Indian Crossdresser Album: Purvibai Patel


Please give your ratings using the star rating option above!

Girls,
This time we are presenting pictures from the land of Gujarat! We are proud to feature Purvibai Patel or Purvi Bhabhi as she likes to be called. Like any beautiful sister-in-law, she has her charms. Her delicate body and a beautiful smile is so worth checking out. Let’s see what Purvi bhabhi is going to teach us through her pictures.

इस बार हम आपकी मुलाक़ात कराएँगे गुजरात की धरती से आई पूर्वीबाई पटेल से! वैसे इन्हें पूर्वी भाभी कहलाना ज्यादा पसंद है. और जब बात भाभी की हो तो, पूर्वी भाभी कहीं से भी कम नहीं है. उनकी अदाएं और मोहक मुस्कान बस देखने लायक है. आइये सीखते है कुछ  हमारी पूर्वी भाभी से!

Continue reading “Indian Crossdresser Album: Purvibai Patel”

October 2017 Edition


Updates
[18/10/2017] Check out new photo album of a real crossdresser: Purvibai Patel / पूर्वी भाभी का नया फोटो एल्बम देखे!
[18/10/2017] A new caption #13 The Strange House / वो हवेली is posted.
[16/10/2017] A new caption #12 New Home / गृह प्रवेश is posted.
[12/10/2017] Express yourself with our expression challenge #5! अपने अन्दर की औरत को व्यक्त कीजिये हमारे एक्सप्रेशन चैलेंज #५ के साथ!.
[11/10/2017] A new caption Tie a saree day / साड़ी दिवस is posted.

EDITORIAL

Dear readers,
Thank you for being such loyal readers to our blog, and for your continued support.

This month, we are going to have stories about what it means to being a woman. Stories that wonder what do we crossdressing ladies want. And in a unique feature this month, we are going present an interview-cum-story of one of the most beautiful girls like us in our country.  Not to forget, there will be a lot of pictures of her for us to learn a few tips on style and fashion from her!

Keep reading and visit this page to stay updated with the latest content!

Editor

संपादकीय

प्रिय पाठक,
आप सभी का एक बार फिर दिल से धन्यवाद क्योंकि आप सभी का प्यार हमें निरंतर मिल रहा है.

इस महीने, हमारी कहानियों में आप पढेंगे कि एक औरत होने का अनुभव कैसा होता है. हमारी कहानियों में हम जानेंगे कि हमारी तरह की क्रॉस-ड्रेसर औरतें चाहती क्या है. और इस बार ख़ास हम एक इंटरव्यू लेकर आ रहे है भारत की सबसे खुबसूरत cd महिला का. हमें यकीन है कि उनकी तसवीरें देख कर और उनके अनुभव से हम सभी को फैशन और स्टाइल के बारे में बहुत कुछ सिखने को मिलेगा|

तो पढ़ते रहिये और हमारे इस पेज पर आते रहिये ताकि आप हमारी नई कहानियाँ पढ़ सके!

संपादक

Continue reading “October 2017 Edition”

Indian Crossdresser Album: Mohini Joshi


Please give your ratings using the star rating option above!

Girls,
We are proud to feature Mohini Joshi this time. A splendid girl from Maharashtra who loves to wear sarees! Let’s see what we can learn from this pretty woman.

आइये इस बार हम आपके लिए लेकर आये महाराष्ट्र से मोहिनी जोशी की तसवीरें! मोहिनी को साड़ी पहनना अच्छा लगता, और हमें भी! तो देखते है कि मोहिनी की तस्वीरो से हम क्या सिख सकते है!

Continue reading “Indian Crossdresser Album: Mohini Joshi”

The daughter who never was – Part 6


Please use the star rating option above to rate this story!

हिंदी में पढ़े/ Click here for all the parts

Morning

After finishing breakfast, Shikha didi helped me with the breakfast. I felt really nice when I touched my own soft smooth skin after years. The satin nightie that I was wearing was slipping effortlessly over my body and got me excited a little.

“OK, dear. Now, you should go and take a hot bath. And take out a beautiful saree from my cupboard to get ready. I don’t want to hear our mother nagging about your looks.”, Shikha didi said as she touched my legs to inspect for any spots that may have been left. She wanted to ensure that my waxing was perfect. She seemed satisfied with her work.
Continue reading “The daughter who never was – Part 6”

बेटी जो थी नहीं – ६


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का प्रयोग कर इस कहानी को रेट करे!

Read in English/ कहानी के सभी भागो के लिए क्लिक करे

सुबह

नाश्ता करने के बाद शिखा दीदी ने मेरी फुल बॉडी वैक्सिंग की. सालो बाद अपनी मखमली कोमल त्वचा को महसूस करके मुझे अच्छा तो बहुत लग रहा था. अब दीदी की दी हुई सैटिन की मैक्सी भी मेरे तन पर फिसलते हुए मुझे रोमांचित कर रही थी.

“अच्छा वैक्सिंग तो हो गयी. अब नहा ले और मेरी अलमारी से अच्छी सी साड़ी निकाल कर तैयार हो जा. माँ को कोई शिकायत का मौका नहीं मिलना चाहिए.”, शिखा दीदी ने मेरे पैरो पर हाथ फेरते हुए कहा. वो देख रही थी कि कहीं कोई हिस्सा रह तो नहीं गया वैक्सिंग के लिए. अपने काम से वो संतुष्ट दिखी.
Continue reading “बेटी जो थी नहीं – ६”

The daughter who never was – Part 5


Please use the star rating option above to rate this story!

हिंदी में पढ़े/ Click here for all the parts

Freedom

“Listen, now that you are going to a big city, don’t forget our culture and your manners. I have heard the kind of things the girls from big cities do. Don’t ever forget your limits!”, my mother Gita said as she filled my suitcase with sarees and salwar suits.

z1.jpg
I was going to receive my freedom soon

The time to go and attend my college in Delhi had arrived. My sister Shikha didi and her husband Vinay will be coming to take me with them soon. After years of wait, I was finally ready to be free from the control of my evil mother Gita. I will now be free to live my life as a boy in my new college. But still, my mother was packing my bag with sarees and salwar suits. May be she had really become a mad woman, or she was trying to ignore the fact that she had forced me to live the life of a girl, which I never intended to be. I never saw any remorse or regret on her face for all the bad things she did to me. I silently listened to whatever she was saying to me. It was just a matter of a few hours, and I will be free soon! Continue reading “The daughter who never was – Part 5”

बेटी जो थी नहीं – ५


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का प्रयोग कर इस कहानी को रेट करे!

Read in English/ कहानी के सभी भागो के लिए क्लिक करे

आज़ादी

“अच्छा सुन, शहर जाकर अपने रंग ढंग न बदल लेना. मैंने सुना है बड़े शहरों के कॉलेज में लडकियां कैसे कैसे गुल खिलाती है. अपनी मर्यादा मत भूलना!”, मेरी माँ ने मेरे सूटकेस में कुछ साड़ियाँ और सलवार सूट भरते हुए कहा.

z1.jpg
अब जल्दी ही मैं अपनी माँ के चंगुल से आज़ाद होने वाली थी.

मेरे दिल्ली में कॉलेज जाने का समय आ चूका था. थोड़ी ही देर में शिखा दीदी और विनय जीजू मुझे अपने साथ लेने के लिए आने ही वाले थे. अब सालों के इंतज़ार के बाद मैं अपनी क्रूर माँ गीता के चंगुल से आज़ाद होकर कॉलेज में एक लड़के के रूप में पढने वाली थी. पता नहीं फिर क्यों मेरी माँ गीता मेरे लिए साड़ियाँ और सूट भर रही थी. या तो वो पागल हो गयी थी या फिर वो इस बात को अनदेखा करना चाहती थी कि अपने जिस बेटे को उसने ज़बरदस्ती एक लड़की का जीवन जीने मजबूर की है, वो अब फिर से लड़का बन कर रहना चाहता है. उसके चेहरे पे उसने जो कुछ भी मेरे साथ किया उसके लिए कभी पश्चाताप या दुःख नहीं देखा मैंने. मैं चुपचाप उसकी बातें सुनती रही. बस कुछ ही घंटे और सहना था मुझे और फिर मैं आज़ाद पंछी. Continue reading “बेटी जो थी नहीं – ५”