँखों में अब एक ख़ुशी थी और थोडा नटखटपन भी. “नहीं… हम दोनों वहां कभी नहीं गए है.”, ऋतू बोली. शिल्पा को शायद गलत याद था. यादें भी कभी कभी समय के साथ धुंधली हो जाती है.

और फिर दोनों उठकर पैदल ही चल पड़ी. दोनों शायद एक दुसरे का हाथ पकड़ना चाहती थी. फिर भी न जाने क्यों दोनों में से किसी ने बढ़कर दुसरे का हाथ न पकड़ा. दोनों बस धीरे धीरे चलती रही. गोल गप्पे के ठेले पर पहुच कर दोनों ने चुपचाप गोल गप्पे खाए. दोनों मुस्कुरा भी रही थी पर कोई किसी से कुछ कह नहीं रहा था. दोनों इसी तरह रहे जब तक ऋतू को खांसी नहीं आ गयी. ऋतू को खांसते देख शिल्पा ने तुरंत ऋतू की पीठ पर हाथ फेरना शुरू किया. उसके बालो को एक तरफ कर शिल्पा ऋतू की ओर चिंतित होकर उसकी खांसी से सँभलने में मदद कर रही थी. आज इतने समय बाद वो ऋतू को छू रही थी. खांसी रुकते ही ऋतू ने शिल्पा की ओर देखा. शिल्पा के चेहरे पर अपने लिए चिंता वो देख सकती थी.

“तुम्हे और नहीं खाने चाहिए.”, शिल्पा ने कहा. “नहीं. मैं तो ४ और कहूंगी. ऐसे गोल गप्पे मुझे कहाँ खाने मिलते है?”, ऋतू बोली जैसे शिल्पा से लड़ने का उसे हक हो.

“क्या भैया… ज़रा मीठी चटनी ज्यादा डालकर देना न.”, शिल्पा ने गुस्से से ठेले वाले से कहा. और ऋतू शिल्पा की ओर देखती रह गयी. शायद किसी तरह का अफ़सोस था उसकी नज़र में.

गोल गप्पे खाने के बाद दोनों फिर वहां से चल पड़ी. मौसम थोडा ठंडा हो रहा था. ऋतू खुद को ठण्ड से बचने के लिए खुद को अपने दुपट्टे में लपेट रही थी. पर उसका पतला सा दुपट्टा उसे ठण्ड से बचाने के लिए नाकाफी था. शिल्पा ने ऋतू को देखा और उसे समझ आ गया कि ऋतू को ठण्ड लग रही है. उसने अपनी पर्स से एक शाल निकाली और ऋतू को बेहद प्यार से ओढाते हुए बोली, “लो… अब तुम्हे अच्छा लगेगा. मुझे पता था कि तुम ठण्ड के लिए तैयार होकर नहीं आओगी. तुम भी न… वैसी की वैसी हो!” कितनी प्यारी थी शिल्पा. हमेशा से ही तो ऐसी प्यारी थी वो, ऋतू मन ही मन सोचने लगी. उस शाल को देखकर एक बार फिर पुरानी बातें याद आ रही थी. पर कई बार पुरानी यादों की मीठास में भी एक पीड़ा होती है. फिर किसी तरह खुद को संभालते हुए वो शिल्पा की ओर देखकर बोली, “मुझे अब जाना होगा. मेरे दोस्त मेरा इंतज़ार कर रहे होंगे. मैंने उन्हें मिलने के लिए अभी का समय दिया था.”

इतने जल्दी? अभी तो उन्हें मिले थोडा ही समय हुआ था, और इतनी जल्दी जाने का समय भी हो गया. अभी तो दोनों के बीच बात भी नहीं हुई थी. बहुत भावुक हो गयी थी शिल्पा पर अपनी भावुकता को छुपाते हुए उसने अनचाहे मन से हामी भर दी, और एक कृत्रिम सी मुस्कान के साथ बोली, “मुझे तुमसे मिलकर अच्छा लगा”

दोनों ने फिर एक दुसरे की ओर देखा. ऋतू ने शिल्पा के दोनों हाथ अपने हाथो में लिए और नज़रे झुकाए ही बोली, “मैं तुमसे हमेशा प्यार करती थी.”

“मैं जानती हूँ.”, भावुक शिल्पा ने लडखडाती आवाज़ में कहा. और फिर दोनों एक दुसरे से पलट कर अलग अलग रास्ते जाने लगी. दोनों की ही आँखों में आंसू थे और पुरानी यादें थी. ऋतू खुद को उस शाल में प्यार की गर्माहट को महसूस करती हुई नम आँखों के साथ चलती रही. कितनी हिम्मत करनी पड़ी थी उसे शिल्पा से आज इस तरह मिलने के लिए. और उसने कहा न होता तो शिल्पा भी इस तरह उससे यूँ मिलने न आई होती.

कुछ देर बाद शिल्पा अपनी कार लेकर घर अपने घर पहुँच गयी. घर में आकर वो अपने सोफे पर बैठ गयी और अपना फ़ोन निकाल कर एक ५ साल पुरानी फोटो ढूँढने लगी. उस फोटो में ऋतू और एक आदमी थे. दोनों ही उसी ठेले पर गोलगप्पे खा रहे थे. कितने खुश लग रहे थे दोनों. दोनों एक दुसरे को बहुत प्यार करते थे.

“आई एम सॉरी सुदीप. मैं गलत थी. क्या हम फिर से साथ हो सकते है?”, ऑटो में बैठी ऋतू के फ़ोन में वो मेसेज टाइप किया हुआ था. पर क्या वो उसे भेज सकेगी?

Image Credits: WebFab.in Cafe Latte Salwars

यदि आपको कहानी पसंद आई हो, तो अपनी रेटिंग देना न भूले!

free hit counter

The Girly Feed

Stories, captions and articles from the web.


Cross-dressing related stories, captions and articles from the web.

Last Entry Updated on: 04 July, 2018.



If you have any articles you would like us to feature here, use our feedback form to submit the links!

Caption: Challenge

Captions published under shortest story challenge


The results of ‘Shortest Story Challenge’ are in! Scroll down to read all the beautiful captions and stories contributed. 



Mother-in-law / सास
By Anupama Trivedi



Another life / दोहरी ज़िन्दगी
By Devika Sen



Womanhood / स्त्रीत्व
By Gitanjali Paruah



Maid / नौकरानी
By Saloni Sharma



Stuck / पहली बार
By Sonali Kapoor

Click here for all the captions /सभी कैप्शन पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

If you liked this caption, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter

Caption: Best friends

When I came out as a crossdresser to my best friend, you will not believe what happened next.


Please use the star rating option above to rate this caption!


z1

English हिंदी

English

“I cannot believe this is you!”, said Rajiv when he looked at my photograph wearing a green salwar suit. How could he believe? After all, it was me, Nimit, his best friend since his childhood who was sitting next to him wearing a t-shirt and jeans. It was unimaginable for anyone to realize that the beautiful girl in the picture with long hair could be a man like me.

“Of course, it is me. Rajiv.”, I said to him. I had finally decided to open up about my cross-dressing to my best friend who is also my roommate in a city where we both work. He didn’t ask much questions or judge me at all. I knew that Rajiv is not going to do anything to hurt me in anyway. I trusted him, and his actions so far suggested that I was right. He stared at the picture for a while and finally hesitantly asked, “Can I see you in real as a woman? Err.. only if you don’t mind.” I smiled at him. No, I was not being feminine or anything at this time. I was just being his friend he had always known. “Wait here for me”, I said to him.

I stood up and went to my bedroom where I began my transformation. I thought I will surprise him with my looks in a saree. It took me about 10 minutes to find a nice saree and drape it. But it took me about half an hour to apply makeup and wear accessories like dozens of bangles which I really like. I shaped my eye-brows a little bit with my liner because I wanted to look like a real woman. Finally, I applied bindi on my forehead and came out holding my saree pallu with a big smile on my face. I was thrilled because I was coming out as a woman to someone for the first time in my life!

“Wow!! You look … you look…”, Rajiv could not complete his sentence when he looked at me in a pretty colorful lehariya saree. May be because he was mesmerized by my beauty or may because he could not believe it was me, his best friend, Nimit. Seeing him struggle with his words, I giggled. This time I giggled like a real girl. “What’s the problem, Rajiv? Haven’t you seen a pretty girl before?”, I said laughingly.

“You look… amazing!!”, he finally completed his sentence. He looked a little nervous. “What should I call you?”, his next question came up with a lot of hesitation.

“Hmm… I prefer to be called Smita! You know you can treat me like your sister-in-law or like any other young married lady from your neighborhood”, I excitedly told him about my desire.

He gave a nervous smile and said, “Smita bhabhi (sister-in-law)? You know that the relationship between a brother-in-law and a sister-in-law can be really naughty. Right?”, he almost tried to tease me with his shy benign friendly look in his eyes.

“He he.. it’s ok my dear brother-in-law. You can talk naughty to me, but don’t try to come near me. After all, I am a married woman, na!”, I laughed again as I pulled my saree pallu over my head as a gesture of being a devoted married woman.

Honestly, Rajiv had been really a gentleman. After that day, he would occasionally tease me with his words like a true brother-in-law would, but he never said or did anything indecent. And our friendship only grew after that. I was happy to be his sister-in-law after coming back from my work. And he always respected me as a woman. Sometimes when I would be watching TV sitting on a sofa, he would come and sit next to me. And he would hold my saree pallu in his hands, play with it and touch it to feel the softness of the fabric.

I looked into his eyes. I understood what he wanted. I knew that he hasn’t fully realized it himself but the time has come when he himself should wear a saree, and experience what I feel everyday when I become a woman. The time has come for him to become my female friend. I hugged him, and took him to my room where I would transform him into my first and best female friend. Our friendship was going to reach the next level tonight.

Click here for all the captions

हिंदी

“मुझे यकीन नहीं होता कि ये तू है यार”, राजीव ने मुझसे कहा जब उसने मेरी फोटो देखी जिसमे मैं हरे रंग का सलवार सूट पहने हुए था. वैसे भी ऐसे कैसे यकीन कर लेता वो? आखिर, वो मैं था, निमित, उसके बचपन का जिगरी दोस्त जो उसके बगल में टी-शर्ट और जीन्स पहने बैठा हुआ था. किसी के लिए भी यकीन करना मुश्किल होता कि उस फोटो की खुबसूरत लड़की जिसके खुले लम्बे बाल है, वो कोई और नहीं बल्कि मैं हूँ निमित.

“ऑफ़ कोर्स, वो मैं ही हूँ राजीव”, मैंने उससे भरोसा दिलाते हुए कहा. आखिर आज मैंने अपने क्रॉसड्रेसिंग के राज़ को अपने बेस्ट फ्रेंड के सामने खोल ही दिया. अब तो वो मेरा रूममेट भी है उस शहर में जहाँ हम दोनों काम करते है. उसने मुझसे ज्यादा सवाल भी नहीं किये और न ही कोई बुरा बर्ताव. मैं जानता था कि राजीव ऐसा कुछ नहीं करेगा जिससे मुझे बुरा लगे. मुझे उस पर भरोसा था और उसका अब तक का व्यवहार मेरे भरोसे को सही ठहरा रहा था. सच में मेरा अच्छा दोस्त था राजीव. उसने कुछ देर और उस फोटो को देखा और फिर बोला, “क्या मैं तुम्हे लड़की के रूप में देख सकता हूँ? तुम बुरा न मानो तो” उस कहने में एक झिझक थी. पर उसकी इच्छा सुनकर मैं मुस्कुरा दिया. किसी औरत की तरह नहीं बल्कि एक दोस्त की तरह जिसे वो बचपन से जानता था. “तुम मेरा यहीं इंतज़ार करना. मैं आता हूँ”, मैंने उससे कहा.

मैं उठ कर अब अपने बेडरूम में आ गया जहाँ मैं अब औरत बनने वाली थी. मैंने सोचा कि राजीव को आज साड़ी पहन कर एक और सरप्राइज दू. मुझे करीब १० मिनट लगे होंगे एक अच्छी सी साड़ी ढूंढकर पहनने को पर मेकअप वगेरह करने में मुझे आधा घंटा और लग गया. मुझे चूड़ियां पहनना बहुत पसंद है तो मैंने करीब २ दर्जन कांच की चूड़ियां भी पहन ली. फिर मैंने अपनी ऑयब्रौस को अपने लाइनर से थोडा आकार दिया ताकि मैं एक खुबसूरत औरत की तरह दिख सकूं. आखिर में अपने माथे पर छोटी सी बिंदी लगाकर अपनी साड़ी का पल्लू हाथ में पकडे और एक बड़ी सी मुस्कान लिए मैं कमरे से बाहर निकली. आखिर ख़ुशी का दिन था ये. पहली बार एक औरत के रूप में मैं किसी के सामने आ रही थी!

“Wow!! तुम तो … तुम तो…”, राजीव अपने वाक्य भी पूरा नहीं कर पा रहा था मुझे लहरिया साड़ी पहने इठलाते देख कर. शायद मेरी खूबसूरती से उसके होश उड़ गए थे या फिर उसे यकीन नहीं हो रहा था कि मैं उसका दोस्त निमित हूँ. उसे ऐसे शब्दों से लडखडाते देख मैं खिलखिलाने लगी. इस बार बिलकुल एक औरत की तरह! “क्या बात है राजीव? मैं अच्छी नहीं दिख रही तुम्हे?”, मैंने हँसते हुए उससे पूछा. बेचारे की तो हालत थोड़ी खराब थी.

“नहीं… तुम बहुत खुबसूरत औरत लग रहे हो… लग रही हो”, उसने किसी तरह अपना वाक्य पूरा किया. थोडा नर्वस लग रहा था वो. “मैं तुम्हे क्या कह कर पुकार सकता हूँ?”, उसने पूछा.

“हम्म…. मुझे स्मिता नाम पसंद है. तुम मुझे अपनी भाभी मान सकते हो या फिर मुझे इस तरह ट्रीट कर सकते हो जैसे तुम्हारे पड़ोस में रहने वाली कोई जवान शादीशुदा औरत हूँ मैं”, मैंने ख़ुशी से अपनी इच्छा जाहिर की.

मेरी बात सुनकर उसने एक नर्वस सी अधूरी मुस्कान दी और मुझसे कहा, “स्मिता भाभी… मुझे अच्छा लगेगा तुम्हे भाभी की तरह ट्रीट करना. पर तुम्हे पता है न कि देवर भाभी के बीच का रिश्ता थोडा नटखट होता है. क्या तुम तैयार हो अपने देवर के लिए मेरी भाभी जी?” वो मुझे छेड़ने की कोशिश कर रहा था पर साथ ही शर्मा भी रहा था.

“हा हा… ठीक है देवर जी. तुम चाहे जितने नटखट हो जाओ मेरे साथ. पर थोड़ी सीमा बनाकर रखना. आखिर एक शादीशुदा औरत हूँ मैं!”, मैं फिर जोर से हँस दी और अपने सर पर पल्लू ओढ़कर कर इठलाने लगी जैसे एक पतिव्रता औरत हूँ!

सच कहूं तो राजीव एक जेंटलमैन था. उस दिन के बाद भले वो एक देवर की तरह मेरे साथ शरारतें करता था पर कभी भी उसने कोई अश्लील बात या हरकत मेरे साथ न की. हम दोनों की दोस्ती उस दिन के बाद से और गहरी होती चली गयी. मैं काम से घर वापस आने का बाद ख़ुशी से राजीव की स्मिता भाभी बन जाया करती थी. और वो मेरी हमेशा एक औरत के रूप में इज्ज़त किया करता था. कभी कभी जब मैं सोफे पर बैठ कर टीवी देख रही होती थी तब वो मेरे साड़ी के पल्लू को अपने हाथ में लेकर उससे खेलता और साड़ी के स्पर्श को महसूस करता. कभी कभी मेरी साड़ी को वो एक हसरत भरी निगाहों से देखता.

एक दिन मैंने उसकी आँखों में वो हसरत देख ली. मैं समझ गयी थी कि वो क्या चाहता है पर शायद वो पूरी तरह से खुद को अब तक नहीं समझ सका था. पर अब समय आ गया था कि अब वो खुद साड़ी पहन कर वो ख़ुशी महसूस करे जो मैं रोज़ औरत बनकर किया करती थी. अब समय आ गया था कि राजीव मेरे दोस्त के साथ साथ अब मेरी  सहेली भी बन जाए. वो अब भी मेरे पल्लू को पकड़ा हुआ था जब मैंने उसकी आँखों में देखा और उसे गले लगा लिया. और फिर उसका हाथ पकड़ कर मैं अपने कमरे में ले आई जहाँ आज वो मेरी पहली और सबसे प्यारी सहेली बनने वाला था. हमारी दोस्ती इस पल के बाद से एक नए कदम की ओर बढ़ रही थी.

सभी कैप्शन पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

If you liked this caption, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter

इंडियन लेडीज़ क्लब: अंतिम भाग

आखिर वो रात आ ही गयी थी जब इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों का जीवन एक बार फिर बदलने वाला था. क्या वो आगे भी औरत बनी रहेंगी?


यदि आपको कहानी पसंद आये, तो ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर रेटिंग ज़रूर दे!

Click here to read in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

आखिर वो घडी आ ही गयी थी जब उस मेसेज के अनुसार सुमति और इंडियन लेडीज़ क्लब की सहेलियों के साथ कुछ ख़ास होने वाला था. क्या होने वाला था उस रात? सुमति तो अब भी एक खुबसूरत दुल्हन के लिबास में मुस्कुरा रही थी. उसके हाथों और पैरो पर बेहद सुन्दर डिजाईन वाली मेहंदी रचाई गयी थी. उसके आसपास उसकी बहाने, भाभियाँ और बहुत सी औरतों ने उसे घेर रखा था. हर जगह ख़ुशी और औरतों की हँसी की गूंज थी. हर कोई तो खुश था, फिर भी उस ख़ुशी के पीछे सुमति, अंजलि और मधुरिम चिंतित भी थी कि आज रात उनके साथ कौनसी नयी मुसीबत आने वाली है. इस वक़्त सभी औरतें सुमति की मेहंदी और उसकी खूबसूरती की तारीफ़ करने में लगी हुई थी. पर उसके बाद क्या हुआ वो किसी को अच्छी तरह से ध्यान नहीं आ रहा था. जैसे सभी शायद किसी नशीली नींद में चले गए थे. और सुमति को भी याद न रहा कि उसके बाद क्या हुआ था.

z10
सुमति को पिछली रात इतना ही याद रहा कि वो औरतों से घिरी हुई थी. पर उसके बाद क्या हुआ था?

अगली सुबह

सुमति अपने बिस्तर से सोकर उठी पर उसने अब तक अपनी आँखें नहीं खोली थी. वो बाहर से कुछ औरतों की आपस में बातें करने की आवाजें सुन सकती थी.

“क्या दूल्हा अब भी सो रहा है?” किसी ने पूछा. “हाँ, कल इतनी रात तक जगा हुआ जो था. पर आज तो उसकी शादी है. कोई जाकर जगाओ उसे”, दूसरी औरत ने कहा.

तभी सुमति को अपने सर पर के प्यार भरा स्पर्श महसूस हुआ. “बेटा सुमित, अब उठ भी जाओ. आज शादी है तुम्हारी!”, सुमति ने अपनी माँ की आवाज़ सुनी और अपनी आँखें धीरे से खोली. उसकी माँ उसके सामने मुस्कुराती हुई खड़ी थी.

सुमति को मुश्किल से बस एक सेकंड लगा होगा समझने के लिए कि वो एक बार फिर से आदमी बन चुकी थी. वो एक बार फिर से सुमित थी. वो अपनी माँ के चेहरे को देख मुस्कुराया. एक बार फिर से माँ का बेटा बनकर सुमित खुश था.

उसने उठकर अपना फ़ोन देखा. उसमे एक मेसेज उसका इंतज़ार कर रहा था. +GOD नंबर से आया मेसेज. “सुमति तुमने बिलकुल सही निर्णय लिया. तुमने पिछले कुछ दिनों एक औरत के कर्त्तव्य का बखूबी निर्वाह किया. इसलिए मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ है कि तुम्हारी हर इच्छा पूरी हो. इसलिए मैं तुम्हे तुम्हारा पुराना शरीर लौटा रहा हूँ. तुम्हारी दुनिया अब फिर से वैसी ही होगी जैसे १४ दिन पहले थी. तुम्हारा दाम्पत्य जीवन सुखी हो. अपनी पत्नी चैताली को हमेशा खुश रखना.”

सुमित उस मेसेज को पढ़कर तुरंत उठ खड़ा हुआ. और जल्दी ही नहाकर उसने चैताली से मिलने की सोची. उसकी माँ ने उससे कहा, “बेटा शादी के दिन शादी से पहले दुल्हन से मिलना ठीक नहीं होता है.” तो सुमित ने जवाब दिया, “यकीन मानो माँ. आज अब कुछ बुरा नहीं हो सकता. मुझे चैताली से बहुत ज़रूरी बात करनी है”

चैताली का घर बस कुछ १०० मीटर की दूरी पर ही था और सुमित दौड़ा दौड़ा चैताली से मिलने गया जो वहां अपने घर के मेहमानों के साथ व्यस्त थी. उसे दरवाज़े से देखते हुए चैताली खुश हो गयी. चैताली की माँ ने सुमित का स्वागत किया और उसकी इच्छा अनुसार, सुमित और चैताली को मिलने के लिए एकांत में एक कमरा दिलाया जहाँ सुमित चैताली से बात करने के लिए बेचैन था..

चैताली भी जल्दी ही वहां आ गयी. अपनी सिल्क साड़ी में वो परी लग रही थी. “क्या बात है सुमित? सब ठीक है न?”, उसने पूछा.

“चैताली. मैं तो सिर्फ ये कहने आया था कि आज मैं अपने आप को दुनिया का सबसे किस्मत वाला आदमी मानता हूँ जो मुझे तुम्हारी जैसी पत्नी मिल रही है. तुम हमेशा से मेरी अच्छी दोस्त रही हो. और मैं भी कहना चाहता हूँ कि मैं हमेशा तुम्हे प्यार करने वाला पति बन कर दिखाऊँगा. तुम्हारी ख़ुशी के लिए मैं कुछ भी करूंगा. और तुम चाहो तो मैं क्रॉसड्रेसिंग भी छोड़ दूंगा.”

“ओहो सुमित! मैंने तुमसे कभी कहा है क्रॉसड्रेसिंग छोड़ने को? तुम्हे पता है ये राज़ सिर्फ हम दोनों के बीच है. मैंने तुम्हे हमेशा सपोर्ट किया है, और आगे भी करूंगी. वैसे भी जब तुम औरत बनते हो, तो मुझे भी तो एक अच्छी सहेली मिल जाती है बात करने के लिए! मैं हम दोनों के बीच और कुछ भी नहीं बदलना चाहती. मैं तुम्हे प्यार करती हूँ और करती रहूंगी. तुम्हे क्रॉसड्रेसिंग छोड़ने की ज़रुरत नहीं है क्योंकि उसके बगैर तुम अधूरे रहोगे. सुमति को मैं अपने जीवन का हिस्सा बनाऊँगी. ये मेरा प्रॉमिस है”, चैताली ने कहा.

18033886_138057923399669_5105859512156221405_n
सुमित जल्दी ही चैताली से मिला. चैताली के साथ सुमति का राज़ सुरक्षित था.

चैताली की बात सुन सुमित का दिल भर आया. उसने उसे गले तो नहीं लगाया पर आँखों से उसने उसे धन्यवाद् किया. दोनों एक दुसरे की ओर देख कर मुस्कुराने लगे. उन दोनों के बीच काफी अच्छी आपसी समझ थी. उन्हें एक दुसरे से कुछ कहने के लिए शब्दों की ज़रुरत नहीं थी. वो जानते थे कि उन दोनों का जीवन बहुत खुबसूरत होगा.

जब अंजलि सुमति के घर में सोकर उठी तो उसे पता चला कि वो भी आदमी बन चुकी थी. उसने अपनी बेटी सपना और अपनी पत्नी को अपने बगल में सोता हुआ पाया. फिर उसने अपनी पत्नी को जगाकर कहा, “मेरी प्यारी धरम पत्नी. मैं तुमसे कुछ कहना चाहता हूँ. मैं जानता हूँ कि तुम सोचती हो कि तुम्हे मेरे हर निर्णय में साथ देना चाहिए. पर मैं तुम्हे बताना चाहता हूँ कि तुम मेरे बराबर हो और हर निर्णय में तुम्हारा उतना ही हक़ है जितना मेरा. तुम अपने विचार से मुझे अवगत करा सकती हो. और एक बात, मैं अपनी बेटी को बढ़ा कर एक स्वाभिमानी औरत बनाना चाहता हूँ. मेरे माता-पिता तुम्हारे साथ भले ठीक से व्यवहार न करते हो क्योंकि तुम्हे पोता नहीं मिला, पर सपना हमारे लिए किसी बेटे से कम नहीं होगी. मैं उसके हर सपने को पूरा करूंगा. और एक माँ होने के नाते तुम भी वैसा ही करना” ये शब्द सुनकर अंजलि की पत्नी दिल ही दिल में अपने पति की ओर शुक्रगुज़ार थी. उसे ख़ुशी थी कि उसकी बेटी बड़ी होकर स्वाभिमानी और इंडिपेंडेंट लड़की बनेगी.

और वहीँ जब मधुरिमा सोकर उठ, तो वो भी अब आदमी बन चुकी थी पहले की तरह. मधुरिमा के लिए तो पुरुष हो या स्त्री, उसका जीवन वैसे ही अच्छा था. उसने अपनी पत्नी अजंता को देखा और कहा, “अजंता, मैंने शायद तुमसे कई बार कहा नहीं है पर तुम्हे पत्नी पाकर मेरा जीवन सचमुच धन्य रहा है. तुम मेरा हर कदम साथ देती रही हो. पता है यदि संभव हुआ तो अगले जनम में मैं तुम्हारी पत्नी बनना चाहूँगा ताकि मैं तुम्हारी सेवा कर सकू!” अजंता के पास कुछ कहने को नहीं था… क्योंकि उसका पति तो हमेशा से ही उसे बेहद प्यार करता था. और फिर अजंता का स्वभाव भी सिर्फ देने वाला था पर उसे बदले में हमेशा बहुत सारा प्यार भी मिलता था.

इन सब से दूर शहर में जहाँ साशा रहती थी, उसकी रात भी चिंता में बीती थी. उसे याद आ रहा था कि कैसे उसने नौरीन के साथ दिल खोलकर बातें की थी. पर जब वो सोकर उठी तो वो एक बार फिर से आदमी बन चुकी थी. और जिस घर में वो थी, वो उसका पहले के घर था जहाँ उसके लड़के रूममेट थे. नौरीन आसपास कहीं भी नहीं थी. वो नौरीन को देखने को बेचैन हो उठी और जल्दी से ऑफिस जाने को तैयार हुई, अब एक आदमी के रूप में. उसे आज एक ज़रूरी काम था.

“नौरीन”, साशा अब लड़के के रुप में दौड़कर नौरीन के पास ओफ्फिए में पहुंचा. “हाँ सुशिल. तुम इतना हांफ क्यों रहे हो? दौड़ कर आये हो क्या?” नौरीन ने साशा के पुरुष रूप सुशील से कहा. नौरीन को पिछले दिनों के बारे में कुछ भी याद नहीं था जब साशा उसके साथ उसकी रूममेट बन कर रही थी.

“नौरीन मुझे तुमसे कुछ कहना है. अर्जेंट!”, साशा यानी सुशील ने कहा. और फिर दोनों एक मीटिंग रूम में चले आये जहाँ सुशील ने दोनों के बीच की चुप्पी को तोड़ते हुए कहा, “नौरीन, तुम ने दुनिया की सबसे अच्छी लड़की हो. तुम सबका सम्मान करती हो और सभी की बिना मांगे मदद भी करती हो, और बदले में किसी से कुछ भी नहीं चाहती. तुम्हे अंदाजा नहीं है कि तुमने मेरे सबसे मुश्किल समय में कैसे मदद की थी. पर मैं वो बात जानता हूँ. इसलिए मैं तुम्हे दिल से धन्यवाद देना चाहता हूँ. उस हर बात के लिए उस हर पल के लिए जिसमे तुमने मेरे साथ दिया था.”

फिर सुशील थोड़ी देर चुप रहने के बाद आगे बोला, “नौरीन, तुम मुझे बेहद पसंद हो. क्या तुम मुझसे शादी करके मेरी पत्नी बनना चाहोगी?”

नौरीन तो सुशील की बात सुनकर हैरान सी रह गयी. वो कुछ कह न सकी. “तुम मेरे सवाल का जवाब दो, उसके पहले मैं तुम्हे कुछ और बताना चाहता हूँ अपने बारे में”, सुशील ने कहा.

और फिर सुशील ने नौरीन को अपनी क्रॉसड्रेसिंग और साशा वाले रूप के बारे में बताया. वो नौरीन को बताना चाहता था पिछले दिनों के बारे में जब साशा और वो साथ रही थी, पर उसे पता था कि नौरीन उस बात का कभी यकीन नहीं करेगी. और उसके पास कोई सबूत भी तो नहीं था. यहाँ तक कि वो फ़ोन में आये sms भी अब उसके फ़ोन से गायब हो चुके थे. सुशील की बात सुनकर कुछ देर सोचने के बाद नौरीन ने सुशील की ओर देखा और बोली, “हाँ. मेरा जवाब हाँ है.” नौरीन मुस्कुरा दी. सच तो ये था कि नौरीन हमेशा से सुशील को चाहती थी और सुशील को ये पता भी नहीं था. पर पिछले कुछ दिनों में सुशील को उसका सच्चा प्यार पाने का मौका मिला था.

z2
नौरीन को ज़रा भी याद नहीं था कि पिछले कुछ दिन साशा उसकी रूममेट बनकर उसके साथ रही थी.

एक बार फिर इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों का जीवन बदल गया था पर इस बार अच्छे के लिए. सुमति यानी सुमित की शादी भी निपट गयी थी जिसमे अंजलि और मधुरिमा उसके पुरुष मित्र बन कर शामिल हुए थे. सभी का जीवन आज ख़ुशी से भरा हुआ था. अब क्रॉसड्रेसर होना किसी के लिए अभिशाप नहीं था.

कुछ दिन बाद

आज इंडियन लेडीज़ क्लब में खुशियाँ ही खुशियाँ थी. और खूब भीड़-भाड थी. न जाने कितने ही आदमी आज यहाँ इकट्ठा हुए थे और खुद को खुबसूरत साड़ियों और लहंगो में सजा रहे थे. क्योंकि आज एक ख़ास दिन था. कुछ दिनों के ब्रेक के बाद इंडियन लेडीज़ क्लब फिर से खुल रहा था. पर इस बार के बदलाव था इस क्लब में. अब ये क्लब न सिर्फ क्रॉसड्रेसर “महिलाओं” के लिए था बल्कि अब उनकी पत्नियों, गर्ल फ्रेंड के लिए भी खुल गया था. बहुत सी क्लब की औरतों की मदद आज उनकी पत्नियां या गर्ल फ्रेंड कर रही थी. उन्हें सजाते हुए वो सब भी खुश थी. और जो क्लब की सदस्य अकेली थी, उनकी मदद के लिए क्लब की सीनियर लेडीज़ तो थी ही. सबके चेहरे पर ख़ुशी थी आज.

पर एक सदस्य जो सबसे ज्यादा खुश थी, वो थी सुमति. सुमति को आज दुल्हन के रूप में सजाया जा रहा था. अंजलि, मधुरिमा और कई औरतें इस ख़ास अवसर पर सुमति को सजाने में मदद कर रही थी. अंजलि और मधुरिमा का साथ पाकर सुमति भी बहुत खुश थी. इन तीनो सहेलियों ने कठिन समय भी साथ में गुज़ारा था, और इस दौरान उनकी दोस्ती और गहरी हो गयी थी. आज इस क्लब में सुमति और चैताली की शादी हो रही थी जहाँ वो दोनों ही दुल्हनें होंगी. सभी “लेडीज़” आज इस शादी में सुमति की तरफ से सम्मिलित हो रही थी और उनकी पत्नियाँ और गर्ल फ्रेंड चैताली की ओर से. सुमति अब दुल्हन के रूप में सजकर तैयार थी. और क्लब की दूसरी औरतें भी जो रंग बिरंगे परिधानों में निखर रही थी. सुमति आज क्लब के सदस्यों के प्रति शुक्रगुज़ार थी जो इस पल को यादगार बनाने के लिए शामिल हुए थे.

z3
इंडियन लेडीज़ क्लब में आज खुशियाँ ही खुशियाँ थी. आज लेडीज़ सुन्दर साड़ियों और लहंगो में सजी थी, क्योंकि आज सुमति और चैताली की शादी का ख़ास अवसर था. सुमति इस वक़्त एक पारंपरिक दुल्हन बनकर अपनी सहेलियों से घिरी हुई थी. इंडियन लेडीज़ क्लब एक बार फिर जाग उठा था.

इंडियन लेडीज़ क्लब की आखिरी मीटिंग में शामिल सभी औरतें आज इस शादी में भी आई थी, बस एक औरत इस शादी में नहीं थी. वो थी अन्वेषा, जिसने पिछली बार राजकुमारी बनाया गया था. कुछ रात पहले जब सभी वापस आदमी बन गए थे, उस दिन अन्वेषा भी बदल गयी थी. पर आदमी बनने की बजाये या एक खुबसूरत औरत बनी रहने की जगह, जब वो सोकर उठी थी तो वो एक कुरूप औरत बन चुकी थी. वो एक बुरे विचारो वाली औरत थी जो अपने अलावा किसी और के बारे में नहीं सोचती थी. अपने सुन्दर औरत के रूप का उसने बहुत गलत फायदा उठाया था. और उसी कर्मो का फल था कि उसे हमेशा के लिए एक कुरूप औरत बनकर अब जीवन गुजारना था. शायद किसी दिन कोई राजकुमार आकर उसे इस श्राप से मुक्त करेगा पर तब तक उसे अकेले ही ऐसे जीवन गुजारना होगा.

पिछले कुछ हफ्ते, एक औरत के रूप में इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों को एक ख़ास शिक्षा दे गया था. क्रॉसड्रेसर होना श्राप नहीं है. ये हमारे ऊपर है कि हम इसे एक वरदान मान कर अपने अन्दर की स्त्री को अनुभव करे या फिर इसे श्राप मानकर अपने जीवन को दुखी करे. हम अपने अन्दर की खुबसूरत स्त्रियोचित भावनाओं और क्वालिटी का उपयोग अपनी जीवन संगिनियों को अच्छे से समझने में उपयोग कर सकती है. पर इसके लिए हमें खुद को अपने जीवन साथ के समक्ष खोलना होगा और उन्हें समझाना होगा कि हम सभी अच्छे लोग, चाहे हम जो भी कपडे पहने. और साथ ही साथ हमें उनकी ज़रूरतों को भी समझना होगा. हम हर समय औरत बनकर नहीं रह सकती उनकी इच्छाओ का सम्मान किये बगैर. किसी भी रिश्ते में एक बैलेंस ज़रूरी है और यह बात ये सभी औरतें समझ चुकी थी. इसलिए आज वो ये खुशियों भरा जीवन जी सकती थी.

लेखिका का नोट:  इस कहानी को ख़त्म करके मुझे बेहद ख़ुशी है. बहुत लम्बा था इसे लिखना और बहुत समय भी लगा. भले ये काल्पनिक कहानी थी और शायद हम सब भी चाहेंगी कि काश हमारे साथ भी ऐसा हो. पर रातोरात हम सब औरत बन जाए, ये शायद संभव नहीं है. पर यही तो इस कहानी का मुख्य सन्देश है. यह हमारे ऊपर निर्भर करता है कि हम अपने जीवन को खुशहाल बना सकते है चाहे हमारे पास सब कुछ न हो. और यदि हम ज़रा कोशिश करे, तो खुशियाँ हमसे दूर नहीं रह सकेगी. मैं प्रार्थना करती हूँ कि जितनी भी क्रॉसड्रेसर औरतें ये कहानी पढ़ रही है उन सबके सपने सच हो और उनका जीवन पुरुष और स्त्री दोनों रूप में खुशहाल रहे.
समाप्त

सभी भागो के लिए यहाँ क्लिक करे

< भाग १४

यदि आपको कहानी पसंद आई हो, तो अपनी रेटिंग देना न भूले!

free hit counter

इंडियन लेडीज़ क्लब: भाग १४

सुमति अपनी शादी के लिए घर आ गई थी. क्या वो इस शादी और अपने नए जीवन के लिए तैयार थी?


यदि आपको कहानी पसंद आये, तो ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर रेटिंग ज़रूर दे!

Click here to read in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

सुमति की शादी

“माँ, सुमति दीदी आ गयी. जल्दी आओ न”, रोहित ने ख़ुशी से अपनी बहन को रिक्शे से आते देख अपनी माँ को आवाज़ दी. सुमति अब अपनी माँ के घर आ गयी थी जहाँ उसकी शादी की तैयारियां जोर शोर से चल रही थी. अब चैतन्य और सुमति की शादी में सिर्फ ८ दिन रह गए थे. अभी भी सुमति को यकीन नहीं हो रहा था पर कुछ ही दिनों में वो एक पत्नी बनने वाली थी. फिर भी, अपने घर में अपनी माँ के पास वापस आकर वो खुश थी.

रोहित भी अब दौड़े दौड़े सुमति के बैग उठाने आ गया था. शिक्षा भाभी जो पड़ोस के घर में रहती थी वो भी दौड़ी चली आई. “सुमति आ गयी! अरे वाह सुमति तो और भी खुबसूरत होकर आई है शहर से”, सर को अपने पल्लू से धक्के शिक्षा भाभी ने उत्साह से कहा. गाँव की रहने वाली शिक्षा भाभी को बड़ा उत्साह होता जब भी कोई शहर से आता. लगता है कि उन्हें सुमति बहुत पसंद थी तभी तो सुमति और रोहित को चलकर आते देखकर इतनी खुश थी वो.

अब तक सुमति की माँ भी दरवाजे पर आ गयी थी. वो हाथ में एक पूजा की थाली लिए खड़ी थी जिसमे एक दिया जल रहा था. अपनी बेटी सुमति को बेहद ख़ुशी के साथ उन्होंने घर में प्रवेश कराया. माँ को पूजा की थाली के साथ देख सुमति ने भी अपना सर अपने सलवार सूट के दुपट्टे से ढँक लिया और माँ उसकी नज़र उतारने लगी. माँ को देखते ही सुमति के चेहरे की ख़ुशी बढ़ गयी थी. पिछली बार जब वो यहाँ आई थी, तब वो घर का बड़ा बेटा थी. आज स्थिति बदल गयी थी पर फिर भी माँ का प्यार बिलकुल वैसा ही था. सुमति ने अपनी माँ के पैर छूने चाहे तो उन्होंने उसे रोक लिया. “अरे बेटी की जगह तो दिल में होती है पैरो पे नहीं”, ऐसा कहकर उन्होंने अपनी प्यारी बेटी के चेहरे को छुआ. माँ बेटी गले मिल अपनी अनकही ख़ुशी एक दुसरे के साथ बांटने लगी.

“अरे शिक्षा. वहां खड़ी खड़ी क्या कर रही है. तेरी ननद आई है, तू भी ज़रा नज़र उतार दे इसकी. स्वागत नहीं करेगी अपनी ननद का?”, सुमति की माँ ने शिक्षा भाभी से कहा जो एक जगह खड़ी होकर यह सब देख रही थी. शिखा सामने आई, और पूजा करके सुमति को गले लगा ली. “कैसी हो भाभी? और आपके शरारती बच्चे कैसे है?”, सुमति ने पूछा. “बच्चे ठीक है सुमति. थोड़ी ही देर में स्कूल से आते ही होंगे. “, भाभी ने जवाब दिया.

“लड़कियों! अभी बहुत समय है बात करने के लिए. पहले सुमति को घर के अन्दर आकर थोडा आराम तो करने दो”, सुमति की माँ ने दोनों से कहा.

अन्दर आकर सुमति अपने कमरे में चली गयी. कितना कुछ बदल गया था उस कमरे में. पहले वो एक लड़के का कमरा हुआ करता था. पर अब तो देख कर ही पता चल रहा था कि वो एक लड़की का कमरा था. और सब कुछ बिलकुल सुमति की एक औरत के रूप में पसंद के अनुसार ही था वहां. जब बचपन में वो सोचती थी कि यदि वो लड़की होती तो अपने कमरे को कैसे सजाती, बिलकुल वैसे ही सब सजा था उस कमरे में. सुमति की बनायीं हुई पेंटिंग भी थी उस कमरे में.

Sumati
नहाने के बाद सुमति ने एक हरे रंग का सलवार सूट पहन लिया.

सुमति कुछ देर अपने बिस्तर पर बैठी जिस पर फूलो के प्रिंट वाली चादर बीछी थी. उसने कमरे की खिड़की से बाहर की ओर देखा तो, वहां से कुछ १०० मीटर की दूरी पे चैताली का घर दिखा जो अब चैतन्य थी, सुमति का होने वाला पति! दूर से ही उस घर में मेहमानों के चहल पहल दिख रही थी. कुछ ही दिन में सुमति उस घर की बहु बनने वाली थी. इस बारे में सोचना भी सुमति के लिए भारी था. पर फिर भी उन विचारो को अनदेखा करती हुई वो नहाने चली गयी. और नहाने के बाद उसने एक हरे रंग का सलवार सूट पहना. एक क्रॉसड्रेसर के रूप में तो सुमति हमेशा साड़ी पहनना पसंद करती थी. पर अब जब वो औरत बन चुकी थी, वो अब सलवार सूट पहनना ज्यादा पसंद करने लगी थी. साड़ी के मुकाबले शायद उसे मैनेज करना ज्यादा आसान था. उसने कुछ देर अपनी माँ के साथ समय बीताया क्योंकि इतने दिनों बाद अपनी माँ से मिल रही थी सुमति. माँ-बेटी ने साथ में लंच किया और फिर सुमति की माँ ने उसे कुछ घंटे सोने के लिए जाने कहा. वैसे भी लम्बी ट्रेन की यात्रा के बाद सुमति थक भी गयी थी. पर वो सोना नहीं चाहती थी. वो अपनी माँ से कुछ बातें करना चाहती थी. न जाने क्यों वो अपनी माँ को बताना चाहती थी कि सुमति उनकी बेटी नहीं बल्कि बेटा हुआ करती थी. पर कैसे समझाएगी वो ये सब अपनी माँ को जिनकी नजरो में आज वो हमेशा से ही उनकी बेटी रही है. इस स्थिति से सुमति अन्दर ही अन्दर थोडा कुढ़ सी गयी थी. पर क्या कर सकती थी वो. अंत में मन की उधेड़-बून के बाद उसने सोना ही उचित समझा.

कुछ घंटे बाद सुमति की माँ ने आकर उसके सर पे हाथ फेर कर सुमति को दुलार से जगाया. “बेटी शाम हो गयी है. अब उठ जाओ.”, माँ ने कहा और माँ की बात सुनकर सुमति उठ गयी. “ओह्ह मुझे तो पता भी नहीं चला इतनी देर हो गयी. शायद ट्रेन की थकान कुछ ज्यादा ही थी.”, सुमति बोली.

“कोई बात नहीं बेटा. वैसे भी घर में मेहमान कल से आना शुरू होंगे. उसके पहले मैं तुझसे कुछ बातें करना चाहती थी.”, सुमति की माँ ने कहा. “क्या बात है माँ?”, सुमति ने पूछा.

“बेटा तू जल्दी ही अब नए घर में चली जाएगी. मुझे तो बहुत ख़ुशी है कि तेरी शादी चैतन्य से हो रही है. बचपन से मैंने अपनी प्यारी गुडिया को चैतन्य के साथ खेलते देखा है और अब तू दुल्हन भी बनने जा रही है.”, माँ ने कहना शुरू किया.

“नहीं माँ, वो गुडिया चैताली थी मैं नहीं. मैं तो लड़का थी.”, सुमति ने मन ही मन सोचा. ये इंसान का दिल भी बड़ा अजीब होता है. जब सुमति लड़का थी तब वो चाहती थी कि उसकी माँ उसे लड़की के रुप में स्वीकार करे. अब जब वो औरत है तो वो माँ को अपने लड़के वाले रूप के बारे में याद दिलाना चाहती है. पर चाहते हुए भी वो माँ से कुछ कह न सकी.

“सुमति, अपने नए घर में सब तुझसे उम्मीद करेंगे कि तू सीधा पल्लू स्टाइल में साड़ी पहने और अपना सर ढँक कर रहे. तुझे कई सारे मेहमानों के लिए खाना भी बनाना पड़ेगा. और किसी भी माँ की तरह, मुझे भी अपनी बेटी की फ़िक्र है. मुझे पता है कि तूने शहर में अकेले रहते हुए खाना बनाना तो सिख लिया है. फिर भी मैं तुझे सीधा-पल्ला साड़ी पहनना और कुछ ख़ास डिश सीखाना चाहती हूँ. तू सीखेगी मुझसे?”

z3
सुमति की माँ ने उसे सीधा पल्ला साड़ी पहनना सीखाया. किसी और माँ बेटी की तरह, उन दोनों का समय भी अच्छा बीत रहा था.

“ज़रूर माँ. मैं तुम्हारी रेसिपी ज़रूर सीखना चाहूंगी”, सुमति ने उत्साह के साथ कहा. वैसे भी लड़के के रूप में वो हमेशा सपने देखती थी कि उसकी माँ उसे बेटी की तरह ट्रीट करेगी और एक दिन अपनी एक साड़ी उसे पहनने को देगी. शायद एक माँ बेटी के बीच का सबसे प्यारा पल होता है ये जब माँ उसे पहली बार अपनी साड़ी गिफ्ट करती है. सुमति अब खुश थी कि आज वो बेटी बन रही है जो वो हमेशा से सोचा करती थी. थोड़ी देर में ही सुमति की माँ उसके लिए एक मेहंदी रंग की साड़ी लेकर आ गयी. तब तक सुमति भी अपना ब्लाउज और पेटीकोट बदल चुकी थी. उसके बाद उसकी माँ ने उसे सीधे पल्ले स्टाइल में साड़ी पहनना सिखाया. सुमति सचमुच बहुत खुश थी अपनी माँ से साड़ी पहनना सिख कर. वैसे सच तो यह था कि सुमति को पहले से ही कई तरह से साड़ी पहनना आता था पर वो यह ख़ुशी महसूस करना चाहती थी जिसमे उसकी माँ उसे बेटी के रूप में स्वीकार कर रही थी. बहुत सुन्दर पल थे वो माँ बेटी के बीच के. इसके बाद दोनों किचन गयी जहाँ सुमति की माँ ने अपनी ख़ास रेसिपी सुमति को सिखाई. दोनों को खाना बनाते वक्त बहुत मज़ा आया. तभी इस बीच सुमति के फ़ोन में एक sms आया. उसने देखा की उसके फ़ोन की लाइट टिमटिमा रही थी. उसने सोचा थोड़ी देर बाद sms देख लेगी पर न जाने क्यों वो उस sms को अनदेखा नहीं कर सकी. “मैं एक मिनट में फ़ोन देखकर आती हूँ माँ”, सुमति ने अपनी माँ से कहा. और फिर अपने हाथ धोकर अपनी साड़ी के पल्लू से पोंछकर वो फ़ोन में मेसेज पढने लगी.

“हेल्लो सुमति! औरत के रूप में नया जीवन कैसा बीत रहा है? क्या तुम्हे अपने पुरुष रूप के जीवन की याद आ रही है? पर तुम तो हमेशा से औरत बनना चाहती थी न? अब तक तो तुम्हे एहसास हो गया होगा कि चाहे पुरुष का जीवन हो या स्त्री का, जीवन में मुश्किलें और उतार-चढ़ाव तो बने ही रहते है. यदि तुम्हारी क़िस्मत में मुश्किलें लिखी है तो वो तुम्हारे कर्मो की वजह से होती है, न कि इस वजह से की तुम्हारा जन्म पुरुष या स्त्री रूप में हुआ है. औरत बनने के बाद भी तुम अपने कर्मो से आज़ाद नहीं हुई हो. तुमने जीवन का ये पाठ अब तक तो सिख ही लिया होगा. पर तुम्हारे पास अब भी मौका है. अच्छे कर्मो से तुम अपने भविष्य को अब भी संवार सकती हो. तो तुम बताओ, क्या अब भी तुम औरत बनी रहना चाहोगी या तुम्हे फिर से पुरुष बनना है? तुम्हारे पास सोचने के लिए एक हफ्ते का समय है. फिर समय का ये चक्र तुम्हारा भविष्य निर्धारित करेगी. हमेशा सुखी रहो यही मेरा आशीर्वाद है.”

बड़ा ही अजीब सा मेसेज था यह. कौन भेज सकता था ये? इंडियन लेडीज क्लब की औरतों के अलावा तो दुनिया में कोई भी सुमति के पुरुष रूप में जीवन को नहीं जानता था. “कौन हो तुम?”, सुमति ने उत्सुकतावश उस sms के जवाब में सवाल पूछा.

“मैं कौन हूँ, इससे क्या फर्क पड़ता है सुमति? कुछ लोग मुझे मोहन के नाम से जानते है और कुछ ने मुझे मोहिनी रूप में भी देखा है. तुम बस इस एक हफ्ते अपने भविष्य की सोचो. एक अच्छी औरत होने का कर्त्तव्य अदा करो, और सब ठीक ही होगा. गुड लक”

उस जवाब के बाद सुमति ने उस नंबर पर कॉल करने की कोशिश की. पर वो नंबर भी अधूरा दिख रहा था. +४६३. उसने ध्यान से देखा तो वो नंबर +GOD था. कोई उसके साथ खेल खेल रहा था. पर इस मेसेज ने उसे अन्दर से हिला कर रख दिया था.

ऐसा मेसेज पाने वाली सिर्फ सुमति नहीं थी. करीब उसी समय, साशा को भी ऐसा ही मेसेज ऑफिस में आया. अंजलि को भी जब वो अपनी बेटी सपना को खाना खिला रही थी. मधु के पास भी ऐसा ही मेसेज आया और अन्वेषा के पास भी. और इंडियन लेडीज़ क्लब की सभी सदस्यों को जो अब सभी उस एक रात के बाद औरतें बन गयी थी. कोई भी उस मेसेज को समझ नहीं सकी. क्या होगा एक हफ्ते में? सुमति के लिए तो वो दिन उसकी शादी के एक दिन पहले का दिन होगा.

अगले ७ दिन

z6
सांतवे दिन सुमति जब उठी तो उसे पता नहीं था कि उस रात उसके साथ क्या होने वाला था.

अगले ७ दिन, सुमति का जीवन चलता रहा. उसके घर में कई मेहमान भी आ गए थे. उसने अपना नया जीवन अब तक स्वीकार कर लिया था और वो पूरी कोशिश करती की उसके आसपास सभी खुश रहे. उसके अन्दर चल रहे द्वन्द को वो अपने तक ही सीमित रखती. और फिर सांतवे दिन जब वो सोकर उठी, तो उसे एक हफ्ते पुराना वो मेसेज याद आया. पर उसे पता नहीं था कि उस रात उसके साथ क्या होगा. वो कुछ देर बिस्तर पर ही लेटी रही, वो अभी किसी से तुरंत बात नहीं करना चाहती थी. उसने बस भगवान से प्रार्थना की कि सब ठीक हो. और फिर बिस्तर से उठकर घर में अभी अभी आये दो मेहमानों से मिलने बाहर निकल आई. उन्हें देख कर वो बहुत खुश हुई, आखिर वो दोनों अंजलि और मधुरिमा थी. वो दोनों अपने परिवार समेत सुमति की शादी में सम्मिलित होने आये थे. अंजलि, अपने पति और सास-ससुर के साथ थी वही मधु अपने पति जयंत के साथ. उन्हें देखते ही सुमति को पता चल गया था कि उन दोनों को भी सुमति की ही तरह एक मेसेज आया था. उसे एक दिलासा हुआ कि चलो आज हम तीनो उस पल में साथ रहेंगी.

उस मेसेज के बाद का एक हफ्ता अंजलि के लिए भी कुछ बदलाव लेकर नहीं आया था. उसे एक पत्नी, एक माँ और एक बहु के रूप में अपने कर्त्तव्य हमेशा की तरह निभाने थे. वो भी सब की ख़ुशी के लिए दिन रात काम करती रहती थी, बिना कोई शिकायत. वो अब ऐसी औरत बन गयी थी जो सिर्फ देना जानती है बिना कुछ किसी से मांगे. असीमित प्यार से भरी औरत बन गयी थी अंजलि. वो तब भी उतने ही प्यार से रहती जब उसका पति देर रात काम से आता और उससे शारीरिक प्रेम करने लगता चाहे वो कितनी ही थकी होती. उसने खुद को अपने पति के प्रति समर्पित कर दिया था.

शादी के घर में, उन सहेलियों के लिए प्राइवेट में समय निकाल कर उस मेसेज के बारे में बात करना थोडा मुश्किल था पर उनकी आँखें एक दुसरे से सब कुछ कह दे रही थी. दिन अपनी गति से बीत रहा था. और दोपहर में सुमति को हल्दी लगाये जाने वाली थी. हल्दी के लिए मधु ने सुमति को उसकी माँ के साथ पीले रंग की लहंगा चोली पहनाने में मदद भी की. और फिर मधु और सुमति की माँ ने मिलकर सुमति को स्टेज पर लेकर आई जहाँ उसे बैठा कर ५ सुहागन औरतें उसे हल्दी लगाने की रस्म पूरा करने वाली थी. मधु तो एक माँ की तरह ही खुबसूरत सुमति को देख गर्व से फूली नहीं समा रही थी. अंजलि पहली सुहागन थी जो सुमति को हल्दी लगाने वाली थी. सुमति जो अब एक खुबसूरत दुल्हन थी, उसने अंजलि की आँखों में देखा. दोनों सहेलियां इस मीठे खुबसूरत पल का आनंद ले रही थी. वो इस पल को हमेशा याद रखेंगी.

z9
अंजलि पहली सुहागन थी जो खुबसूरत दुल्हन को हल्दी लगाने वाली थी. दोनों सहेलियां इस पल को हमेशा याद रखेंगी.

हल्दी के बाद अब दिन जल्दी ही ख़त्म होने को आ रहा था. अब घर में मेहंदी की रस्म निभायी जा रही थी. सुमति के हाथो और पैरो पर खुबसूरत मेहंदी सजाई जा रही थी. और अंजलि और मधु उसके बगल में बैठ कर सुमति की खूबसूरती निहार रही थी. तभी अंजलि को एहसास हुआ कि उसके फ़ोन में कोई मेसेज आया है. बहुत सीधा सा मेसेज था. “क्या तुम तैयार हो आज रात के लिए अंजलि?” ये मेसेज उसी अनजान नंबर से आया था. मधु ने भी अपना फ़ोन देखा और उसमे भी वैसा ही मेसेज था. दोनों ने थोड़ी चिंता के साथ सुमति की ओर देखा जो इस वक़्त अपनी बहनों और भाभियों के संग ख़ुशी से खिलखिला रही थी. वो रात भी शान्ति से बढ़ रही थी. तब तक जब तक सब सो नहीं गए. अब वो समय आ गया था. समय का चक्र चल रहा था. पर अब कुछ होने वाला था.

अगला भाग इस कहानी का अंतिम भाग होगा. उस रात को क्या हुआ जानने के लिए ज़रूर पढ़े.

क्रमश: …

सभी भागो के लिए यहाँ क्लिक करे

< भाग १३ अंतिम भाग >

यदि आपको कहानी पसंद आई हो, तो अपनी रेटिंग देना न भूले!

free hit counter