The daughter who never was – Part 6

My story of how I learnt to live my life as a woman while facing humiliation


Please use the star rating option above to rate this story!

हिंदी में पढ़े/ Click here for all the parts

Morning

After finishing breakfast, Shikha didi helped me with the breakfast. I felt really nice when I touched my own soft smooth skin after years. The satin nightie that I was wearing was slipping effortlessly over my body and got me excited a little.

“OK, dear. Now, you should go and take a hot bath. And take out a beautiful saree from my cupboard to get ready. I don’t want to hear our mother nagging about your looks.”, Shikha didi said as she touched my legs to inspect for any spots that may have been left. She wanted to ensure that my waxing was perfect. She seemed satisfied with her work.
Continue reading “The daughter who never was – Part 6”

बेटी जो थी नहीं – ६

My story of how I learnt to live my life as a woman while facing humiliation


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का प्रयोग कर इस कहानी को रेट करे!

Read in English/ कहानी के सभी भागो के लिए क्लिक करे

सुबह

नाश्ता करने के बाद शिखा दीदी ने मेरी फुल बॉडी वैक्सिंग की. सालो बाद अपनी मखमली कोमल त्वचा को महसूस करके मुझे अच्छा तो बहुत लग रहा था. अब दीदी की दी हुई सैटिन की मैक्सी भी मेरे तन पर फिसलते हुए मुझे रोमांचित कर रही थी.

“अच्छा वैक्सिंग तो हो गयी. अब नहा ले और मेरी अलमारी से अच्छी सी साड़ी निकाल कर तैयार हो जा. माँ को कोई शिकायत का मौका नहीं मिलना चाहिए.”, शिखा दीदी ने मेरे पैरो पर हाथ फेरते हुए कहा. वो देख रही थी कि कहीं कोई हिस्सा रह तो नहीं गया वैक्सिंग के लिए. अपने काम से वो संतुष्ट दिखी.
Continue reading “बेटी जो थी नहीं – ६”

The daughter who never was – Part 5

My story of how I learnt to live my life as a woman while facing humiliation


Please use the star rating option above to rate this story!

हिंदी में पढ़े/ Click here for all the parts

Freedom

“Listen, now that you are going to a big city, don’t forget our culture and your manners. I have heard the kind of things the girls from big cities do. Don’t ever forget your limits!”, my mother Gita said as she filled my suitcase with sarees and salwar suits.

z1.jpg
I was going to receive my freedom soon

The time to go and attend my college in Delhi had arrived. My sister Shikha didi and her husband Vinay will be coming to take me with them soon. After years of wait, I was finally ready to be free from the control of my evil mother Gita. I will now be free to live my life as a boy in my new college. But still, my mother was packing my bag with sarees and salwar suits. May be she had really become a mad woman, or she was trying to ignore the fact that she had forced me to live the life of a girl, which I never intended to be. I never saw any remorse or regret on her face for all the bad things she did to me. I silently listened to whatever she was saying to me. It was just a matter of a few hours, and I will be free soon! Continue reading “The daughter who never was – Part 5”

बेटी जो थी नहीं – ५

My story of how I learnt to live my life as a woman while facing humiliation


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का प्रयोग कर इस कहानी को रेट करे!

Read in English/ कहानी के सभी भागो के लिए क्लिक करे

आज़ादी

“अच्छा सुन, शहर जाकर अपने रंग ढंग न बदल लेना. मैंने सुना है बड़े शहरों के कॉलेज में लडकियां कैसे कैसे गुल खिलाती है. अपनी मर्यादा मत भूलना!”, मेरी माँ ने मेरे सूटकेस में कुछ साड़ियाँ और सलवार सूट भरते हुए कहा.

z1.jpg
अब जल्दी ही मैं अपनी माँ के चंगुल से आज़ाद होने वाली थी.

मेरे दिल्ली में कॉलेज जाने का समय आ चूका था. थोड़ी ही देर में शिखा दीदी और विनय जीजू मुझे अपने साथ लेने के लिए आने ही वाले थे. अब सालों के इंतज़ार के बाद मैं अपनी क्रूर माँ गीता के चंगुल से आज़ाद होकर कॉलेज में एक लड़के के रूप में पढने वाली थी. पता नहीं फिर क्यों मेरी माँ गीता मेरे लिए साड़ियाँ और सूट भर रही थी. या तो वो पागल हो गयी थी या फिर वो इस बात को अनदेखा करना चाहती थी कि अपने जिस बेटे को उसने ज़बरदस्ती एक लड़की का जीवन जीने मजबूर की है, वो अब फिर से लड़का बन कर रहना चाहता है. उसके चेहरे पे उसने जो कुछ भी मेरे साथ किया उसके लिए कभी पश्चाताप या दुःख नहीं देखा मैंने. मैं चुपचाप उसकी बातें सुनती रही. बस कुछ ही घंटे और सहना था मुझे और फिर मैं आज़ाद पंछी. Continue reading “बेटी जो थी नहीं – ५”

The daughter who never was – Part 4

My story of how I learnt to live my life as a woman while facing humiliation


Please use the star rating option above to rate this story!

हिंदी में पढ़े/ Click here for all the parts

That day in school

I want to sleep but I can’t. I had been tossing in my bed, and it’s already 11 at night. And my mind keeps reminding me of that day in school when I came to know that Akhil knows the secret of my dual life as a girl at home and a boy at school. I was really anxious that day. And why wouldn’t I? If Akhil decided to tell everyone about me, my life in the school would have turned for worse.

There was not much I could do after Akhil had left me standing there on the road alone. I could only wait and watch what happens in the school. Moreover, I had to rush back home to cook for Gita. She was capable of making my life more miserable than anyone else ever could. So, I bought vegetables as soon as I could, cooked lunch for Gita, and changed my clothes to go to the school. I was nervous to say the least. I even wondered why I even bothered to go to school that day. I was expecting a group of Akhil’s friend waiting for me to arrive, and laugh at me. With that nervousness, I entered my school building and walked towards my class, expecting a group of boys to laugh at me any moment. Each step felt like a torture.
Continue reading “The daughter who never was – Part 4”

बेटी जो थी नहीं – ४

My story of how I learnt to live my life as a woman while facing humiliation


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का प्रयोग कर इस कहानी को रेट करे!

Read in English/ कहानी के सभी भागो के लिए क्लिक करे

स्कूल का वो दिन

मैं सोना चाहती हूँ पर अब भी नींद नहीं आ रही है. बिस्तर पे करवट बदलते रात के ११ बज चुके है. और आँखों में अब भी स्कूल का वो दिन याद आ रहा है जिस दिन मुझे पता चला था कि अखिल मेरे दोहरे जीवन का  राज़ जान चूका है. बड़ी बेचैन थी उस दिन मैं. होती भी क्यों नहीं? अखिल ने यदि सभी को मेरे बारे में बता दिया तो स्कूल में भी मेरा जीना मुश्किल हो जाता.

उस दिन सड़क पर बीच में अकेले खड़ी खड़ी मैं अखिल को जाते हुए देखते रह गयी. अब मेरे पास बस एक ही रास्ता बचा था यह देखने का कि अब स्कूल में आगे क्या होता है. मैं घर से गीता के लिए खाना बनाने के बाद कपडे बदल कर लड़के के रूप में स्कूल के लिए निकल गयी. नर्वस तो मैं बहुत थी. सोच रही थी कि आखिर क्यों अपनी बेईज्ज़ती कराने स्कूल जा रही हूँ मैं? मेरे मन में बस यही विचार आ रहा था कि स्कूल पहुँचते ही अखिल अपने दोस्तों के साथ मेरा मज़ाक उड़ाने के लिए तैयार होगा. इसी सोच में मैं स्कूल पहुँच कर अपने क्लास की ओर बढ़ने लगी कि कभी भी मुझ पर हँसने वाले लोग मिल सकते है मुझे. क्लास की ओर बढ़ता एक एक कदम किसी टार्चर से कम नहीं था. Continue reading “बेटी जो थी नहीं – ४”