The daughter who never was – Part 2


Please use the star rating option above to rate this story!

हिंदी में पढ़े/ Click here for all the parts

When I close my eyes, all the past events begin to show up in front of my eyes like a lucid dream. I remember those beautiful moments as a girl when I would chat with my sister Shikha didi for long, and how I would tease my brother-in-law as his young naughty sister-in-law. I also remember those moments which were not as beautiful. I remember how I felt humiliated when I went out as a girl for the first time in this world. I still remember how boys from my school teased me when they found the truth about me. I also remember when another boy touched my body parts inside my saree for the first time… and I certainly remember all the humiliating taunts by Gita. Continue reading “The daughter who never was – Part 2”

बेटी जो थी नहीं – २


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर इस कहानी को रेटिंग दे!

Read this in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

आँखें बंद करती हूँ तो पुरानी यादो की तसवीरें जेहन में दिखने लगती है. कुछ अच्छे पल भी याद आते है कि कैसे मैं और शिखा दीदी हँसते खेलते घंटो बाते किया करती थी, कैसे जीजू के साथ मैं उनकी प्यारी साली बनकर उनको परेशान किया करती थी. पर वो पल भी याद आते है जो उतने अच्छे न थे.. आज भी अच्छे से याद है कैसे बाहर की दुनिया में लड़की बनकर मुझे शर्मिंदगी महसूस करनी पड़ी थी. आज भी याद आता है कि कैसे स्कूल के लड़के मुझे घेर कर छेड़ रहे थे और मुझ पर हँस रहे थे. याद आता है कि कैसे एक लड़के ने मेरे अंगो को मेरी साड़ी के अन्दर हाथ डालकर मुझे छुआ था और… और गीता की दी हुई उलाहना! Continue reading “बेटी जो थी नहीं – २”

देवर और भाभी


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर इस कहानी को रेटिंग दे!

नोट: इस कहानी की लेखिका है “मेल इन साड़ी” जिन्होंने यह बहुत ही प्यारी देवर भाभी की कहानी हमारे expression challenge #3 के जवाब में लिखी है. आशा है आपको बहुत पसंद आएगी! हम तो इस कहानी को पढ़ कर पहले ही दीवाने हो चुके है!

देवर और भाभी का रिश्ता बड़ा ही प्यार भरा होता है| मेरा भी मेरी भाभी के साथ कुछ ऐसा ही था| एक दिन भाभी को पता नहीं क्या सूझी और बोली “देवर जी तुम भी चलो न मेरे साथ मेरी दोस्त की शादी में “| मैं बोला, “भाभी आपकी दोस्त की शादी है और वो भी गाँव में, मैं क्या करूंगा ? और फिर मेरे साथ का कोई होगा भी नहीं बोर हो जाऊंगा।” Continue reading “देवर और भाभी”

August 2017 Edition


Hello readers,
We hope you enjoyed our July edition. Believe it or not, we received more than 100,000 views in a single month of July! Indian Crossdressing Novel has really become big. Thank you all for your love. Continue reading “August 2017 Edition”

बेटी जो थी नहीं – १


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर इस कहानी को रेटिंग दे!

Read this in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

शाम हो रही थी. और ट्रेन के बाहर जाते हुए छोटे छोटे गाँव शाम की हलकी रौशनी में बड़े सुन्दर दिख रहे थे. घरो में रौशनी के लिए बल्ब और ट्यूबलाइट अब चालू होने लगी थी. लोग शायद अब अपने अपने घरो को साइकिल और गाड़ियों से वापस हो रहे थे. और मेरा मन उनको निहारने में लगा हुआ था. Continue reading “बेटी जो थी नहीं – १”

The daughter who never was


z1

In English: This is the story of Sonu who is forced to live a life of a woman. This story navigates through his young life and his relationship with his sisters, mother and his lovers over a course of period. A little emotional but essentially a story of love. Let us know if you liked it.

Part 1: A meeting with sister
Part 2: Becoming a daughter
Part 3: Coming Soon

If you have any suggestions about the evolving story, please contribute your ideas in the comments section. All your feedback are welcome.

हिंदी में: यह कहानी है सोनू की जिसे मजबूरी में एक स्त्री का जीवन जीना पड़ता है. यह कहानी सोनू और उसके बहनों, माँ और प्रेमियों के साथ उसके रिश्तो को बयान करती है. थोड़ी भावुक पर प्यार की यह कहानी पढ़ कर बताये आपको कैसी लगी.

भाग १: दीदी से मुलाकात
भाग २: मैं बेटी कैसे बनी
भाग ३: शीघ्र आएगा

आपके पास इस कहानी के लिए कोई सुझाव हो तो, कमेंट करके अपने सुझाव और विचार अवश्य व्यक्त करें.

free hit counter

Expression Challenge #3 Response


z1.jpg

Hi Ladies, we are so happy to bring all your beautiful responses you submitted for Expression Challenge #3 for the above picture. Like last time, we have marked a few with Editor’s Choice as these entries really stood out. Read all your beautiful stories below. (See all our challenges here!)

Continue reading “Expression Challenge #3 Response”