प्रतिभा: एक अजनबी से मुलाकात


कृपया ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर इस कहानी को रेटिंग दे!

संपादक के विचार: हम नहीं चाहते कि इस कहानी को पढ़कर पाठक समझे कि क्रॉसड्रेसर कहीं से भी किसी पुरुष या स्त्री से कमतर है. इस कहानी का विषय आपके लिए ज़रुरत से कहीं अधिक हॉट और सेक्सी हो सकता है. आपको चेतावनी दी जा चुकी है.

लेखिका: प्रतिभा मेहरा

Click here to read this story in English

जीवन के उतार चढाव से गुज़रते वक़्त परिवर्तन हमारे जीवन में चलता रहता है. और इस परिवर्तन की यात्रा में हम कुछ नया ढूंढ पाते है कुछ नया सिख पाते है

हर किसी की तरह, मेरी ज़िन्दगी में उतार चढ़ाव थे जिसने मुझे अपने बारे में कुछ जानने का अवसर दिया कि मैं वाकई में कौन हूँ और क्या चाहता हूँ. मेरा नाम रोहित है, ३२ साल का शादी शुदा इंसान और मुंबई में रहने वाला, एक MNC में काम करता हूँ. यह मेरी आत्मा-साक्षात्कार की कहानी है, एक कहानी उस दिन की जब मेरी दुनिया हमेशा हमेशा के लिए बदल गयी. Continue reading “प्रतिभा: एक अजनबी से मुलाकात”

Pratibha: A wild encounter


Please use the star ratings above to rate this story!

Editor’s note: We do not want our readers to feel that crossdressers are lesser than man/woman in any way. The subject matter of this story may be too hot for you to handle. You have been warned!

Author: Pratibha Mehra

इस कहानी को हिंदी में पढने के लिए क्लिक करे

Transformation is a process, and as life happens there are tons of ups and downs. It’s a journey of discovery – there are moments on mountaintops and moments in deep valleys of despair.

Like everyone else in this world, my life had its ups and downs, and that led me to discover who I really was. I am Rohit, 32 yr old married guy from Mumbai, working for an MNC and with a great taste for finer things in life. And this is my story of self-discovery, a story about an incident when my world and my life turned upside down completely. Continue reading “Pratibha: A wild encounter”

Ursula in Wonderland

Ursula in wonderland


Please use the star rating option above to rate this story!

Special Note: We thank Ursula Unni for this story. She wants to dedicate this story to all lovely closet CDs who are living their CD lives hidden from everyone in a wonderland of their own.

The house was empty.. but it was a house so full of possibilities for me.This had been a moment that i was yearning for so long. I rushed upstairs, closed the windows, shut the doors, slipped out of my uncomfortable tshirt and shorts and just stretched and smiled. This was the day! Continue reading “Ursula in wonderland”

रूममेट: भाग १


नोट: कृपया ऊपर दिए गए स्टार रेटिंग का उपयोग करके कहानी को रेटिंग अवश्य दे.

सभी भागो के लिए यहाँ क्लिक करे/ Read in English here

“तुमने तो स्वेटर और टूथब्रश रखा ही नहीं”, मेरी पत्नी ईशा ने मुझसे कहा. उसके तेवर बता रहे थे जैसे उसे मालूम था मैं अपनी यात्रा के सामान में कुछ न कुछ भूल रहा हूँ. वो मेरे सूटकेस में सामान रखने लगी.

“ईशा, कैलिफ़ोर्निया में ठण्ड नहीं होती. और टूथब्रश तो होटल में भी मुफ्त  मिल जाता  है.”, मैंने अपने बचाव में कहा.

“ओहो निशांत, मैं कैलिफ़ोर्निया की बात नहीं कर रही. हवाईजहाज में तुम्हे ठण्ड लग जायेगी. तुम भी न! बिलकुल सोचते नहीं हो.”, ईशा ने शिकायती लहजे में कहा. पर उसकी शिकायत में प्यार भी बहुत छुपा हुआ था.

“आज ग्रोसरी शौपिंग करते वक़्त गौरव भैया और नीतू भाभी मिले थे. गौरव भैया बता रहे थे कि आपके सबसे अच्छे दोस्त चेतन कैलिफ़ोर्निया में ही रहते है.”, ईशा ने कहा.

“हाँ”, मैंने संक्षिप्त में उत्तर दिया.

“सुना है कि वो आपके बेस्ट फ्रेंड है. पर इतने सालो में हमारी उनसे मुलाकात या बात तक नहीं हुई. बस तस्वीरों में देखा है उन्हें. ये कैसे बेस्ट फ्रेंड हो आप?”, ईशा ने मुझसे फिर पूछा.

“मैडम, जब मैं US आया था तब वो इंडिया में ही रह गया. और दोबारा कभी एक शहर में मुलाक़ात ही नहीं हुई. समय के साथ दोस्ती भी छुट जाती है.”, मैं ईशा को सच बताया. पर ये पूरा सच नहीं था.

“अब उनके शहर जा ही रहे हो तो मिल लेना उनसे”, ईशा बोली.  “देखता हूँ.  ऑफिस के काम से फुर्सत मिल जाए तो चेतन से भी मिल लूँगा. “, मैंने जवाब दिया.  मेरी चेतन से मिलने की कोई इच्छा नहीं थी.  शायद हिम्मत भी नहीं थी.

Continue reading “रूममेट: भाग १”

Roommate: Part 1


Note:Please use the star ratings above to rate this story.

Click here for all the parts of this story/हिंदी में पढ़े

“You forgot to pack your sweater and toothbrush”, my wife Isha said to me. She could always tell that I would definitely forget something in my travel suitcase.

“My dear wife, I am going to California! I don’t need a sweater there. And I could have gotten a toothbrush for free at the hotel”, I tried to defend myself.

“Ohho Nishant. I am not talking about California. But you will feel cold inside the airplane. My dear husband, you should think twice when you are travelling.”, she said in a complaining tone. But there was a lot of love hidden behind that complaint. She cares for me.

“By the way, I met Gaurav bhaiya and Neetu bhabhi at the grocery store today. Bhaiya was telling me that your best friend Chetan lives in California.”, said Isha.

“Yes”, I said. I didn’t wanna say much.

“How come we haven’t met your best friend in all these years? I have seen him only in your old pictures. What kind of friends don’t talk or see each other for years?”, Isha asked.

“What can I say? Ever since I came to the US, he remained in India for long, and we were never really in the same place.”, I gave a truthful answer to Isha, but it was not the complete truth.

“I hope you can make time to see him in California.”, she said. “Let’s see if I can manage free time from the office work to meet Chetan.”, I responded. I didn’t really want to meet Chetan. Honestly, I lacked the courage to face him.

Continue reading “Roommate: Part 1”

A night to remember


Disclaimer: This story has been contributed by the lovely Pratibha Mehra. This is based on her real life experience, and we truly believe it’s worth reading until the end. But we must give you a warning: this story may be a little bit too hot for you to handle! So pause or stop to enjoy this story. Have fun reading!

Prologue

No two humans are alike, and same is true for crossdressers. Every crossdresser has a unique taste and experiences which make them the woman they are today. And this story is about my one steamy experience.

I have been dressing up for about 5 years now. I am obsessed with sarees in general! And I am a huge fan of gujju/marwari bhabhis. I love how they drape their bodies in sarees with snug fitting blouses, and go about doing their tasks like dropping their kids to school or shopping for groceries. I don’t think they know the sexuality and sensuality their body oozes when they are going about doing these things. No wonder I love making out with such pretty women in colorful sarees. Like a bee, I love tasting juices offered by these beautiful flowers. I love to see it when they exhibit their sexuality and sensuality during love making as their bodies gyrate in freedom. But more importantly, with them, I get to learn what it means to be a woman, and that my dear friends, comes in real handy when I become a pretty woman in saree myself in a bed with another man! And this story is about one such steamy night when I became a marwari diva with a man.

Marwari and Gujju woman go about doing their daily tasks without realizing the sexuality and sensuality their body oozes when they are going about doing these things.

My Story

It all started when I found out about Planet Romeo. It’s a gay dating site, and has a lot of people there! So I uploaded a pic of mine and got a few hits here and there. One of them was Nitin Shah, he is an older gentleman of about 48-50 years of age. He stays in Borivali (Mumbai) which is a hub of gujarati traders! Also since his surname was Shah, I knew he was a gujju! Looking at his name, I had a tiny hope that he will fulfill my wish of becoming a gujju/marwari woman.

He pinged me one day saying he would like to meet up on the following weekend as his wife was out. We didn’t exchange pics as I trusted him for some reason, and he did too. So we decided to meet at 7.00 after work, I did tell him that I liked to dress up and asked him if that would be a deal breaker, as I have met plenty of gay/bi men who do not like crossdressers. He seemed pretty cool with that! He had never met a crossdresser before so even he was looking forward to experiment!

So the day arrived. I couldn’t wait till the day got over and then the clock struck 6.30. I made my way to Borivali station, we decided to meet near the foot over bridge. Also we had decided that if anyone of us found the other person not up to their expectations, we can opt out and leave. As I saw him, there he was. A bald guy with a bit of paunch and a heavy mustache, he was also wearing spectacles. He was wearing a half sleeve shirt and trouser. He definitely looked like a well-off gujju trader! I kind of liked what I saw. He laid his eyes on me and gave me a sly smile. A smile that said that meant that he liked what he saw.

At that time, I was in my jeans and t-shirt with a backpack. He came close and shook hands with me, and gave me a side hug. He held me by my waist and took a handful of my waist in his hands and said “sexy kamar hai tumhari (You have a sexy waist!)”. I felt super weird as this was the first time we were meeting, and he pinched and grabbed my waist. It happened very quickly so I couldn’t react. Also since I was still in my t shirt and jeans, it felt pretty weird. Then he said let’s take a Rickshaw to his place. I agreed and hailed a Rickshaw. He told the address and we both sat in it. We just had a bit of casual talk about work and family and stuff. We kept it minimum though, he also made sure that he put his arms around me and pushed his fingers through my hair at the back of my head. I could see he was trying to be the dominating guy between us which by all means was fine by me. I felt myself rubbing his thighs through his pants. Then I got scared, what if he kisses me in the rickshaw? I would be super embarrassed!! So then I took my hand back and folded them together. We reached his place in 15 minutes. He asked me to wait while he goes up and check out if his neighbors had their door closed and check for the maid too. I said OK and went to the nearest grocery shop, and bought a bag of lays chips while I waited for his call. He called me in about 10 minutes. And he told me to come to his apartment on the 6th floor. I was a bit apprehensive, and was thinking for a moment. He called again and said “kahaan ho bahu rani, tumhara intezaar kar raha hoon. Jaldi aao na apne sasurji ke pass.” (Where are you dear daughter-in-law, your father-in-law is eagerly waiting for you!). The moment I heard these lines, I melted and felt butterflies in my tummy. I didn’t reply and just started walking towards the building!

I took the lift and pressed the button to the 6th floor. When I reached, he opened the door still clad in his shirt and trousers. He said let’s take a bath first. I said cool as it was hot and humid. Also I wanted to smell nice and fresh for Nitin. He went in the shower first and called me in. I was super excited! I got out of my jeans and t-shirt, took of my underwear and joined him in the shower.

The moment I joined him in, he hugged me tightly! I loved being held by him too. He started rubbing my back with his big and coarse hands. I loved that feeling. Then he moved a bit lower and held me by my waist! I gasped, he then reached my button and started kneading them with his hands. I was enjoying all the attention when suddenly he put his hands on my shoulder. I knew what was to come but I didn’t know how to react then he pushed me on my knees very gently. I followed it too with a throbbing heart. When I was completely down I tried to look at his face but the water from the shower faucet was ruining my vision.

Then, right in front of me was a modest 5.5 – 6 inches of man meat. I started soaping it a bit and cleaned it thoroughly, thankfully(or not) he let me get up once the soap was washed off his manhood. Then we dried ourselves and then he asked “Kya pehnogi beti” (What will you wear dear daughter?). It felt awesome as well as a bit perverse when he called me beti! A bit about me here: I am 27yrs old, with a bit of facial hair. I do not look feminine and I don’t intend to either at least face wise. I’m not too much into make up either. I just love dressing up. I am 5.10 and 78 kgs and have some nice folds at my waist. And when I wear sarees, my nice fleshy back creates sexy folds when I wear those low cut blouses! You know what I mean, don’t you? Still you have no idea, how sexy I can look in those blouses!

Back to the story:) So when he asked me that, I felt a bit shy and told him that I would like to wear a saree! I knew that his absent wife being a gujju woman would have a wonderful collection of expensive sarees. And I didn’t want to miss this opportunity to dress up to my liking. He opened his wardrobe and there was one of the best collection of sarees that I have ever seen, right in front of me. For a moment, I was lost in the beautiful treasure that was in front of my eyes.  I felt elated because all those pretty sarees belonged to me tonight.

He asked me if I liked any of the sarees “Sasu maa” had. I blushed and nodded. There was also a huge framed picture of them both on the wall. His wife was a bit on the heavier side, fair and had beautiful eyes. I am glad for that as her blouses would fit me well.

I asked him if I could dress up in private and get ready for him. He obliged and locked the door behind him. For the next 2 minutes I just stood there in awe of the collection that was in front of me. I also checked the lower drawers and they had nighties, bras and panties. They were not fancy just the simple cotton ones but the fact they were worn by his wife made them hot and special! I could picture her getting ready and wearing all of these things one by one. I got a hard-on just thinking about it. I wondered how she might be in the bed. But no matter what, I knew that I would be a much better woman tonight! Because I know what men want!

Nitin’s wife had a wonderful collection of sarees. I myself wanted to wear a lehariya/bandhani saree that is typically worn by a gujju marwadi woman.

Then I picked up a lehariya / bandhani saree, that is typically worn by gujju marwadi women. Picked up a matching blouse that had a pretty deep back and had cups in it. The saree had a bit of embroidery on the pallu. The blouses also had latkans at the back to tie the dori (string). I picked up a white satin petticoat to wear beneath the saree! I draped the saree in the next 15 minutes. Getting the pleats right and the length of the pallu right was a bit of a task! But in the end I was happy and satisfied with the result. I had not used any pins to secure the pleats of the saree as I didn’t want any hindrance to be faced by him while he is stripping the saree off my body! I wore it a bit lower than my navel, and had my pallu bunched up at my shoulder!

c1
As I wore that gorgeous saree with a deep cut blouse, I already felt like a vixen. I, like a shy daughter-in-law, called him to tie the knot on the back of my sexy blouse.

I definitely looked hot, like I would fuck me kinda hot!! I was feeling like a sexy vixen draped in that saree. Just when I was getting out of the room, I saw a Kamar bandh hanging in the wardrobe. I wrapped it around my waist and gave my hips a few shakes. I loved the way it juggled on the waist. Then I called out “Nitin ji, zara meri choli ki dori kas dijiye” (Nitin ji, can you please tie a knot on the back of my blouse?). He at once came in and was astonished to see me. He was getting horny looking at me, and his hands directly went to his crotch and he started stroking his cock! I gave him a smirk and said “Rukiye na, pehle meri dori bandh dijiye” (Come on dear, can’t you wait a while? At least, tie my knot first.) I turned my back towards him as I showed my sexy deep cut blouse with sexy folds on my waist.

He went behind me and tied a knot. I could feel his hot breath on my naked back as he did that. I then asked him if he could tie a mangalsutra around my neck. He said yes, and I gave him the long mangalsutra that was in the wardrobe. It was a dream come true moment for me. I am getting horny just by writing and reminiscing that day!

I then went into the kitchen to grab a bottle of water and got back to the bedroom. Then he held me and said ” Bahut hua nakhra jaan, abhi bahut garam ho gaya hoon.” (Darling, enough of your flirtations. I am already too hot for you now!)  I understood what he meant and stood in front him and spread my arms while I managed my beautiful saree. He grabbed me in his loving embrace kissing my cheeks and neck, he also started biting and kissing my earlobes! Then suddenly he pushed me away, a gentle push to move me a bit. Then he took off his Kurta, the white chest hair in the yellow bedroom light looked amazing. I was going to experience becoming a woman soon!

I took the free end of my pallu and tucked it in my waist like a naughty woman. Then I squatted in front of him and looked at the throbbing cock right in front of me dripping and glistening with pre-cum. It was very difficult for me to control my self. I was ready to become the woman of this man’s dreams. I was ready to give this man the most amazing experience of his life. I knew what to do next that will rock him.  I took his cock in my hand an started gently massaging. I started off with slow loving strokes and increased my speed and a bit.

Then I slowly took the cock head and placed it on my tongue. Then wrapped the upper part of the cock with my upper lips and kept still for a few moments and looked at him in the eyes. Then I started moving my mouth on that hard cock. Oh! How I loved that moment! After sucking it for about 5 minutes, he motioned me to get up and pulled me in for a kiss. I knew he loved it! Then he signed me to turn around, and grabbed my ass. I knew what was gonna happen, then he put his hands around my waist and hugged me from behind. I could feel his cock through the satin fabric of the petticoat and saree.  The saree and the satin petticoat that came in between me and his manhood, made me go wild. It was such a sexy tease!

I loved that feeling, he started kissing on my neck and back. I made him sit at the edge of the bed and seductively picked up the rear portion of the saree then the petticoat. I felt like such a slut when I raised the back portion of the saree and stood there in his house waiting to be ravaged and loved by him. I loved it how my saree though still wrapped around my waist, easily made way for him.

Then I lowered and backed up my thick ass on his cock. It didn’t go in, but the sensation of feeling a throbbing cock near your ass hole is amazing. I just started rubbing his cock all over my naked ass. Then I let my saree and petticoat fall on his thigh and kept on grinding! He was pretty wild from this point on, he said things like “Ragdo beti, Zor se ragdo” (Rub it hard dear) and ” Pura Aurat banaunga tujhe rani” (I am going to make you a complete woman tonight my dear princess). He started grunting and moaning, I started playing along with him too by replying in hindi like a Desi bitch in heat!! Then suddenly it went all the way in.. I couldn’t believe it!! I had a man’s cock buried inside my ass and it felt amazing! He started going in deeper and I was loving it. He started calling me names and I loved it! Then I got off him and stepped away from him. He looked disappointed and called me back, I said no as I mocked him. I straightened out my saree and thankfully it had not come off completely. I went to the living room, while walking out the bedroom door I swayed my ass a little more than usual. He got up from the edge of the bed and followed me to the living room naked with his manhood dangling.

I sat on the sofa and looked at him. I told him to get his cock near my face, then I wrapped the mangalsutra on his cock and started licking it. I also looked at his face continuously while bobbing up and down on his throbbing meat. It was a sight to see, he was squeezing the front of my padded blouse and I was reacting like woman getting her breasts mauled!

So here I was,  in a man’s own living room with his manhood in my mouth and being treated like an absolute woman! He then roughly grabbed my hair and chocked my throat with his increasing hardness. I looked at his face and saw the desperation on his face to ejaculate. I didn’t want him to, not so soon. I had only started to enjoy this and didn’t want this to end it so soon. I took him out of my mouth and slapped my cheeks with the throbbing cock. Then I told him to sit on the sofa as I raised my saree and petticoat and spread my legs. Then I stood on the sofa and squatted on his cock this time facing him. His cock was again at the opening of my eager ass, and his face staring at my blouse. I can’t explain that feeling when your man is admiring you with his face so close to your chest, while you can feel his admiration hardening up below there! I felt a little bit shy and covered his face with the pallu of my saree. The saree was a bit transparent and he could still look at me. His expressions turned more aggressive behind that saree. I loved it, and gave a mischievous smile to him as I let myself go free. His cock just slid inside my aching love hole. An ‘Aah’ just escaped out of my mouth, that’s the moment I realized that I was absolutely loving this.

With the cock inside me, I was feeling like a proper woman getting a good loving from my lover. He held me by my waist grabbing my love handles and started thrusting, slowly and steadily. I just wished that this moment could go on forever. He was lovingly caressing my open back through the almost backless blouse that I was wearing. Then suddenly he grabbed my waist with one hand and the saree bunched up at my waist with his other hand and sped up his strokes. He also started moaning and grunting, this turned me on even more and I increased the pace of my squats to match his hard thrusts. The mangalsutra was still there dangling in my neck on the blouse.

c3
I was getting restless and seductive. And I loved it when he kissed all over my neck and the back. His fingers touch would send shivers all over my body! Tonight, I was going to change his idea about what it means to be with a hot woman.

Then he started to part my ass cheeks so that he could get further inside me. I was pleasantly surprised by how deep he was going with each thrust. I started arching my back due to the pleasure I was getting. Uff I am getting hard just by thinking about it now. He started moaning and grunting and also started calling me ” a bitch”, a woman, a filthy cock sucking whore, and a lot more things. I didn’t mind it at all as I loved a bit of dirtiness and kinkiness too. I was also asking him to fuck me and use me like his whore. Things were too hot now, so I took his head and placed it between my ‘breasts’ on my chest. I hugged him tight and started moving vigorously on his cock while he increased his thrusts to fuck me. I could feel him building up a huge orgasm and I didn’t want him to waste it by cuming in my ass. So I asked him if he was on the verge of cuming, he nodded yes. He continued penetrating my love hole. The room was filled with an aroma of sex and moans of the two of us lovers in a heat. Then he said ‘baby main jhadne wala hoon‘ (Baby I am about to cum). I said him to stop and got off his cock and lap at once and kneeled down in front of his cock, I also took my pallu and put it on my head like a bahu would in front of her elders. I was ready for my final moment. What happened next? I am a little shy to write all that. But I can tell you this: I became a fully satisfied woman as he experienced the most intense moment of his life. Now, he knew that no normal woman can ever fulfill his desires the way I did. I became that “special” woman of his desire.

He kissed me on my lips. Satisfied and spent he laid there on the sofa, while I started getting up from the floor taking care of my saree, to get ready and leave as it was already late. He stopped me and offered to stroke me and please me. Afterall, my excitement, my hardness was really bulging out in that saree. The feeling of satin petticoat on it, kept it hard all the time. But I replied “I am your bahu now and I m there to only take care of you, and you don’t have to worry about me”. Then I got up and went to the bedroom to change. I walked like a seductress to tease him once more. He kept looking at me as I walked away from him. I knew that he would always remember that walk of the seductress in that gorgeous saree. And no other woman but me, would ever be able to walk in that saree for him the way I did.

Slowly, I got out of the saree and slid out of the blouse. I folded the saree blouse and the petticoat and neatly placed it in the wardrobe the way it was before. Of course, now that saree had the hot memories of me making that man wild. I again looked at his wife’s picture, smiling adoringly at the camera. I smiled looking at her. I stroked myself just thinking about her and how I managed to get her husband to love me in spite of her being so beautiful! I was proud of myself for that. Then I gave a kiss on Nitin’s cheek and we said goodbyes until we meet again, and we definitely met again. Like lots of times!! That’s to be continued in the later parts.

Do you have any stories like this to share? If yes, send us a message on our facebook page. Visit our facebook page!

Like/Follow us on our Facebook page to stay updated

free hit counter

मैं परिणिता: अंतिम भाग


अब तक आपने मेरी कहानी में पढ़ा: यह कहानी है मेरी भावनाओं की, एक आदमी से औरत बनकर जो भी मैंने अपने बारे में समझा| मेरे दिल से निकली इस कहानी में प्यार है, सुकून है, सेक्स भी है, और औरत होना क्या होता उसकी सीख भी| जब से होश संभाला है, मैं जानती हूँ कि मेरे अंदर एक औरत बसी हुई है। पर दुनिया की नज़र में मैं हमेशा प्रतीक, एक लड़का बनकर रही। कुछ साल पहले जब मेरी शादी परिणीता से हुई, तो उसे भी मेरे अंदर की औरत कभी पसंद न आयी। हम दोनों पति-पत्नी US में डॉक्टर बन गए। पर मेरे अंदर की औरत हमेशा बाहर आने को तरसती रही। किसी तरह मैं अपने अरमानों को घर की चारदीवारियों के बीच सज संवर कर पूरा करती थी। पर आज से ३ साल पहले ऐसा कुछ हुआ जो हम दोनों को हमेशा के लिए बदल देने वाला था। उस सुबह जब हम सोकर उठे तो हम एक दूसरे में बदल चुके थे। मैं परिणीता के शरीर में एक औरत बन चुकी थी और परिणीता मेरे शरीर में एक आदमी। हमारे नए रूप में सुहागरात मनाने के बाद हमारा जीवन अच्छा ही चल रहा था, और एक औरत के बदन में मैं बेहद खुश थी| पर परिणीता, जो अब मेरी पति थे, वो तो पुरुष के तन में एक औरत ही थी| और उसी औरत की तलाश में अब मेरे पति क्रॉस ड्रेसर बन गए थे और उन्होंने अपने लिए नाम रखा था ‘अलका’! अब मेरी कहानी का अंतिम भाग –

६ महीने बाद

रात हो चुकी थी| हम पति-पत्नी खाना खा चुके थे और मैं बर्तन धोकर अब बस सोने के लिए तैयार थी| मैं जैसे ही अपने बेडरूम पहुंची उन्होंने मुझे कस के सीने से लगा लिया| मैं जानती थी कि वो क्या चाहते थे|

“नहीं, अल्का! प्लीज़ अभी नहीं”, मैंने कहा|

हाँ, पिछले ६ महीने में काफी कुछ बदल चूका था| अब मेरे पति जैसे ही घर लौटते, वह तुरंत स्त्री के कपडे पहनकर अल्का बन जाते| अब तो उन्होंने अपने बाल भी लम्बे कर लिए थे और तन को पूरी तरह से वैक्स करके उनकी त्वचा बेहद स्मूथ हो गयी थी| वो अब बेहद ही आकर्षक स्त्री बन चुके थे| और आज तो उन्होंने रात के लिए सैटिन की सेक्सी स्लिप पहन रखी थी| मैं जानती थी कि आज रात उनका इरादा क्या था| इसलिए तो उन्होंने एक बार फिर मुझे अपनी बांहों में जोर से पकड़ लिया|

मैंने धीरे से दर्द में आंह भरी और कहा, “कम से कम मुझे साड़ी तो बदल लेने दो|” मैं नखरे करने लगी| आखिर पत्नी जो ठहरी, एक बार यूँ ही थोड़ी मान जाती चाहे मेरा भी दिल मचल रहा हो|

“परिणीता, तुम तो जानती हो कि तुम मुझे साड़ी में कितनी सेक्सी लगती हो”, अलका ने कहा और मुझे जोरो का चुम्बन दिया| उफ्फ, उनके सेक्सी तन पर वो सैटिन नाईटी का स्पर्श और उनका चुम्बन मुझे उत्तेजित कर गया| अब तो अल्का मुझे प्रतीक नहीं परिणीता कहती थी, जो मुझे और भी सेक्सी लगता था| इन ६ महीनो में मैं तो लगभग भूल ही गयी थी कि मैं कभी प्रतीक एक आदमी हुआ करती थी|

अल्का ने मुझे दीवार से लगाकर पलटा और मेरी पीठ पर किस करने लगी और मेरे स्तनों को अपने दोनों हाथो से मसलने लगी| मैं आँखें बंद करके आंहे भरने लगी| आखिर क्यों न करती मैं ऐसा? मेरे ब्लाउज पर उनके हाथ जो कर रहे थे मुझे मदहोश कर रहे थे| मेरे ब्लाउज से झांकती नंगी पीठ पर उनकी सैटिन नाईटी/स्लिप  का स्पर्श और चुम्बन मुझे उकसा रहा था|

उनकी स्लिप उनकी कमर से थोड़ी ही नीचे तक आती थी| और उसके अन्दर पहनी हुई सुन्दर सैटिन की पैंटी में उनका तना हुआ पुरुष लिंग मेरे नितम्ब पर मेरी साड़ी पर से जोर लगा रहा था| अलका आकर्षक स्त्री होते हुए भी आखिर एक पुरुष थी| मैं अपनी साड़ी पर उनका लिंग महसूस करके मचल उठी| मैंने अपने हाथ से उनकी स्लिप को उठा कर उनकी पैंटी में उनके लिंग को पकड़ लिया| सैटिन में लिपटा हुआ वो  बड़ा तना हुआ लिंग बहुत ही सेक्सी महसूस हो रहा था|और उनकी नाज़ुक पैंटी उस मजबूत तने हुए लिंग को अन्दर अब रोक नहीं पा रही थी| फिर  मैंने भी अपने हाथो से उसे पैंटी से बाहर निकाल कर आजाद कर दिया|

“अल्का, तुम तो पूरी तरह तैयार लग रही हो|”, मैंने आंहे भरते हुए कहा| पर अल्का तो मदहोशी से मेरी गर्दन को चूम रही थी| उसने मेरी बात का जवाब एक बार फिर मेरे स्तनों को ज़ोर से दबा कर दिया| आह, उसके मेरे स्तन को दबाने से होने वाले दर्द में भी एक मिठास थी|

अल्का ने मुझे फिर ज़ोरों से जकड लिया, अब उसके स्तन मेरी पीठ पर दबने लगे| मैं तो बताना ही भूल गयी थी कि अल्का की औरत बनने की चाहत में उसने ३४ बी साइज़ के ब्रेस्ट इम्प्लांट ऑपरेशन द्वारा लगवा लिए थे| अब तो वह भी बेहद सुन्दर सुडौल स्तनों वाली औरत थी| मेरे लिए तो मानो एक सुन्दर सपना था यह| अल्का के स्तन और उसका पुरुष लिंग, मुझे एक साथ एक औरत और एक पुरुष से प्रेम करने का सौभाग्य मिलने लगा था|

कामोत्तेजना में अल्का ने अपनी पैंटी उतार दी और मुझे बिस्तर के किनारे ले जाकर झुका दी| और तुरंत ही मेरी साड़ी और पेटीकोट को उठाकर मेरी पैंटी उतारने लगी| कामोत्तेजित अल्का अब रुकने न वाली थी और मैं भी उतावली थी कि कब उसका लिंग मुझमे प्रवेश करेगा| अल्का ने मेरी पैंटी उतार कर अपनी उँगलियों से मेरी योनी को छुआ| उसके लम्बे नाख़ून और लाल रंग की नेल पोलिश में बेहद सेक्सी लग रहे थे| मुझे छेड़ते छेड़ते उसने अपनी ऊँगली मेरी योनी में डाल दी| मैं उत्तेजना में उन्माद से चीख उठी| “अब और न तरसाओ मुझे अल्का!”, मैं मदहोशी में उससे कहने लगी|

z02
जहाँ मैं साड़ी में खिल रही थी वहीँ अल्का अपनी सैटिन की स्लिप में गहरे रंग की लिपस्टिक के साथ बेहद सेक्सी लग रही थी| अल्का कोई और नहीं मेरे पति थे! और हम दोनों एक दुसरे के साथ रात बिताने को आतुर थे|

अल्का भी बिलकुल तैयार थी और देखते ही देखते उसका लिंग मेरी योनी को चुमते हुए मुझमे पूरा प्रवेश कर गया| मैं तो जैसे परम आनंद को महसूस कर रही थी| वो मेरी नितम्ब को अपने हाथो में पकड़ कर आगे पीछे करती तो मैं भी अपनी कमर को लहराते हुए और जोरो से आंहे भरती| और उसके हर स्ट्रोक के साथ हम दोनों के स्तन झूम उठते| मेरे स्तन तो अब भी ब्लाउज में कैद थे पर अल्का के स्तन उसकी सैटिन स्लिप में उछल रहे थे| अब अल्का खुद अपने एक हाथ से अपने ही स्तनों को मसलने लगी| और अपने ही होंठो को काटने लगी| गहरी लाल रंग की लिपस्टिक में उसके होंठ बेहद कामुक हो गए थे| वहीँ मैं अपनी साड़ी में लिपटी हुई इस पल का आँख बंद करके आनंद ले रही थी|

मैंने पलट कर देखा तो अल्का अब भी अपने स्तनों को मसल रही थी| उसे देख कर मेरा भी मन उसके स्तनों को चूमने को मचल उठा| मैं अब उठ कर अपनी साड़ी से अपने पैरो को ढककर अपने घुटनों पर खड़ी हो गयी और उसकी ओर चंचल नजरो से देखने लगी| शायद वो भी इंतजार कर रही थी कि कब मैं उसके स्तनों को चुमुंगी| फिर क्या था? मैं  उसके एक स्तन को अपने हाथो से पकड़ कर छूने लगी और उसे तरसाने लगी| उसके मुलायम सुडौल स्तन पर फिसलती हुई सैटिन स्लिप पर छूने का आनंद ही कुछ और था| उसने भी अपने दोनों हाथो से मेरे स्तनों को पकड़ लिया| मैंने उसका एक स्तन उसकी स्लिप से बाहर निकाला और फिर अपने होंठो से चूम ली| आनंद में अल्का ने अब अपनी आँखें बंद कर ली थी| मुझे एहसास था कि उसे बेहद मज़ा आ रहा है क्योंकि वो उस आनंद में मेरे स्तनों को और जोर से दबाने लगी| फिर अपनी जीभ से मैंने उसके निप्पल को थोडी देर चूमने के बाद, अपने दांतों से उसके निप्पल को काट दिया| अल्का अब दीवानी हो कर कहने लगी, “ज़रा और ज़ोर से कांटो”| फिर उसने मेरे सर को पूरी ताकत से अपने सीने से लगा लिया| मैंने अपने दुसरे हाथ से उसका लिंग पकड़ लिया| कहने की ज़रुरत नहीं है पर हम दोनों मदहोश हो रही थी| मैं तो सालो से एक स्त्री के साथ सेक्स करने में सहज थी और इस नए रूप में अब पुरुष तन का आनंद लेना भी सिख गयी थी मैं|और अल्का तो एक ही शरीर में स्त्री और पुरुष दोनों ही थी|

उसी उन्माद में फिर हम दोनों एक दुसरे को चूमने लगी| अल्का ने मेरा सर अपने हाथो में पकड़ कर मुझे चूमना शुरू कर दिया था| उसकी सैटिन स्लिप का मखमली स्पर्श मुझे उतावला कर रहा था और वहीँ मेरी नाज़ुक काया पर लिपटी हुई साड़ी उसे दीवाना कर रही थी| और हम दोनों के स्तन एक दुसरे को दबाते हुए मानो खुद खुश हो रहे थे| अल्का ने मेरे सीने से मेरी साड़ी को उठा कर मेरे ब्लाउज के अन्दर हाथ डाल लिया| वह जो भी कर रही थी वो मेरे अंग अंग में आग लगा रहा था| और उसका लिंग मेरे हाथो में मानो और कठोर होता जा रहा था|

अल्का ने एक बार फिर मेरी साड़ी को कमर तक उठा लिया| उसका इरादा स्पष्ट था| अब उसका लिंग मेरी योनी में सामने से प्रवेश करने वाला था| मैं भी बस उसी पल के इंतजार में थी| मैंने अपना पेतीकोट उठा कर उसके लिए रास्ता भी आसान कर दिया था| साड़ी की यही तो ख़ास बात है, बिना उतारे ही आप झट से प्यार कर सकते है| यह मैं भी जानती थी और अल्का भी| अल्का ने फिर धीरे से अपना लिंग मेरी योनी से लगाया| और  मैंने उस बड़े से लिंग को अपने अन्दर समा लिया| उसके अन्दर आते ही मैं और जोर जोर से आवाजें निकालने लगी| इस दौरान हम दोनों एक दुसरे के स्तन दबाकर उन्मादित थे| धीरे धीरे हमारी उत्तेजना बढती गयी, दोनों की आवाजें तेज़ होती गयी, हवा में अल्का के स्तन उसकी स्लिप से बाहर आकार झुमने लगे, और दोनों की आँखें बंद हो गयी| और उस उत्तेजना की परम सीमा पर पहुच कर हम दोनों ने एक दुसरे का हाथ कस कर पकड़ लिया| और फिर अल्का का एक आखिरी स्ट्रोक और हम दोनों एक ही पल में … बस मुझे कहने की ज़रुरत है क्या? यह वो रात थी जब मेरे तन में एक नए जीवन का प्रवेश हुआ| हाँ, उस रात के बाद अब मैं माँ बनने वाली थी!

पिछले ६ महीने

z07
अल्का और मैं, हम दोनों बहुत अच्छी सहेलियाँ बन गयी थी!

पिछले ६ महीने हम पति पत्नी के जीवन में नयी खुशियाँ और नई परीक्षा लेकर आया था| मेरे पति अब घर आकर तुरंत स्त्री के कपडे पहनते, मेकअप करते और अल्का बन जाते| मेरे पति अब क्रॉस ड्रेसर बन चुके थे और मैं इस स्थिति से खुश थी| मुझे एक सहेली मिल गयी थी| जब भी मौका मिलता हम दोनों सहेलियाँ बाहर शौपिंग करने या घुमने फिरने निकल पड़ती| दोनों को एक बार फिर जैसे नए सिरे से प्यार हो गया था| हम दोनों के कद काठी अलग अलग थी तो ड्रेस अलग अलग ही खरीदते पर साड़ियां अब साथ मिल कर लेते थे| पर ब्लाउज हमें अलग अलग सिलवाने पड़ते थे| जहाँ मैं अब एक औरत बन कर थोड़े पारंपरिक से ब्लाउज कट सिलवाने लगी थी, वहीँ वो ज्यादा सेक्सी ब्लाउज सिलवाने लगे थे| पुरुष तन को स्त्री के रूप में निखारने में वो कोई कमी नहीं रहने देना चाहते थे|

पर समय के साथ उनकी स्त्री बनने की इच्छा तीव्र होती जा रही थी| उन्होंने बाल भी बढ़ाना शुरू कर दिया था| पर मुझे शॉक उस दिन लगा जब उन्होंने घर लौट कर कहा कि अब वो ऑपरेशन करा कर पूरी तरह स्त्री बनना चाहते है| मैं तो एक पल के लिए अन्दर ही अन्दर टूट गयी थी क्योंकि चाहे जो भी हो, अब मैं एक स्त्री थी और मुझे सम्पूर्ण करने वाले पति यानी पुरुष का साथ चाहिए था| पर उन्होंने बेहद प्यार से मुझे गले लगाया और फिर मुझसे इस बारे में और बात की| फिर हमने मिलकर निर्णय लिया कि वह ब्रेस्ट इम्प्लांट करवाएंगे पर पूरी तरह लिंग परिवर्तन नहीं कराएँगे| मैं नहीं चाहती थी की वो अपना पूरा पुरुषत्व ख़त्म कर दे| ऑपरेशन के बाद ३४ बी साइज़ के उनके स्तन इतने बड़े भी नहीं थे कि दिन में अपनी नौकरी में वो पुरुष रूप में जाए तो छुप न सके| पर इतने छोटे भी न थे उनका आनंद न लिया जा सके| मेरा जीवन अब बेहद सुखी था| और उनका भी| अब मुझे पूरी तरह औरत होने का अनुभव करने में बस एक ही कमी रह गयी थी, मैं माँ बनना चाहती थी| मुझे उन्हें मनाने में थोडा समय लगा पर एक दिन वो मान ही गए|

अगले ९ महीने

अपने शरीर में पलती हुई एक नयी जान को लेकर चलने के वो ९ महीने का अनुभव शायद मेरे जीवन का अब तक सबसे प्यारा अनुभव रहा| इस दौरान मुझे अल्का के रूप में मुझे समझने वाली सहेली मिली तो पति के रूप में सहारा बनने वाला पुरुष भी| पर धीरे धीरे उन्होंने अल्का बनना कम कर दिया था, क्योंकि वो जानते थे कि अब मुझे एक पुरुष का सहारा चाहिए था| आखिर वो प्यार भरे ९ महीनो में ,अपने अन्दर पलते हुए जीवन को अब बाहर लाने का वक़्त आ गया था| बड़े प्यार से ९ महीने पाला था उसे, पर अब मैं हॉस्पिटल में प्रसव पीड़ा में थी| उस दर्द में तड़पते हुए तो मानो एक पछतावा हो रहा था कि क्यों मैंने माँ बनने का निर्णय लिया| पर उस पीड़ा को तो सहना ही था|अब उससे पीछे नहीं पलट सकती थी|

z04
9 महीने अपनी कोख में एक जान को पालना मेरे जीवन का सबसे प्यारा अनुभव था

मेरी प्रसव पीड़ा पूरे १४ घंटे रही| पर उसके बाद जब डॉक्टर ने मेरे हाथो में एक नन्ही सी जान को सौंपा तो मेरी आँखों में ख़ुशी के आंसू आ गए| मैं एक बेटी की माँ बन गयी थी| माँ, सबसे प्यारा अनुभव| औरत होने के सारे सुख दुःख इस अनुभव के सामने फीके है! मैंने अपनी बेटी को प्यार से गले से लगा लिया| मैं भावुक होकर सारा दर्द भूल चुकी थी| इसके बाद मुझे नर्स ने सिखाया कि बच्चे को दूध कैसे पिलाना है| उस बच्ची ने जब मेरे स्तन से दूध पीया तो जैसे मेरे अन्दर से प्यार की अनंत प्रेम धारा बह  निकली| मैं आँखें बंद करके उस प्यार को महसूस करने लगी| जब यह सब हो रहा था तब मेरे पति मेरे साथ ही थे| वो बहुत खुश थे पर उनकी आँखों में मैं एक बात देख सकती थी| उनके अन्दर हमारा शरीर बदलने के पहले वाली पत्नी परिणीता थी, जो सोच रही थी कि वो भी कभी माँ बन सकती थी और यह सुख वो भी पा सकती थी| पर किस्मत ने उनको अब आदमी बना दिया था| मैंने उनके दिल की बात सुनकर उन्हें पास बुलाकर कहा, “सुनो, अपनी बेटी को नहीं देखोगे?” उन्होंने प्यार से बेटी को गले लगा लिया| फिर मैंने उनके कान में धीमे से कहा, “हमारी बेटी भाग्यशाली है कि उसके पास एक पिता और दो माँ है!” मेरी बातें सुनकर उनकी आँखे भी नम हो गयी| उन्होंने कहा, “हाँ! और हमारी भाग्यशाली बेटी का नाम होगा प्रतीक और परिणीता की दुलारी “प्रणिता”!”

कुछ दिनों बाद

अब हम पति पत्नी घर आ गए थे| प्रणिता को दूध पिलाकर मैं उसे अपनी बगल में सुलाकर सोने को तैयार थी| वो भी आज बड़े दिनों बाद अल्का बन कर मेरी बगल में सोने आ गए| उन्होंने एक मुलायम सा गाउन पहना हुआ था उन्होंने मुझे प्यार से गले लगाकर गुड नाईट कहा और हमारा तीन सदस्यों का परिवार चैन की नींद सो गया|

अगली सुबह जब मैं उठी तो मेरे चेहरे पर खिड़की से सुनहरी धुप आ रही थी| लगता है मैं ज्यादा देर सो गयी थी| इतनी गहरी नींद लगी थी उस रात कि सुबह होने का अहसास ही न रहा| आज कुछ बदला बदला सा लग रहा था| अब तक मैंने अपनी आँखे नहीं खोली थी| पर मेरे स्तन आज हलके लग रहे थे जबकि उन्हें दूध से भरा होना चाहिए था| फिर भी अंगडाई लेती हुई जब मैंने आँखे खोली तो जो द्रिश्य था उसको देख कर आश्चर्य तो था पर ख़ुशी भी| मेरी आँखों के सामने मेरी पत्नी परिणीता बैठी हुई थी और उसकी गोद में हमारी बेटी प्रणिता सो रही थी| परिणीता ने ख़ुशी से मेरी ओर पलट कर देखा और चहकते हुए बोली, “हम फिर से अपने अपने रूप में आ गए प्रतीक! मैं फिर से परिणीता बन गयी हूँ और तुम मेरे पति प्रतीक!”

मैंने खुद को देखा तो मैंने वो गाउन पहना हुआ था जो कल रात मेरे पति पहन कर सोये थे| मैं फिर से आदमी बन गयी थी| मुझे एक पल को तो यकीन ही नहीं हुआ| इस नए बदलाव का मुझ पर क्या असर हुआ? क्या मुझे इस बात का दुख था कि अब मैं औरत नहीं थी? बिलकुल नहीं, मुझे बल्कि बेहद ख़ुशी थी| परिणीता की ख़ुशी देख कर स्त्रि का तन खोने का मुझे कोई दुख नहीं था| अब मैं फिर से एक क्रॉस ड्रेसर आदमी बनने को तैयार थी| पर अब मेरे पास वो कुछ था जो पहले न हुआ करता था| अब मेरे पास ऐसी पत्नी थी जो मेरे जीवन के क्रॉस ड्रेसिंग वाले इस पहलू को समझ सकती थी, एक ऐसी पत्नी जो मेरा सहयोग करने को तैयार थी| और तो और अब मेरे बाल लम्बे थे और मेरे पास स्तन भी थे! ज़रा सोच कर देखिये एक क्रॉस ड्रेसर को और क्या चाहिए इससे ज्यादा?

bbc
अब तो सोच कर यकीन ही नहीं होता कि मैं कभी संपूर्ण औरत बन कर एक बच्ची को जन्म भी दी थी या कभी किसी पुरुष से शारीरिक प्यार भी किया था| सब कुछ सपने की तरह है!

परिशिष्ट

आज लगभग २ साल हो चुके है उस रात से जब मैं प्रतीक से परिणीता बन गयी थी| और अब कुछ महीने बीत चुके है मुझे फिर से प्रतीक बने| आज भी हम दोनों पति-पत्नी को यकीन नहीं होता कि हमारे साथ ऐसा भी हुआ था| सोच कर ही अजीब लगता है कि मैं एक पुरुष से प्रेम करने लगी थी! या एक स्त्री के तन में मैं कभी थी भी| मैंने एक बच्चे को माँ बनकर जन्म दिया था, एक सपने सा लगता है| पर ऐसा सब हमारे साथ क्यों हुआ था? इसका जवाब हमारे पास नहीं है|पर जो हुआ उसने हमारा जीवन हमेशा के लिए बदल दिया था| हम दोनों के बीच अब बहुत प्यार है| हम दोनों एक दुसरे की परेशानियों को और दिल को बेहद अच्छे तरह से समझ सकते है, जो समझ हम दोनों में पहले न थी|अब मैं जानती हूँ कि औरत के रूप में परिणीता कितनी मुश्किलों का सामना करती है, और अब वो समझती है कि एक पुरुष होकर औरत बनने की लालसा क्या होती है| इसी समझ की वजह से अब मैं जब मन चाहे स्त्री रूप में अल्का बन सकती हूँ| पर इन सबसे ज्यादा, अब हमारे जीवन को पूरा करने वाली बेटी प्रणिता है जिसकी दो मांए है!

यह मेरी कहानी का अंतिम भाग था| फिर भी पिछले २ सालो में और भी बहुत कुछ हुआ था जिसके बारे में मैंने लिखा नहीं है| जैसे जब मैं परिणीता के शरीर में थी तब मेरी माँ के साथ मेरा रिश्ता कैसे बदल गया? उनकी नजरो में अब मैं उनका बेटा प्रतीक नहीं बल्कि बहु परिणीता थी? या मेरे सास ससुर के साथ मेरा रिश्ता जो अब मुझे अपनी बेटी की तरह देखते थे? या मेरी बहन के साथ उसकी शादी के समय मेरा समय कैसा बीता जब मैं उसका भैया न होकर प्यारी भी थी?  इन सब के बारे में समय मिला तो ज़रूर लिखूंगी| उसके लिए आपका सब्र, प्यार और कमेन्ट भी चाहिए| आखिर आपको मेरी कहानी कैसी लगी थी ज़रूर बताना| चाहे तो ब्लॉग पर या फिर फेसबुक पर कमेंट करे| मैं इंतज़ार करूंगी आपके प्यार भरे सन्देश का!

कहानी के सभी भागों के लिए यहाँ क्लिक करें।

Like/Follow us on our Facebook page to stay updated

free hit counter