Caption: Saree Blouse

A conversation between a husband and a wife who supports his crossdressing.


Please use the star rating option above to rate this caption!

Credit:Thank you The woman inside me / Sensuous page for contributing this caption! Image credit is at the bottom of the page.

English हिंदी

English

( It’s a morning time when both the husband and the wife are getting ready to leave for their work. )

“Listen, honey. Do you remember my mother gave me this saree last year on Diwali?”

( She looks at her husband with a saree in her hand. )

“Yes. I remember.”  ( He says buttoning his shirt while not even looking at the saree. )

“At least look at it once before answering.” ( She yells a little. )

“Ok… Ok.. Let me see.” ( He looks at the saree and touches to feel the fabric ) ” Yes, I remember this saree. It is very beautiful. ”

“Would you like to wear it?”

” Yes. Of course. Why not?” ( He smiles. )

“Ok. Look this saree came with this matching blouse piece that has the same design as the saree for sleeves. You know I have one more blouse piece that would go well with this saree. I think I like this saree too. I am thinking we should get both the blouses stitched so that we both can wear it. Tell me which blouse piece would you prefer for yourself?”

“Hmmm … the one that came with the saree, that one.” ( He points to the blouse piece he likes )

“Ohh… I liked that too for myself…. Alright, you can have the better blouse this time.” ( She pauses. ) “Wait a minute. What will I tell my mom if she ever asks me why don’t I wear the blouse that came with the saree?”

“No worries, darling. You can have the original blouse. I don’t mind the other one.”

“Ok.” ( She is still thinking about something. )

“Now, what happened?”

“Nothing. I was just thinking that I should go to the tailor this afternoon during my lunch time from the office.  I will give both the blouses to stitch. Is it ok with you?”

“Yes. I am ok.” (He starts walking towards his shoes. )

“Can’t you just wait here for a minute?” ( She gets a little upset. )

“Now what?”

“Go to our room, and bring one blouse of yours that still fits you well. I will need that to give to the tailor for your measurements. Most of your blouses are getting too tight these days. You better open up inside stitches in it to loosen those. I am not going to do that for you. You always come to me in the last minute to loosen your blouses. ”

“Ok. Ok. Let me find one.”

( He brings one blouse from the closet in his room. )

“This one fits perfectly on me. Ask the tailor to stitch with these exact measurements.”

“Ok. ” (She takes his blouse from his hands, and starts to worry about something new.)

“Now, can I go and get ready Madam? I am getting late for the office.”

“Don’t leave just yet. Why are you in such a hurry? At least tell me what kind of design you would like on the blouse? How do you want your neck and back to be styled? How deep the back should be? I don’t want you to complain later that you didn’t like the blouse design.”

“Hmm… I think a simple regular blouse would look good on this saree. Just keep the sleeves a little short, but don’t get the back too deep.” (He looks at the saree and the blouse piece once again. )

“Come near for a minute.” (She picks up the saree and places it over his shoulder and the back. ) “I feel the deeper back would look better on you.”

“As you wish, darling.”

“Of course. For a change, you should listen to your wife’s advice at least once in the life!”

“I always do, dear.”

“Is that so, dear? In that case, answer this for me. Do you remember I purchased a dress for you last month? Tell me, why don’t you wear it?”

“Darling. That dress is a little too sexy and open. ” ( He says hesitantly ) “… And I feel that between you and me, you should be the one who should always look sexier.”

( She starts to blush, and he comes up to her from the back and hugs her )

Click here for all the captions / Click here for all captions on Sensuous Website

हिंदी

z8

( सुबह का समय है और पति-पत्नी दोनों ही ऑफिस जाने के लिए तैयार हो रहे है )

“सुनो. माँ ने ये साड़ी दी थी पिछली दिवाली पे…”  ( वो हाथ में साड़ी पकडे अपने पति की ओर देखती है)

“अच्छा.” (वो शर्ट की बटन लगाते हुए बिना साड़ी को देखे ही कहता है)

“एक बार इधर देखो तो सही.”

“हाँ बाबा. देखता हूँ. दिखाओ?” (वो साड़ी को देखने लगता है) “हाँ याद है ये साड़ी मुझे. बहुत सुन्दर है.”

“तुम पहनोगे इसे?”

(वो मुस्कुराता है) “हाँ, क्यों नहीं?”

“अच्छा. इसके साथ ये ब्लाउज पीस भी है. वैसे मेरे पास एक और मैचिंग ब्लाउज पीस है. पता है मुझे भी ये साड़ी पसंद है. तो सोच रही हूँ कि हम दोनों के लिए ब्लाउज सिलवा लेती हूँ. बताओ तुमको कौनसा पीस पसंद आ रहा है?”

“हम्म… जो साड़ी के साथ आया है, वो वाला.”

“मुझे भी वही ज्यादा पसंद आया था. चलो इस बार तुमको तुम्हारी पसंद का ब्लाउज लेने देती हूँ.” (वो फिर कुछ सोचने लगती है) “सुनो. पर यदि माँ ने मुझसे कभी पूछा कि मैंने दुसरे कपडे का ब्लाउज क्यों सिलवाया तो क्या जवाब दूँगी उनको?”

“तो ठीक है. तुम मेरे लिए दुसरे पीस से सिलवा दो.”

“ठीक है.” (वो फिर कुछ देर सोचने लगती है)

“अब क्या हुआ?”

“ऐसा करती हूँ कि आज ही ऑफिस से लंच के समय टेलर के पास दोनों ब्लाउज पीस दे आऊंगी सिलवाने को. ठीक है?”

“हाँ. ठीक है.” (वो फिर अपने जुते पहनने के लिए जाने लगता है)

“रुको तो सही.”

“अब क्या हुआ?”

“जाओ तुम अलमारी से अपना कोई ब्लाउज लेकर आओ जो तुमको अच्छा फिट आता है. टेलर को दूँगी नाप के लिए. वैसे तुम्हारे बहुत से ब्लाउज अब टाइट होने लगे है. उनकी सिलाई भी खोलनी है. इस बार तुम खुद खोल लेना सिलाई याद से. नहीं तो आखिरी मौके पर मेरे पास आ जाते हो कि ब्लाउज टाइट हो रहे है.”

“ठीक है डार्लिंग. सिलाई भी खोल लूँगा मैं. अभी तो नाप का ब्लाउज लाता हूँ.”

(वो अलमारी से एक ब्लाउज लेकर आता है)

“इसकी फिटिंग मुझे अभी भी अच्छी आती है. इसके नाप से सिलवा देना तुम.”

“ठीक है.” (वो फिर कुछ सोचने लगती है)

“अच्छा अब मैं जाकर तैयार हो जाऊं? ऑफिस के लिए देर हो रही है”

“अब थोडा रुको भी इतनी जल्दी करते रहते हो. कम से कम ये तो बता दो कैसा डिजाईन चाहिए तुम्हे? ब्लाउज का गला और पीठ कैसी चाहिए तुमको? पीठ की गहराई कितनी करनी है? फिर तुम्ही मुझे कहोगे कि तुम्हे डिजाईन पसंद नहीं आया.”

“हम्म… मेरे विचार में इस साड़ी में कोई सिंपल डिजाईन ही सही रहेगी. आस्तीन को थोड़ी छोटी रखना और पीठ ज्यादा गहरी मत करना.” (वो साड़ी और ब्लाउज पीस को एक बार फिर देखने लगता है.)

“एक मिनट पास आओ” (वो साड़ी को उठाकर उसके कंधे और पीठ पर लगाकर देखती है) “मेरे ख्याल से तुम पर पीठ में डीप ज्यादा अच्छा लगेगा.”

“ठीक है डार्लिंग. जैसा तुम कहो.”

“हाँ. पत्नी की बात कभी कभी मान लेनी चाहिए तुम्हे!”

“अरे हमेशा ही मानता हूँ!”

“अच्छा तो पिछले महीने मैंने जो तुम्हारे लिए ड्रेस ली थी, तुम उसे क्यों नहीं पहनते हो?”

“डार्लिंग. वो ड्रेस न … कुछ ज्यादा ही सेक्सी और खुली है.” (वो थोडा संकोच करते हुए कहता है) “… और मुझे लगता है कि हम दोनों में हमेशा तुम्हे ही ज्यादा सेक्सी दिखना चाहिए”

( उसकी बात सुनकर वो शर्मा जाती है और वो अपनी पत्नी को पीछे से आकर गले लगा लेता है.)

सभी कैप्शन पढने के लिए यहाँ क्लिक करे / सेंसुअस वेबसाइट के कैप्शन के लिए यहाँ क्लिक करे

If you liked this caption, please don’t forget to give your ratings!

Image Credit: Google Images. No copyright violation intended. The pictures here are intended only to give wings to the imagination for us special women who this society addresses as crossdressers. Pictures will be removed if any objection is raised here.

free hit counter

A Conversation

Talking about our unusual habit to our wife is not an easy thing to do.


Please use the star ratings above to rate this story!

 

Note: Dear ladies, this is my honest attempt to share my experience after my wedding through this story. This story is a blend of a little fiction and a bit of my real experience. It is my sincere hope that you would like it. Please don’t forget to comment and share your views if you liked this story.

– Anupama

“I don’t understand this, Kabir. Why would you be interested in wearing women’s clothes? Clothes are only clothes. They are meant to cover your body. That’s all. Then, why would you want to wear women’s clothes?”, my new wife asked me when I told her about my unusual habit of occasionally dressing up in women’s clothes. She was not arguing with me, but she was anxious. Anxious because this was really confusing for her. It is not easy for any woman to hear that her husband loves to dress like a woman. And it wasn’t easy for my wife either.

“I don’t know how to explain this to you, Tanu. I don’t even know if I am even capable of explaining it.”, I was being honest with her. “And this might take a long time before you could even get an idea about how I feel. This may take days or even months for you to truly understand.”, I said to her trying to calm down her confused mind.

“I am in no rush, Tanu. We will take our time.”, I further said. I myself was going through a turmoil in my heart. I don’t even know if it was the right thing to tell Tanu about my desires so soon in this marriage.

“But at least try once to explain it to me, Kabir.”, she had tears in her eyes. My own heart felt a churning inside as I saw tears in the eyes of my simple and loving wife. She wasn’t crying at her luck; she was crying because she wanted to understand her husband. How was I supposed to explain something to her which I haven’t understood myself? How could I explain my desires to her when the world’s medical experts don’t know the reason behind it?

I hugged her in my helplessness, and caressed her hair with my fingers, and said to her, “Alright. I will give it a try. I don’t know if I will be able to explain everything.” I paused. “But before that, I need a promise from you Tanu.”

She held my hand in her hands to convey that she is with me in this. “Please promise that you won’t judge me, and you will continue to respect me the way you did before today… Because I am nothing if I lose respect in your eyes. Also, please never forget that I love you, no matter what the circumstances are.”, I said.

She wiped her tears with her hands, and tried to smile a little. “I promise you Kabir. I really want to understand you. I am going to respect you no matter what.”, she said. I smiled at my innocent wife. She was not realizing how difficult it would be for her to keep this promise.

I don’t know if Tanu believed in my love for her, but what she just said now, told me that she definitely loves me a lot. Otherwise, it was not possible for any woman to say what she just said. She is young, and still she exhibited maturity and patience that takes years for someone to learn.

Speaking about me, this was probably the most difficult thing to talk about my own personality. But I had to tell her something. This is such a topic that cannot be kept hanging for later when the subject has been broached.

I touched my wife’s arm which was adorned with a beautiful blouse that fit her snugly. I said to her, “Do you feel how your blouse hugs your skin perfectly?”

Tanu was not expecting such a question out of nowhere. She looked perplexed at me. “Have you ever seen any man wear such snug fitting clothes?”, I clarified a little.

Tanu shook her head in no. She thought for a while and said, “But there are clothes like sarees, skirts, and a few salwars designs that are very loose fitting as well.” She had a point.

“Hmm… true. So, have you seen any clothes for men that are free flowing like sarees or lehenga?”, I said. May be I was too quick to respond to her comment. I thought for a while and I asked her, “Don’t you like handling your saree or your salwar’s dupatta?”

“Yes, I like doing that. Kabir, to be honest, I never thought about it.”, Tanu said. “You know I like handling my saree especially in front of you. Your eyes twinkle every time I do something like that.”, she said laughing gently. I smiled with her too. “I really like watching you do that!”, I said being a typical Indian husband.

I felt a little relaxed seeing how she smiled and laughed. And then, she started looking down towards her lap. May be she was thinking something. The way she was playing with her bangles in her hand, it was clear that she was hesitating to express her thoughts.

“Ok. But you know, I didn’t like managing my saree before our wedding. May be it was because it used to get unwanted attention from men. And at times, when I am busy doing chores, I don’t like to manage my clothes in those times … I think I have learnt how to manage my salwar’s dupatta, but I am still learning to handle my saree when I am in the kitchen with your mom.”

“Kabir. I am unable to understand what are you trying to say? Do you like women’s clothes because they are tight fit, or because they are loose and free flowing?”, Tanu asked me trying to bring us back to the original discussion.

I knew it was a tough question to ask for her. I would be surprised if she really wanted to know which clothes I would like to wear myself. So, I just smiled without answering her.

“Listen. Can you answer this for me? Count in your head how much variety girls have when it comes to clothes, and then compare it with the number of option boys have.”, I said. And she started looking at the roof as if trying to think about what I asked. She really didn’t need to. She already knew the answer.

“Yes. Boys don’t have many options.”, she said.

“What about the colors?”, I asked again.

“Hmm… I don’t think boys will look good in colors that women wear. Women’s clothes can be too colorful for them.”, she said thinking out loud.

“Ok. So what about hair styles, jewelry, makeup? Who has these options?”, I asked.

“Of course, with girls. I don’t think boys would want to deal with that.”, she said.

“How do you know that boys don’t want that? Not long ago, men used to wear earrings. Before that in the era of kings, men would wear a lot of jewelry. And even before that, there was not much difference between the way men and women would dress.”, I said. This made her really think hard about why she feels that men wouldn’t want to do any of the things I mentioned earlier.

“I think the difference today exists because women love to appear beautiful.”, she said with all the honesty in her heart.

“And boys don’t want to appear beautiful or handsome?”, I said in a low voice and turned quiet. She turned quiet too. Probably, she was beginning to understand that the boys were never given a choice in their lives to look beautiful.

“What do you want to say, Kabir?”, Tanu asked after a long pause. She already knew what I wanted to say, but probably it was too soon for her to truly understand.

“Not much, Tanu. Not much. All I am saying is there is a huge difference between women’s clothes and men’s clothes.”

Once again, there was silence between us. But I was really thankful that Tanu didn’t say anything that would make me feel bad about me.

That silence was getting unbearable for both of us. Tanu broke that silence. “Do you know when we were kids, my younger brother would wear nail polish and mehendi on his hands? He used to appear so happy whenever my mom would apply nail polish on his small finger nails. But he doesn’t do that anymore.” And then she got closer to me and put her head over my chest. She held my hand and said, “If this society had not taught him that nail polish is meant for girls and not for boys, may be he would still feel happy to get his nails painted.”

It seemed like Tanu was finally getting the gist of how I feel. But she had been taught for years that this is how boys live and this is how girls live … it is not easy for anyone to forget that easily. We both need to proceed with lots of patience and understanding in our hearts.

Sometimes I feel if this society had not created rules of dressing and living for boys and girls, would I still have made a profile with a girl’s name on Facebook?

Image Credits: Pinterest. No copyright violation intended. You may write to us through our Contact Us/Feedback page.

If you liked this story, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter

कुछ बातें

शादी के बाद पति और पत्नी के बीच की वो बात जिससे हर क्रॉसड्रेसर घबराता है.


कृपया ऊपर दिए हुए स्टार रेटिंग का उपयोग कर कहानी को रेट करे!

 

नोट: प्रिय सहेलियों, इस कहानी के माध्यम से ये मेरा एक प्रयास है कि मैं अपनी शादी के बाद का अपना अनुभव आप लोगो के साथ बाँट सकू … इस कहानी में थोड़ी वास्तविकता और थोड़ी काल्पनिकता भी. मेरी दिल से ख्वाहिश है कि ये कहानी आपको पसंद आये. यदि मेरे प्रयास में मैं सफल रही तो कृपया अपने कमेंट और विचार ज़रूर शेयर करे.

– अनुपमा

“मुझे समझ नहीं आता कबीर कि आखिर तुम्हे औरतों के कपड़ो में क्या दिलचस्पी है? कपडे तो बस कपडे होते है… तन को ढंकने के लिए बस. फिर तुम औरतों के कपडे क्यों पहनना चाहते हो?”, मेरी नयी नवेली पत्नी ने मुझसे पूछा जब मैंने शादी के कुछ दिनों बार उसे अपनी क्रॉसड्रेसिंग के बारे में बताया. वो ये सवाल गुस्से में नहीं पूछ रही थी, बल्कि इसलिए पूछ रही थी क्योंकि उसे सचमुच समझ नहीं आ रहा था कि मैं ऐसा क्यों हूँ. वैसे भी किसी भी औरत के लिए आसान नहीं होता ये सुनना कि उसके पति को औरतों की तरह सजना पसंद है. और ये मेरी पत्नी के लिए भी आसान न था.

“इतनी आसानी से तुम्हे कैसे समझा दू तनु? मुझे तो पता भी नहीं कि मैं तुम्हे कभी इसे पूरी तरह समझा सकूंग.”, मैं सच ही तो कह रहा था. “शायद इस बात को तुम्हे समझने में कई दिन और महीने लग जाए. और फिर मैं तुमसे उम्मीद भी नहीं करता कि तुम आज ही इसे समझ जाओ. पर जब तक तुम मुझे अच्छी तरह समझ नहीं लेती, मुझे कोई जल्दी भी नहीं है.”, मैंने अपनी पत्नी की दुविधा को थोडा कम करने की कोशिश किया और खुद के अन्दर चल रहे द्वन्द को भी कम करना चाहा. पता नहीं तनु को इस बारे में इस वक़्त बताना सही था या नहीं.

“पर मुझे समझाने की एक बार कोशिश तो करो कबीर.”, उसकी आँखों में आंसू थे. मेरी भोली और प्यारी पत्नी की आँखों में आंसू देख कर मेरा दिल भर आया. और अपनी किस्मत पर हँसी भी आ रही थी कि जो बात मैं खुद नहीं समझ सका हूँ उसे ऐसे कैसे समझा दू. दुनिया भर के मेडिकल एक्सपर्ट को भी इस बात का कारण नहीं पता था तो मैं क्या समझाता उसे.

अपनी इसी बेबसी के साथ मैंने उसे गले लगा लिया और उसके बालों पर अपनी उंगलियाँ फेरता हुआ बोला, “ठीक है मैं कोशिश करता हूँ. मुझे पता नहीं कि सचमुच समझा सकूंगा या नहीं.”, मैंने उसे दिलासा दिया, “पर तनु, उससे पहले मुझे तुमसे एक वचन चाहिए.”

मेरी बात सुनका तनु ने मेरा हाथ अपने हाथो में लेकर जैसे मुझे विश्वास दिलाना चाहा कि वो मेरे साथ है और मुझे छोड़ नहीं रही है. “तनु, तुम मुझे ये वचन दो कि तुम मेरे बारे में कोई भी गलत राय नहीं बनाओगी और अपने पति के रूप में मेरी वैसी ही इज्ज़त करती रहोगी जैसे आज के पहले करती थी…. क्योंकि… क्योंकि… यदि मैं तुम्हारी नजरो में गिर गया तो फिर मेरा अस्तित्व ही ख़त्म हो जायेगा.”, मैंने कहा, “… और फिर तनु, चाहे कुछ भी हो जाए तुम ये मत भूलना कि मैं तुमसे बेहद प्यार करता हूँ. चाहे जैसी परिस्थिति आये.”

मेरी बात सुन अपनी आँखों से आंसू पोंछते हुए उसने मुझसे कहा, “मैं वचन देती हूँ कबीर. मैं हमेशा तुम्हारी इज्ज़त करूंगी. मैं तुम्हे सचमुच समझना चाहती हूँ, कबीर.” मैं अपनी भोली पत्नी को देख मुस्कुरा दिया. उसे तो पता भी न था कि ये वचन निभाना कितना कठिन था.

तनु को अब तक मेरे प्यार पर यकीन हुआ हो न हुआ हो, पर उसकी इस बात से मुझे तो यकीन हो गया था कि वो मुझसे बेहद प्यार करती है, वरना ये बात इतनी सहजता से नहीं कह सकती थी वो. मुझे समझने की उसकी चाहत सच में दिल से थी. सच कहूं तो मेरी पत्नी तनु इस वक़्त मुझे बहुत ही परिपक्व और सहनशील औरत लगी. वैसे तो इस बारे में बात करना मेरे लिए भी आसान नहीं था. पर अब कुछ न कुछ कहना तो था ही. ये विषय भी ऐसा था जिसे एक बार छेड़ दिया तो यूँ बाद के लिए छोड़ नहीं जा सकता था.

मैंने तनु की बांहों को अपने हाथो से हाथ लगाया. उसकी बांह उसकी ब्लाउज की एक सुन्दर आस्तीन से सजी हुई थी. और फिर मैंने उससे पूछा, “क्या तुम महसूस कर सकती हो कि कैसे तुम्हारी बांहों में ब्लाउज की फिटिंग चुस्त है? मानो जैसे तुम्हारी त्वचा को वो चूम रही हो.”

तनु ने अपनी बांह की ओर देखा. ये सवाल उसके लिए अटपटा सा था. शायद उसने इस तरह कभी सोचा भी न हो. फिर उसने मेरी ओर ऐसी आँखों से देखा जैसे पूछ रही हो, ये कैसा सवाल है? “क्या तुमने ऐसी चुस्त फिटिंग तुमने कभी किसी आदमी के कपड़ो में देखी है?”, मैंने अपने सवाल को थोडा और समझने में उसकी मदद की.

तनु ने ना में अपना सिर हिलाया. और फिर रुक कर कुछ देर सोचने के बाद बोली, “पर फिर साड़ी, स्कर्ट, और सलवार तो ढीली फिटिंग के कपडे भी तो होते है न?” उसकी बात में तर्क था.

“हाँ. सही कह रही हो तुम. पर तुमने कभी साड़ी या लहंगा चोली की तरह लहराते हुए कपडे लडको पे देखे है?”, मैंने कहा. शायद उसके सवाल का जवाब मैंने कुछ ज्यादा ही जल्दी दे दिया था. पर फिर थोड़ी देर सोचकर मैंने उससे पूछा, “क्या तुम्हे अपनी साड़ी और सलवार का दुपट्टा संभालना अच्छा नहीं लगता?”.

“हाँ. लगता तो है. पर सच कहूं तो पहले मैंने ऐसा कुछ सोची नहीं थी. मेरे लिए तो बस कपडे थे. लहराते या चुस्त.. जैसे भी हो. ” पर पता है तुम्हे? शादी के बाद तुम्हारे सामने जब जब अपनी साड़ी ठीक करती हूँ या फिर अपने पल्लू को संवारती हूँ तो और भी अच्छा लगता है. मुझे ऐसा करते देख तुम्हारी आँखें चमक जाती है न इसलिए!”, वो धीमी सी हँसी हँसते हुए बोली. मैं भी उसके साथ मुस्कुरा दिया. और फिर मैं उसकी ओर देख कर बोला, “जब जब तुम ऐसा कुछ करती हो तो तुम्हे देखकर मुझे भी अच्छा लगता है.” एक सामान्य भारतीय पति की तरह ही सोच थी मेरी भी. अच्छा लगता था अपनी पत्नी को ऐसे देखना.

इस बात के बहाने तनु की मुस्कराहट देखकर मुझे थोड़ी तसल्ली हुई. उसने इस वक़्त अपनी नज़रे झुकाई हुई थी. शायद वो कुछ सोच रही थी. पर जिस तरह वो अपने हाथो की चूड़ियों के साथ खेल रही थी, ऐसा लग रहा था कि उसे अपने दिल की बात कहने में थोडा संकोच हो रहा है.

“वो सब तो ठीक है कबीर पर शादी के पहले ये साड़ी वगेरह संभालना मुझे अच्छा नहीं लगता था. शायद एक कारण ये भी था कि इसकी वजह से आदमियों की अनचाही नज़रे मुझ पर पड़ती थी. और एक कारण अभी भी है. जब मुझे बहुत काम होते है तो ये कपडे संभालते रहना मुझे पसंद नहीं है.. शायद अब तो मुझे दुपट्टा संभालने की आदत हो चुकी है. पर साड़ी संभालना अब भी सिख रही हूँ. मैं जब भी तुम्हारी माँ के साथ किचन में होती थी न, ये साड़ी संभालना मुझे बिलकुल अच्छा नहीं लगता था.”, उसने सोच कर कहा और मैं उसकी बातें सुनता रहा.

“पर कबीर, मैं समझ नहीं पा रही हूँ कि तुम कहना क्या चाहते हो? तुम्हे लड़कियों के कपडे चुस्त फिटिंग की वजह से पसंद है या फिर इसलिए कि वो लहराते भी है?”, तनु ने एक बार फिर मुझे अपने विषय पर लाने के लिए ये सवाल पूछा. मैं जानता था कि उसके लिए ये सवाल पूछना कठिन था जो उसके चेहरे से दिख रहा था. मेरे लिए ये बड़े आश्चर्य की बात होती यदि वो सचमुच जानना चाहती कि मैं लड़कियों के कौनसे कपडे पहनना पसंद करता हूँ. इसलिए मैं बिना जवाब दिए ही सिर्फ मुस्कुरा दिया.

“अच्छा अब एक काम करो. तुम अब अपने मन में ही सोचो कि लड़कियों के कपडे की कितनी वैरायटी होती है, और फिर सोचो कि लडको के पास कितने आप्शन होते है?”, मैं बोला. मेरा सवाल सुन वो छत की ओर ऐसे देखने लगी जैसे सचमुच वो सोच रही हूँ. पर उसे सोचने की ज़रुरत नहीं थी. इस सवाल का जवाब तो बहुत ही साफ़ और सरल था.

“हाँ. लडको के पास बहुत कम आप्शन होते है.”, वो बोली.

“और रंगों के आप्शन?”, मैंने पूछा.

“ह्म्म्म… जो रंग के कपडे लडकियां पहन सकती है वो शायद लडको पर अच्छे नहीं लगेंगे.”, वो एक बार फिर सोचते हुए बोली.

“ठीक है. और फिर हेयरस्टाइल, जेवेलरी, मेकअप, ये सब के आप्शन किसके पास है?”, मैंने उससे आगे पूछा.

“सिर्फ लड़कियों के पास. लड़के तो ये सब कभी नहीं करते है. और मुझे नहीं लगता कि लड़के ये सब करना पहनना पसंद भी करेंगे.”, वो बोली.

“तुम्हे कैसे पता कि लड़के ये सब करना पसंद नहीं करेंगे. आज से कुछ ३०-४० साल पहले तक तो लड़के कानो में कुंडल भी पहनते थे. और उसके पहले राजा महाराजा के ज़माने में जेवेलरी भी पहनते थे और रंग बिरंगे कपडे भी, तब तो लडको के बाल भी लम्बे हुआ करते थे … और फिर उसके भी पहले तक तो लड़के और लड़की के कपड़ो में बहुत फर्क भी नहीं होता था.”, मैंने कहा. मेरी ये बात तनु को सचमुच सोचने पर मजबूर कर गयी कि क्यों वो ऐसा सोचती है कि लडको को गहने, हेयर स्टाइल और मेकअप का शौक नहीं हो सकता.

“मुझे लगता है कि ये फर्क इसलिए है क्योंकि लड़कियों को सुन्दर दिखना अच्छा लगता है.”, बहुत ही सच्चाई के साथ तनु ने कहा. पर ये सच्चाई सिर्फ उसकी सच्चाई थी…

“और लडको को सुन्दर दिखना अच्छा नहीं लगता?”, मैंने उससे धीरे से कहा और चुप हो गया. और वो भी चुप हो गयी. शायद उसे धीरे धीरे समझ आ रहा था कि लडको को सुन्दर दिखने का तो किसी ने कभी मौका ही नहीं दिया.

“तुम कहना क्या चाहते हो कबीर?”, कुछ देर चुप रहने के बाद तनु ने मुझसे पूछा. तनु को पता था कि मैं उससे क्या कहना चाह रहा हूँ. पर फिर भी उसके लिए मेरी बात को समझते हुए भी असमझ करना एक मजबूरी थी. क्योंकि ये ऐसी बात थी जो उसके अब तक के सालो के अनुभव को झुठला रही थी.

“ज्यादा कुछ नहीं, तनु. बस इतना ही कह रहा हूँ कि लड़कियों और लडको के कपड़ो में बहुत फर्क होता है.”

एक बार फिर ख़ामोशी हम दोनों के बीच थी. पर अच्छी बात ये थी कि तनु ने अपनी किसी बात से मुझे बुरा महसूस नहीं कराया था.

ये खामोशी हम दोनों के लिए असहनीय होती जा रही थी. और फिर थोड़ी देर बाद उस ख़ामोशी को तोड़ते हुए तनु फिर बोली, “पता है बचपन में मेरा भाई नेल पोलिश और मेहँदी लगाकर बड़ा खुश होता था. जब भी ऐसा कोई मौका आता था वो नेल पोलिश लगवाने मेरी माँ के पास पहुच जाता था. पर अब वो ऐसा कुछ नहीं करता.” और फिर मेरे करीब आकर मेरे हाथो को अपने हाथो में पकड़ा और मेरे सीने से अपना सर लगाकर उसने कहा, “शायद इस सोसाइटी ने उसे ये न सिखाया होता कि ये नेल पोलिश लड़कियों की है लडको की नहीं, तो शायद वो आज भी नेल पोलिश लगाकर खुश होता.”

ऐसा लग रहा था कि शायद तनु मेरे दिल की बात समझ रही थी. फिर भी जो बात सालो से उसे सिखाई गयी है कि लडको को ऐसे रहना चाहिए और लड़कियों को ऐसे… वो बात इतनी आसानी से भुलाई नहीं जा सकती थी. इस वक़्त शायद हम दोनों को सब्र की ज़रुरत है. समय के साथ साथ शायद हम दोनों के बीच की आपसी समझ बढ़ सकेगी, मुझे इस बात का भरोसा हो चला था.

कभी कभी मैं भी सोचता हूँ कि यदि सोसाइटी में लड़के लड़कियों के रहन सहन और पहनावे के आज की तरह नियम न होते तो क्या मैं तब भी इस तरह लड़की के नाम से फेसबुक में प्रोफाइल बनाता?

Image Credits: Pinterest. No copyright violation intended. You may write to us through our Contact Us/Feedback page.

यदि आपको कहानी पसंद आई हो, तो अपनी रेटिंग देना न भूले!

free hit counter

Dressed with wife: A challenge

Imagine if you could spend your day as a woman with your wife, what would you do with her?


z1

English हिंदी

English

Imagine you are wearing your favorite saree. Now give wings to your imagination and feel as if you are about to spend your day as a woman with your wife or girlfriend. It’s a titillating idea, am I right? Just imagine all the things you two would do as women and best friends. May be you two would cook at home, gossip, and go out for shopping. Sounds fun? If you are unable to imagine this wonderful fantasy, we have a treat for you. Just go through this Image Gallery (Click here), and imagine one of these women is you and the other one is your wife, and let your fantasy roll!

And finally, here is a challenge for you. Inspired by the images in that gallery, write a story: short or long and share it with us. If we like the story, we will publish it on our website. You can send us your story by messaging on our facebook page or using the feedback form on our website. We are waiting for your stories! Just be creative.

हिंदी

आइये ज़रा अपनी कल्पना को नए पंख दे और सोचिये कि आपने अपनी पसंदीदा साड़ी पहनी हुई है और आज आप अपना दिन अपनी पत्नी या गर्लफ्रेंड के साथ एक औरत के रूप में बिताने वाली है! अच्छा आईडिया है न? अब सोचिये अपनी पत्नी जो कि आपकी सहेली भी है उसके साथ आप क्या क्या करेंगी. शायद आप दोनों किचन में खाना बनायेंगी, कुछ गॉसिप करेंगी या फिर शौपिंग के लिए साथ बाहर जाएँगी. यदि आप ये कल्पना नहीं कर पा रही है तो चिंता न करे. आप इस इमेज गैलरी (क्लिक करे) को देखकर सोचिये कि इनमे से एक औरत आप है और दूसरी आपकी पत्नी, और फिर देखिये कि कैसा महसूस करती है आप!

अब बारी है आपके लिए एक चैलेंज की. इस गैलरी की तस्वीरो से प्रेरणा लेकर आप एक कहानी लिखिए… छोटी या बड़ी और फिर हमारे साथ शेयर कीजिये. आपकी कहानी हमें पसंद आई तो हम इसे ज़रूर प्रकाशित करेंगे. आप अपनी कहानी को हमारे फेसबुक पेज पर मेसेज द्वारा या फिर हमारी वेबसाइट के फीडबैक फॉर्म के द्वारा भेज सकती है. तो इंतज़ार किस बात का… अपनी कहानी शीघ्र भेजे!

free hit counter

इंडियन लेडीज़ क्लब: अंतिम भाग

आखिर वो रात आ ही गयी थी जब इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों का जीवन एक बार फिर बदलने वाला था. क्या वो आगे भी औरत बनी रहेंगी?


यदि आपको कहानी पसंद आये, तो ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर रेटिंग ज़रूर दे!

Click here to read in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

आखिर वो घडी आ ही गयी थी जब उस मेसेज के अनुसार सुमति और इंडियन लेडीज़ क्लब की सहेलियों के साथ कुछ ख़ास होने वाला था. क्या होने वाला था उस रात? सुमति तो अब भी एक खुबसूरत दुल्हन के लिबास में मुस्कुरा रही थी. उसके हाथों और पैरो पर बेहद सुन्दर डिजाईन वाली मेहंदी रचाई गयी थी. उसके आसपास उसकी बहाने, भाभियाँ और बहुत सी औरतों ने उसे घेर रखा था. हर जगह ख़ुशी और औरतों की हँसी की गूंज थी. हर कोई तो खुश था, फिर भी उस ख़ुशी के पीछे सुमति, अंजलि और मधुरिम चिंतित भी थी कि आज रात उनके साथ कौनसी नयी मुसीबत आने वाली है. इस वक़्त सभी औरतें सुमति की मेहंदी और उसकी खूबसूरती की तारीफ़ करने में लगी हुई थी. पर उसके बाद क्या हुआ वो किसी को अच्छी तरह से ध्यान नहीं आ रहा था. जैसे सभी शायद किसी नशीली नींद में चले गए थे. और सुमति को भी याद न रहा कि उसके बाद क्या हुआ था.

z10
सुमति को पिछली रात इतना ही याद रहा कि वो औरतों से घिरी हुई थी. पर उसके बाद क्या हुआ था?

अगली सुबह

सुमति अपने बिस्तर से सोकर उठी पर उसने अब तक अपनी आँखें नहीं खोली थी. वो बाहर से कुछ औरतों की आपस में बातें करने की आवाजें सुन सकती थी.

“क्या दूल्हा अब भी सो रहा है?” किसी ने पूछा. “हाँ, कल इतनी रात तक जगा हुआ जो था. पर आज तो उसकी शादी है. कोई जाकर जगाओ उसे”, दूसरी औरत ने कहा.

तभी सुमति को अपने सर पर के प्यार भरा स्पर्श महसूस हुआ. “बेटा सुमित, अब उठ भी जाओ. आज शादी है तुम्हारी!”, सुमति ने अपनी माँ की आवाज़ सुनी और अपनी आँखें धीरे से खोली. उसकी माँ उसके सामने मुस्कुराती हुई खड़ी थी.

सुमति को मुश्किल से बस एक सेकंड लगा होगा समझने के लिए कि वो एक बार फिर से आदमी बन चुकी थी. वो एक बार फिर से सुमित थी. वो अपनी माँ के चेहरे को देख मुस्कुराया. एक बार फिर से माँ का बेटा बनकर सुमित खुश था.

उसने उठकर अपना फ़ोन देखा. उसमे एक मेसेज उसका इंतज़ार कर रहा था. +GOD नंबर से आया मेसेज. “सुमति तुमने बिलकुल सही निर्णय लिया. तुमने पिछले कुछ दिनों एक औरत के कर्त्तव्य का बखूबी निर्वाह किया. इसलिए मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ है कि तुम्हारी हर इच्छा पूरी हो. इसलिए मैं तुम्हे तुम्हारा पुराना शरीर लौटा रहा हूँ. तुम्हारी दुनिया अब फिर से वैसी ही होगी जैसे १४ दिन पहले थी. तुम्हारा दाम्पत्य जीवन सुखी हो. अपनी पत्नी चैताली को हमेशा खुश रखना.”

सुमित उस मेसेज को पढ़कर तुरंत उठ खड़ा हुआ. और जल्दी ही नहाकर उसने चैताली से मिलने की सोची. उसकी माँ ने उससे कहा, “बेटा शादी के दिन शादी से पहले दुल्हन से मिलना ठीक नहीं होता है.” तो सुमित ने जवाब दिया, “यकीन मानो माँ. आज अब कुछ बुरा नहीं हो सकता. मुझे चैताली से बहुत ज़रूरी बात करनी है”

चैताली का घर बस कुछ १०० मीटर की दूरी पर ही था और सुमित दौड़ा दौड़ा चैताली से मिलने गया जो वहां अपने घर के मेहमानों के साथ व्यस्त थी. उसे दरवाज़े से देखते हुए चैताली खुश हो गयी. चैताली की माँ ने सुमित का स्वागत किया और उसकी इच्छा अनुसार, सुमित और चैताली को मिलने के लिए एकांत में एक कमरा दिलाया जहाँ सुमित चैताली से बात करने के लिए बेचैन था..

चैताली भी जल्दी ही वहां आ गयी. अपनी सिल्क साड़ी में वो परी लग रही थी. “क्या बात है सुमित? सब ठीक है न?”, उसने पूछा.

“चैताली. मैं तो सिर्फ ये कहने आया था कि आज मैं अपने आप को दुनिया का सबसे किस्मत वाला आदमी मानता हूँ जो मुझे तुम्हारी जैसी पत्नी मिल रही है. तुम हमेशा से मेरी अच्छी दोस्त रही हो. और मैं भी कहना चाहता हूँ कि मैं हमेशा तुम्हे प्यार करने वाला पति बन कर दिखाऊँगा. तुम्हारी ख़ुशी के लिए मैं कुछ भी करूंगा. और तुम चाहो तो मैं क्रॉसड्रेसिंग भी छोड़ दूंगा.”

“ओहो सुमित! मैंने तुमसे कभी कहा है क्रॉसड्रेसिंग छोड़ने को? तुम्हे पता है ये राज़ सिर्फ हम दोनों के बीच है. मैंने तुम्हे हमेशा सपोर्ट किया है, और आगे भी करूंगी. वैसे भी जब तुम औरत बनते हो, तो मुझे भी तो एक अच्छी सहेली मिल जाती है बात करने के लिए! मैं हम दोनों के बीच और कुछ भी नहीं बदलना चाहती. मैं तुम्हे प्यार करती हूँ और करती रहूंगी. तुम्हे क्रॉसड्रेसिंग छोड़ने की ज़रुरत नहीं है क्योंकि उसके बगैर तुम अधूरे रहोगे. सुमति को मैं अपने जीवन का हिस्सा बनाऊँगी. ये मेरा प्रॉमिस है”, चैताली ने कहा.

18033886_138057923399669_5105859512156221405_n
सुमित जल्दी ही चैताली से मिला. चैताली के साथ सुमति का राज़ सुरक्षित था.

चैताली की बात सुन सुमित का दिल भर आया. उसने उसे गले तो नहीं लगाया पर आँखों से उसने उसे धन्यवाद् किया. दोनों एक दुसरे की ओर देख कर मुस्कुराने लगे. उन दोनों के बीच काफी अच्छी आपसी समझ थी. उन्हें एक दुसरे से कुछ कहने के लिए शब्दों की ज़रुरत नहीं थी. वो जानते थे कि उन दोनों का जीवन बहुत खुबसूरत होगा.

जब अंजलि सुमति के घर में सोकर उठी तो उसे पता चला कि वो भी आदमी बन चुकी थी. उसने अपनी बेटी सपना और अपनी पत्नी को अपने बगल में सोता हुआ पाया. फिर उसने अपनी पत्नी को जगाकर कहा, “मेरी प्यारी धरम पत्नी. मैं तुमसे कुछ कहना चाहता हूँ. मैं जानता हूँ कि तुम सोचती हो कि तुम्हे मेरे हर निर्णय में साथ देना चाहिए. पर मैं तुम्हे बताना चाहता हूँ कि तुम मेरे बराबर हो और हर निर्णय में तुम्हारा उतना ही हक़ है जितना मेरा. तुम अपने विचार से मुझे अवगत करा सकती हो. और एक बात, मैं अपनी बेटी को बढ़ा कर एक स्वाभिमानी औरत बनाना चाहता हूँ. मेरे माता-पिता तुम्हारे साथ भले ठीक से व्यवहार न करते हो क्योंकि तुम्हे पोता नहीं मिला, पर सपना हमारे लिए किसी बेटे से कम नहीं होगी. मैं उसके हर सपने को पूरा करूंगा. और एक माँ होने के नाते तुम भी वैसा ही करना” ये शब्द सुनकर अंजलि की पत्नी दिल ही दिल में अपने पति की ओर शुक्रगुज़ार थी. उसे ख़ुशी थी कि उसकी बेटी बड़ी होकर स्वाभिमानी और इंडिपेंडेंट लड़की बनेगी.

और वहीँ जब मधुरिमा सोकर उठ, तो वो भी अब आदमी बन चुकी थी पहले की तरह. मधुरिमा के लिए तो पुरुष हो या स्त्री, उसका जीवन वैसे ही अच्छा था. उसने अपनी पत्नी अजंता को देखा और कहा, “अजंता, मैंने शायद तुमसे कई बार कहा नहीं है पर तुम्हे पत्नी पाकर मेरा जीवन सचमुच धन्य रहा है. तुम मेरा हर कदम साथ देती रही हो. पता है यदि संभव हुआ तो अगले जनम में मैं तुम्हारी पत्नी बनना चाहूँगा ताकि मैं तुम्हारी सेवा कर सकू!” अजंता के पास कुछ कहने को नहीं था… क्योंकि उसका पति तो हमेशा से ही उसे बेहद प्यार करता था. और फिर अजंता का स्वभाव भी सिर्फ देने वाला था पर उसे बदले में हमेशा बहुत सारा प्यार भी मिलता था.

इन सब से दूर शहर में जहाँ साशा रहती थी, उसकी रात भी चिंता में बीती थी. उसे याद आ रहा था कि कैसे उसने नौरीन के साथ दिल खोलकर बातें की थी. पर जब वो सोकर उठी तो वो एक बार फिर से आदमी बन चुकी थी. और जिस घर में वो थी, वो उसका पहले के घर था जहाँ उसके लड़के रूममेट थे. नौरीन आसपास कहीं भी नहीं थी. वो नौरीन को देखने को बेचैन हो उठी और जल्दी से ऑफिस जाने को तैयार हुई, अब एक आदमी के रूप में. उसे आज एक ज़रूरी काम था.

“नौरीन”, साशा अब लड़के के रुप में दौड़कर नौरीन के पास ओफ्फिए में पहुंचा. “हाँ सुशिल. तुम इतना हांफ क्यों रहे हो? दौड़ कर आये हो क्या?” नौरीन ने साशा के पुरुष रूप सुशील से कहा. नौरीन को पिछले दिनों के बारे में कुछ भी याद नहीं था जब साशा उसके साथ उसकी रूममेट बन कर रही थी.

“नौरीन मुझे तुमसे कुछ कहना है. अर्जेंट!”, साशा यानी सुशील ने कहा. और फिर दोनों एक मीटिंग रूम में चले आये जहाँ सुशील ने दोनों के बीच की चुप्पी को तोड़ते हुए कहा, “नौरीन, तुम ने दुनिया की सबसे अच्छी लड़की हो. तुम सबका सम्मान करती हो और सभी की बिना मांगे मदद भी करती हो, और बदले में किसी से कुछ भी नहीं चाहती. तुम्हे अंदाजा नहीं है कि तुमने मेरे सबसे मुश्किल समय में कैसे मदद की थी. पर मैं वो बात जानता हूँ. इसलिए मैं तुम्हे दिल से धन्यवाद देना चाहता हूँ. उस हर बात के लिए उस हर पल के लिए जिसमे तुमने मेरे साथ दिया था.”

फिर सुशील थोड़ी देर चुप रहने के बाद आगे बोला, “नौरीन, तुम मुझे बेहद पसंद हो. क्या तुम मुझसे शादी करके मेरी पत्नी बनना चाहोगी?”

नौरीन तो सुशील की बात सुनकर हैरान सी रह गयी. वो कुछ कह न सकी. “तुम मेरे सवाल का जवाब दो, उसके पहले मैं तुम्हे कुछ और बताना चाहता हूँ अपने बारे में”, सुशील ने कहा.

और फिर सुशील ने नौरीन को अपनी क्रॉसड्रेसिंग और साशा वाले रूप के बारे में बताया. वो नौरीन को बताना चाहता था पिछले दिनों के बारे में जब साशा और वो साथ रही थी, पर उसे पता था कि नौरीन उस बात का कभी यकीन नहीं करेगी. और उसके पास कोई सबूत भी तो नहीं था. यहाँ तक कि वो फ़ोन में आये sms भी अब उसके फ़ोन से गायब हो चुके थे. सुशील की बात सुनकर कुछ देर सोचने के बाद नौरीन ने सुशील की ओर देखा और बोली, “हाँ. मेरा जवाब हाँ है.” नौरीन मुस्कुरा दी. सच तो ये था कि नौरीन हमेशा से सुशील को चाहती थी और सुशील को ये पता भी नहीं था. पर पिछले कुछ दिनों में सुशील को उसका सच्चा प्यार पाने का मौका मिला था.

z2
नौरीन को ज़रा भी याद नहीं था कि पिछले कुछ दिन साशा उसकी रूममेट बनकर उसके साथ रही थी.

एक बार फिर इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों का जीवन बदल गया था पर इस बार अच्छे के लिए. सुमति यानी सुमित की शादी भी निपट गयी थी जिसमे अंजलि और मधुरिमा उसके पुरुष मित्र बन कर शामिल हुए थे. सभी का जीवन आज ख़ुशी से भरा हुआ था. अब क्रॉसड्रेसर होना किसी के लिए अभिशाप नहीं था.

कुछ दिन बाद

आज इंडियन लेडीज़ क्लब में खुशियाँ ही खुशियाँ थी. और खूब भीड़-भाड थी. न जाने कितने ही आदमी आज यहाँ इकट्ठा हुए थे और खुद को खुबसूरत साड़ियों और लहंगो में सजा रहे थे. क्योंकि आज एक ख़ास दिन था. कुछ दिनों के ब्रेक के बाद इंडियन लेडीज़ क्लब फिर से खुल रहा था. पर इस बार के बदलाव था इस क्लब में. अब ये क्लब न सिर्फ क्रॉसड्रेसर “महिलाओं” के लिए था बल्कि अब उनकी पत्नियों, गर्ल फ्रेंड के लिए भी खुल गया था. बहुत सी क्लब की औरतों की मदद आज उनकी पत्नियां या गर्ल फ्रेंड कर रही थी. उन्हें सजाते हुए वो सब भी खुश थी. और जो क्लब की सदस्य अकेली थी, उनकी मदद के लिए क्लब की सीनियर लेडीज़ तो थी ही. सबके चेहरे पर ख़ुशी थी आज.

पर एक सदस्य जो सबसे ज्यादा खुश थी, वो थी सुमति. सुमति को आज दुल्हन के रूप में सजाया जा रहा था. अंजलि, मधुरिमा और कई औरतें इस ख़ास अवसर पर सुमति को सजाने में मदद कर रही थी. अंजलि और मधुरिमा का साथ पाकर सुमति भी बहुत खुश थी. इन तीनो सहेलियों ने कठिन समय भी साथ में गुज़ारा था, और इस दौरान उनकी दोस्ती और गहरी हो गयी थी. आज इस क्लब में सुमति और चैताली की शादी हो रही थी जहाँ वो दोनों ही दुल्हनें होंगी. सभी “लेडीज़” आज इस शादी में सुमति की तरफ से सम्मिलित हो रही थी और उनकी पत्नियाँ और गर्ल फ्रेंड चैताली की ओर से. सुमति अब दुल्हन के रूप में सजकर तैयार थी. और क्लब की दूसरी औरतें भी जो रंग बिरंगे परिधानों में निखर रही थी. सुमति आज क्लब के सदस्यों के प्रति शुक्रगुज़ार थी जो इस पल को यादगार बनाने के लिए शामिल हुए थे.

z3
इंडियन लेडीज़ क्लब में आज खुशियाँ ही खुशियाँ थी. आज लेडीज़ सुन्दर साड़ियों और लहंगो में सजी थी, क्योंकि आज सुमति और चैताली की शादी का ख़ास अवसर था. सुमति इस वक़्त एक पारंपरिक दुल्हन बनकर अपनी सहेलियों से घिरी हुई थी. इंडियन लेडीज़ क्लब एक बार फिर जाग उठा था.

इंडियन लेडीज़ क्लब की आखिरी मीटिंग में शामिल सभी औरतें आज इस शादी में भी आई थी, बस एक औरत इस शादी में नहीं थी. वो थी अन्वेषा, जिसने पिछली बार राजकुमारी बनाया गया था. कुछ रात पहले जब सभी वापस आदमी बन गए थे, उस दिन अन्वेषा भी बदल गयी थी. पर आदमी बनने की बजाये या एक खुबसूरत औरत बनी रहने की जगह, जब वो सोकर उठी थी तो वो एक कुरूप औरत बन चुकी थी. वो एक बुरे विचारो वाली औरत थी जो अपने अलावा किसी और के बारे में नहीं सोचती थी. अपने सुन्दर औरत के रूप का उसने बहुत गलत फायदा उठाया था. और उसी कर्मो का फल था कि उसे हमेशा के लिए एक कुरूप औरत बनकर अब जीवन गुजारना था. शायद किसी दिन कोई राजकुमार आकर उसे इस श्राप से मुक्त करेगा पर तब तक उसे अकेले ही ऐसे जीवन गुजारना होगा.

पिछले कुछ हफ्ते, एक औरत के रूप में इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों को एक ख़ास शिक्षा दे गया था. क्रॉसड्रेसर होना श्राप नहीं है. ये हमारे ऊपर है कि हम इसे एक वरदान मान कर अपने अन्दर की स्त्री को अनुभव करे या फिर इसे श्राप मानकर अपने जीवन को दुखी करे. हम अपने अन्दर की खुबसूरत स्त्रियोचित भावनाओं और क्वालिटी का उपयोग अपनी जीवन संगिनियों को अच्छे से समझने में उपयोग कर सकती है. पर इसके लिए हमें खुद को अपने जीवन साथ के समक्ष खोलना होगा और उन्हें समझाना होगा कि हम सभी अच्छे लोग, चाहे हम जो भी कपडे पहने. और साथ ही साथ हमें उनकी ज़रूरतों को भी समझना होगा. हम हर समय औरत बनकर नहीं रह सकती उनकी इच्छाओ का सम्मान किये बगैर. किसी भी रिश्ते में एक बैलेंस ज़रूरी है और यह बात ये सभी औरतें समझ चुकी थी. इसलिए आज वो ये खुशियों भरा जीवन जी सकती थी.

लेखिका का नोट:  इस कहानी को ख़त्म करके मुझे बेहद ख़ुशी है. बहुत लम्बा था इसे लिखना और बहुत समय भी लगा. भले ये काल्पनिक कहानी थी और शायद हम सब भी चाहेंगी कि काश हमारे साथ भी ऐसा हो. पर रातोरात हम सब औरत बन जाए, ये शायद संभव नहीं है. पर यही तो इस कहानी का मुख्य सन्देश है. यह हमारे ऊपर निर्भर करता है कि हम अपने जीवन को खुशहाल बना सकते है चाहे हमारे पास सब कुछ न हो. और यदि हम ज़रा कोशिश करे, तो खुशियाँ हमसे दूर नहीं रह सकेगी. मैं प्रार्थना करती हूँ कि जितनी भी क्रॉसड्रेसर औरतें ये कहानी पढ़ रही है उन सबके सपने सच हो और उनका जीवन पुरुष और स्त्री दोनों रूप में खुशहाल रहे.
समाप्त

सभी भागो के लिए यहाँ क्लिक करे

< भाग १४

यदि आपको कहानी पसंद आई हो, तो अपनी रेटिंग देना न भूले!

free hit counter

इंडियन लेडीज़ क्लब: भाग १४

सुमति अपनी शादी के लिए घर आ गई थी. क्या वो इस शादी और अपने नए जीवन के लिए तैयार थी?


यदि आपको कहानी पसंद आये, तो ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर रेटिंग ज़रूर दे!

Click here to read in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

सुमति की शादी

“माँ, सुमति दीदी आ गयी. जल्दी आओ न”, रोहित ने ख़ुशी से अपनी बहन को रिक्शे से आते देख अपनी माँ को आवाज़ दी. सुमति अब अपनी माँ के घर आ गयी थी जहाँ उसकी शादी की तैयारियां जोर शोर से चल रही थी. अब चैतन्य और सुमति की शादी में सिर्फ ८ दिन रह गए थे. अभी भी सुमति को यकीन नहीं हो रहा था पर कुछ ही दिनों में वो एक पत्नी बनने वाली थी. फिर भी, अपने घर में अपनी माँ के पास वापस आकर वो खुश थी.

रोहित भी अब दौड़े दौड़े सुमति के बैग उठाने आ गया था. शिक्षा भाभी जो पड़ोस के घर में रहती थी वो भी दौड़ी चली आई. “सुमति आ गयी! अरे वाह सुमति तो और भी खुबसूरत होकर आई है शहर से”, सर को अपने पल्लू से धक्के शिक्षा भाभी ने उत्साह से कहा. गाँव की रहने वाली शिक्षा भाभी को बड़ा उत्साह होता जब भी कोई शहर से आता. लगता है कि उन्हें सुमति बहुत पसंद थी तभी तो सुमति और रोहित को चलकर आते देखकर इतनी खुश थी वो.

अब तक सुमति की माँ भी दरवाजे पर आ गयी थी. वो हाथ में एक पूजा की थाली लिए खड़ी थी जिसमे एक दिया जल रहा था. अपनी बेटी सुमति को बेहद ख़ुशी के साथ उन्होंने घर में प्रवेश कराया. माँ को पूजा की थाली के साथ देख सुमति ने भी अपना सर अपने सलवार सूट के दुपट्टे से ढँक लिया और माँ उसकी नज़र उतारने लगी. माँ को देखते ही सुमति के चेहरे की ख़ुशी बढ़ गयी थी. पिछली बार जब वो यहाँ आई थी, तब वो घर का बड़ा बेटा थी. आज स्थिति बदल गयी थी पर फिर भी माँ का प्यार बिलकुल वैसा ही था. सुमति ने अपनी माँ के पैर छूने चाहे तो उन्होंने उसे रोक लिया. “अरे बेटी की जगह तो दिल में होती है पैरो पे नहीं”, ऐसा कहकर उन्होंने अपनी प्यारी बेटी के चेहरे को छुआ. माँ बेटी गले मिल अपनी अनकही ख़ुशी एक दुसरे के साथ बांटने लगी.

“अरे शिक्षा. वहां खड़ी खड़ी क्या कर रही है. तेरी ननद आई है, तू भी ज़रा नज़र उतार दे इसकी. स्वागत नहीं करेगी अपनी ननद का?”, सुमति की माँ ने शिक्षा भाभी से कहा जो एक जगह खड़ी होकर यह सब देख रही थी. शिखा सामने आई, और पूजा करके सुमति को गले लगा ली. “कैसी हो भाभी? और आपके शरारती बच्चे कैसे है?”, सुमति ने पूछा. “बच्चे ठीक है सुमति. थोड़ी ही देर में स्कूल से आते ही होंगे. “, भाभी ने जवाब दिया.

“लड़कियों! अभी बहुत समय है बात करने के लिए. पहले सुमति को घर के अन्दर आकर थोडा आराम तो करने दो”, सुमति की माँ ने दोनों से कहा.

अन्दर आकर सुमति अपने कमरे में चली गयी. कितना कुछ बदल गया था उस कमरे में. पहले वो एक लड़के का कमरा हुआ करता था. पर अब तो देख कर ही पता चल रहा था कि वो एक लड़की का कमरा था. और सब कुछ बिलकुल सुमति की एक औरत के रूप में पसंद के अनुसार ही था वहां. जब बचपन में वो सोचती थी कि यदि वो लड़की होती तो अपने कमरे को कैसे सजाती, बिलकुल वैसे ही सब सजा था उस कमरे में. सुमति की बनायीं हुई पेंटिंग भी थी उस कमरे में.

Sumati
नहाने के बाद सुमति ने एक हरे रंग का सलवार सूट पहन लिया.

सुमति कुछ देर अपने बिस्तर पर बैठी जिस पर फूलो के प्रिंट वाली चादर बीछी थी. उसने कमरे की खिड़की से बाहर की ओर देखा तो, वहां से कुछ १०० मीटर की दूरी पे चैताली का घर दिखा जो अब चैतन्य थी, सुमति का होने वाला पति! दूर से ही उस घर में मेहमानों के चहल पहल दिख रही थी. कुछ ही दिन में सुमति उस घर की बहु बनने वाली थी. इस बारे में सोचना भी सुमति के लिए भारी था. पर फिर भी उन विचारो को अनदेखा करती हुई वो नहाने चली गयी. और नहाने के बाद उसने एक हरे रंग का सलवार सूट पहना. एक क्रॉसड्रेसर के रूप में तो सुमति हमेशा साड़ी पहनना पसंद करती थी. पर अब जब वो औरत बन चुकी थी, वो अब सलवार सूट पहनना ज्यादा पसंद करने लगी थी. साड़ी के मुकाबले शायद उसे मैनेज करना ज्यादा आसान था. उसने कुछ देर अपनी माँ के साथ समय बीताया क्योंकि इतने दिनों बाद अपनी माँ से मिल रही थी सुमति. माँ-बेटी ने साथ में लंच किया और फिर सुमति की माँ ने उसे कुछ घंटे सोने के लिए जाने कहा. वैसे भी लम्बी ट्रेन की यात्रा के बाद सुमति थक भी गयी थी. पर वो सोना नहीं चाहती थी. वो अपनी माँ से कुछ बातें करना चाहती थी. न जाने क्यों वो अपनी माँ को बताना चाहती थी कि सुमति उनकी बेटी नहीं बल्कि बेटा हुआ करती थी. पर कैसे समझाएगी वो ये सब अपनी माँ को जिनकी नजरो में आज वो हमेशा से ही उनकी बेटी रही है. इस स्थिति से सुमति अन्दर ही अन्दर थोडा कुढ़ सी गयी थी. पर क्या कर सकती थी वो. अंत में मन की उधेड़-बून के बाद उसने सोना ही उचित समझा.

कुछ घंटे बाद सुमति की माँ ने आकर उसके सर पे हाथ फेर कर सुमति को दुलार से जगाया. “बेटी शाम हो गयी है. अब उठ जाओ.”, माँ ने कहा और माँ की बात सुनकर सुमति उठ गयी. “ओह्ह मुझे तो पता भी नहीं चला इतनी देर हो गयी. शायद ट्रेन की थकान कुछ ज्यादा ही थी.”, सुमति बोली.

“कोई बात नहीं बेटा. वैसे भी घर में मेहमान कल से आना शुरू होंगे. उसके पहले मैं तुझसे कुछ बातें करना चाहती थी.”, सुमति की माँ ने कहा. “क्या बात है माँ?”, सुमति ने पूछा.

“बेटा तू जल्दी ही अब नए घर में चली जाएगी. मुझे तो बहुत ख़ुशी है कि तेरी शादी चैतन्य से हो रही है. बचपन से मैंने अपनी प्यारी गुडिया को चैतन्य के साथ खेलते देखा है और अब तू दुल्हन भी बनने जा रही है.”, माँ ने कहना शुरू किया.

“नहीं माँ, वो गुडिया चैताली थी मैं नहीं. मैं तो लड़का थी.”, सुमति ने मन ही मन सोचा. ये इंसान का दिल भी बड़ा अजीब होता है. जब सुमति लड़का थी तब वो चाहती थी कि उसकी माँ उसे लड़की के रुप में स्वीकार करे. अब जब वो औरत है तो वो माँ को अपने लड़के वाले रूप के बारे में याद दिलाना चाहती है. पर चाहते हुए भी वो माँ से कुछ कह न सकी.

“सुमति, अपने नए घर में सब तुझसे उम्मीद करेंगे कि तू सीधा पल्लू स्टाइल में साड़ी पहने और अपना सर ढँक कर रहे. तुझे कई सारे मेहमानों के लिए खाना भी बनाना पड़ेगा. और किसी भी माँ की तरह, मुझे भी अपनी बेटी की फ़िक्र है. मुझे पता है कि तूने शहर में अकेले रहते हुए खाना बनाना तो सिख लिया है. फिर भी मैं तुझे सीधा-पल्ला साड़ी पहनना और कुछ ख़ास डिश सीखाना चाहती हूँ. तू सीखेगी मुझसे?”

z3
सुमति की माँ ने उसे सीधा पल्ला साड़ी पहनना सीखाया. किसी और माँ बेटी की तरह, उन दोनों का समय भी अच्छा बीत रहा था.

“ज़रूर माँ. मैं तुम्हारी रेसिपी ज़रूर सीखना चाहूंगी”, सुमति ने उत्साह के साथ कहा. वैसे भी लड़के के रूप में वो हमेशा सपने देखती थी कि उसकी माँ उसे बेटी की तरह ट्रीट करेगी और एक दिन अपनी एक साड़ी उसे पहनने को देगी. शायद एक माँ बेटी के बीच का सबसे प्यारा पल होता है ये जब माँ उसे पहली बार अपनी साड़ी गिफ्ट करती है. सुमति अब खुश थी कि आज वो बेटी बन रही है जो वो हमेशा से सोचा करती थी. थोड़ी देर में ही सुमति की माँ उसके लिए एक मेहंदी रंग की साड़ी लेकर आ गयी. तब तक सुमति भी अपना ब्लाउज और पेटीकोट बदल चुकी थी. उसके बाद उसकी माँ ने उसे सीधे पल्ले स्टाइल में साड़ी पहनना सिखाया. सुमति सचमुच बहुत खुश थी अपनी माँ से साड़ी पहनना सिख कर. वैसे सच तो यह था कि सुमति को पहले से ही कई तरह से साड़ी पहनना आता था पर वो यह ख़ुशी महसूस करना चाहती थी जिसमे उसकी माँ उसे बेटी के रूप में स्वीकार कर रही थी. बहुत सुन्दर पल थे वो माँ बेटी के बीच के. इसके बाद दोनों किचन गयी जहाँ सुमति की माँ ने अपनी ख़ास रेसिपी सुमति को सिखाई. दोनों को खाना बनाते वक्त बहुत मज़ा आया. तभी इस बीच सुमति के फ़ोन में एक sms आया. उसने देखा की उसके फ़ोन की लाइट टिमटिमा रही थी. उसने सोचा थोड़ी देर बाद sms देख लेगी पर न जाने क्यों वो उस sms को अनदेखा नहीं कर सकी. “मैं एक मिनट में फ़ोन देखकर आती हूँ माँ”, सुमति ने अपनी माँ से कहा. और फिर अपने हाथ धोकर अपनी साड़ी के पल्लू से पोंछकर वो फ़ोन में मेसेज पढने लगी.

“हेल्लो सुमति! औरत के रूप में नया जीवन कैसा बीत रहा है? क्या तुम्हे अपने पुरुष रूप के जीवन की याद आ रही है? पर तुम तो हमेशा से औरत बनना चाहती थी न? अब तक तो तुम्हे एहसास हो गया होगा कि चाहे पुरुष का जीवन हो या स्त्री का, जीवन में मुश्किलें और उतार-चढ़ाव तो बने ही रहते है. यदि तुम्हारी क़िस्मत में मुश्किलें लिखी है तो वो तुम्हारे कर्मो की वजह से होती है, न कि इस वजह से की तुम्हारा जन्म पुरुष या स्त्री रूप में हुआ है. औरत बनने के बाद भी तुम अपने कर्मो से आज़ाद नहीं हुई हो. तुमने जीवन का ये पाठ अब तक तो सिख ही लिया होगा. पर तुम्हारे पास अब भी मौका है. अच्छे कर्मो से तुम अपने भविष्य को अब भी संवार सकती हो. तो तुम बताओ, क्या अब भी तुम औरत बनी रहना चाहोगी या तुम्हे फिर से पुरुष बनना है? तुम्हारे पास सोचने के लिए एक हफ्ते का समय है. फिर समय का ये चक्र तुम्हारा भविष्य निर्धारित करेगी. हमेशा सुखी रहो यही मेरा आशीर्वाद है.”

बड़ा ही अजीब सा मेसेज था यह. कौन भेज सकता था ये? इंडियन लेडीज क्लब की औरतों के अलावा तो दुनिया में कोई भी सुमति के पुरुष रूप में जीवन को नहीं जानता था. “कौन हो तुम?”, सुमति ने उत्सुकतावश उस sms के जवाब में सवाल पूछा.

“मैं कौन हूँ, इससे क्या फर्क पड़ता है सुमति? कुछ लोग मुझे मोहन के नाम से जानते है और कुछ ने मुझे मोहिनी रूप में भी देखा है. तुम बस इस एक हफ्ते अपने भविष्य की सोचो. एक अच्छी औरत होने का कर्त्तव्य अदा करो, और सब ठीक ही होगा. गुड लक”

उस जवाब के बाद सुमति ने उस नंबर पर कॉल करने की कोशिश की. पर वो नंबर भी अधूरा दिख रहा था. +४६३. उसने ध्यान से देखा तो वो नंबर +GOD था. कोई उसके साथ खेल खेल रहा था. पर इस मेसेज ने उसे अन्दर से हिला कर रख दिया था.

ऐसा मेसेज पाने वाली सिर्फ सुमति नहीं थी. करीब उसी समय, साशा को भी ऐसा ही मेसेज ऑफिस में आया. अंजलि को भी जब वो अपनी बेटी सपना को खाना खिला रही थी. मधु के पास भी ऐसा ही मेसेज आया और अन्वेषा के पास भी. और इंडियन लेडीज़ क्लब की सभी सदस्यों को जो अब सभी उस एक रात के बाद औरतें बन गयी थी. कोई भी उस मेसेज को समझ नहीं सकी. क्या होगा एक हफ्ते में? सुमति के लिए तो वो दिन उसकी शादी के एक दिन पहले का दिन होगा.

अगले ७ दिन

z6
सांतवे दिन सुमति जब उठी तो उसे पता नहीं था कि उस रात उसके साथ क्या होने वाला था.

अगले ७ दिन, सुमति का जीवन चलता रहा. उसके घर में कई मेहमान भी आ गए थे. उसने अपना नया जीवन अब तक स्वीकार कर लिया था और वो पूरी कोशिश करती की उसके आसपास सभी खुश रहे. उसके अन्दर चल रहे द्वन्द को वो अपने तक ही सीमित रखती. और फिर सांतवे दिन जब वो सोकर उठी, तो उसे एक हफ्ते पुराना वो मेसेज याद आया. पर उसे पता नहीं था कि उस रात उसके साथ क्या होगा. वो कुछ देर बिस्तर पर ही लेटी रही, वो अभी किसी से तुरंत बात नहीं करना चाहती थी. उसने बस भगवान से प्रार्थना की कि सब ठीक हो. और फिर बिस्तर से उठकर घर में अभी अभी आये दो मेहमानों से मिलने बाहर निकल आई. उन्हें देख कर वो बहुत खुश हुई, आखिर वो दोनों अंजलि और मधुरिमा थी. वो दोनों अपने परिवार समेत सुमति की शादी में सम्मिलित होने आये थे. अंजलि, अपने पति और सास-ससुर के साथ थी वही मधु अपने पति जयंत के साथ. उन्हें देखते ही सुमति को पता चल गया था कि उन दोनों को भी सुमति की ही तरह एक मेसेज आया था. उसे एक दिलासा हुआ कि चलो आज हम तीनो उस पल में साथ रहेंगी.

उस मेसेज के बाद का एक हफ्ता अंजलि के लिए भी कुछ बदलाव लेकर नहीं आया था. उसे एक पत्नी, एक माँ और एक बहु के रूप में अपने कर्त्तव्य हमेशा की तरह निभाने थे. वो भी सब की ख़ुशी के लिए दिन रात काम करती रहती थी, बिना कोई शिकायत. वो अब ऐसी औरत बन गयी थी जो सिर्फ देना जानती है बिना कुछ किसी से मांगे. असीमित प्यार से भरी औरत बन गयी थी अंजलि. वो तब भी उतने ही प्यार से रहती जब उसका पति देर रात काम से आता और उससे शारीरिक प्रेम करने लगता चाहे वो कितनी ही थकी होती. उसने खुद को अपने पति के प्रति समर्पित कर दिया था.

शादी के घर में, उन सहेलियों के लिए प्राइवेट में समय निकाल कर उस मेसेज के बारे में बात करना थोडा मुश्किल था पर उनकी आँखें एक दुसरे से सब कुछ कह दे रही थी. दिन अपनी गति से बीत रहा था. और दोपहर में सुमति को हल्दी लगाये जाने वाली थी. हल्दी के लिए मधु ने सुमति को उसकी माँ के साथ पीले रंग की लहंगा चोली पहनाने में मदद भी की. और फिर मधु और सुमति की माँ ने मिलकर सुमति को स्टेज पर लेकर आई जहाँ उसे बैठा कर ५ सुहागन औरतें उसे हल्दी लगाने की रस्म पूरा करने वाली थी. मधु तो एक माँ की तरह ही खुबसूरत सुमति को देख गर्व से फूली नहीं समा रही थी. अंजलि पहली सुहागन थी जो सुमति को हल्दी लगाने वाली थी. सुमति जो अब एक खुबसूरत दुल्हन थी, उसने अंजलि की आँखों में देखा. दोनों सहेलियां इस मीठे खुबसूरत पल का आनंद ले रही थी. वो इस पल को हमेशा याद रखेंगी.

z9
अंजलि पहली सुहागन थी जो खुबसूरत दुल्हन को हल्दी लगाने वाली थी. दोनों सहेलियां इस पल को हमेशा याद रखेंगी.

हल्दी के बाद अब दिन जल्दी ही ख़त्म होने को आ रहा था. अब घर में मेहंदी की रस्म निभायी जा रही थी. सुमति के हाथो और पैरो पर खुबसूरत मेहंदी सजाई जा रही थी. और अंजलि और मधु उसके बगल में बैठ कर सुमति की खूबसूरती निहार रही थी. तभी अंजलि को एहसास हुआ कि उसके फ़ोन में कोई मेसेज आया है. बहुत सीधा सा मेसेज था. “क्या तुम तैयार हो आज रात के लिए अंजलि?” ये मेसेज उसी अनजान नंबर से आया था. मधु ने भी अपना फ़ोन देखा और उसमे भी वैसा ही मेसेज था. दोनों ने थोड़ी चिंता के साथ सुमति की ओर देखा जो इस वक़्त अपनी बहनों और भाभियों के संग ख़ुशी से खिलखिला रही थी. वो रात भी शान्ति से बढ़ रही थी. तब तक जब तक सब सो नहीं गए. अब वो समय आ गया था. समय का चक्र चल रहा था. पर अब कुछ होने वाला था.

अगला भाग इस कहानी का अंतिम भाग होगा. उस रात को क्या हुआ जानने के लिए ज़रूर पढ़े.

क्रमश: …

सभी भागो के लिए यहाँ क्लिक करे

< भाग १३ अंतिम भाग >

यदि आपको कहानी पसंद आई हो, तो अपनी रेटिंग देना न भूले!

free hit counter

इंडियन लेडीज़ क्लब: भाग १३

सुमति और अंजलि आज मधुरिमा से मिलने जा रही थी. क्या मधुरिमा के पास सुमति के सवालो का जवाब होगा?


यदि आपको कहानी पसंद आये, तो ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर रेटिंग ज़रूर दे!

Click here to read in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

मधुरिमा का स्वर्ग

बाथरूम से फ्लश चलने की आवाज़ हुई, और दरवाज़ा खोल कर सुमति अपनी साड़ी ठीक करती हुई बाहर निकली. “उफ़.. ये इंडियन स्टाइल के टॉयलेट में साड़ी पहनकर जाना ज़रा भी आसान नहीं होता!”, सुमति ने शिकायत भरे लहजे में कहा. वो अपनी कमर के निचे की प्लेट को हिलाकर सुधार रही थी ताकि वो अपने पहले के रूप में आ जाए. वैसे भी टॉयलेट चाहे इंडियन हो या वेस्टर्न, हमेशा से आदमी के रूप में जाने की आदत के बाद औरत के रूप में जाना तो मुश्किल ही था सुमति के लिए.

सुमति की परेशानी देखकर अंजलि जोर जोर से हँसने लगी. उसने अपने बालो का जुड़ा खोला और फिर अपने बालों को पीछे एक रबर बैंड से बाँधने लगी. “तेरी साड़ी पीछे ऊपर अटक गयी है कमर पर. ठीक कर ले वरना ऐसे ही बाहर जायेगी तो दुनिया हँसेगी हम पर!”, अंजलि ने सुमति को चेताया.

सुमति ने पीछे पलट कर देखा तब उसे पता चला कि बाथरूम के बाद पेंटी ऊपर चढाते वक़्त उसकी साड़ी और पेटीकोट उसकी पेंटी में अटक गयी थी. बड़ी ही हास्यास्पद स्थिति थी और अंजलि का हँसना रुक ही नहीं रहा था. सुमति को थोड़ी शर्म सी महसूस हो रही थी. भले ही हँसने वाली स्थिति थी, पर एक औरत के रूप में सुमति को सावधान रहना होगा भविष्य में. “आई हेट दिस!”, सुमति गुस्से में बोली, “… देख, मेरी प्लेट भी अब सही से नहीं बन रही है. मुझे खोल कर फिर से ठीक करना होगा” सुमति थोड़ी सी उदास दिख रही थी. शायद वो ड्रामा क्वीन बन रही थी पर उसकी मुसीबत असली थी.

“अब शांत भी हो जाओ मैडम. मैंने तुझे पहले भी कितनी बार समझाया है कि प्लेट की लम्बाई में दो सेफ्टी पिन का उपयोग किया कर. एक सबसे ऊपर कमर के पास और दूसरी कुछ इंच निचे. अब याद रखेगी न? इधर आ मैं ठीक कर देती हूँ प्लेट”, अंजलि बोली. अंजलि अब भी पहले की ही तरह थी, सहायता करने वाली, प्यार से भरी हुई औरत. जब वो आदमी थी तब भी उसके अन्दर एक अच्छी औरत के सारे गुण मौजूद थे. उसने सुमति की साड़ी सुधारने में मदद की और फिर उसके बाद बोली, “अब ठीक है?” वो मुस्कुरायी और सुमति की आँखों में देखने लगी. सुमति अब ठीक मूड में थी. उसने हाँ में सर हिलाया और अपनी सहेली की तरह देख कर मुस्कुराने लगी.

इसके बाद अंजलि भी खुद तैयार होने लगी. वो एक पुराने से लम्बे आईने के सामने खड़े होकर अपने बालों पर कंघी कर सुलझाने लगी, और फिर से एक रबर बैंड से उन्हें बाँध ली. “कितनी प्यारी है अंजलि!”, सुमति मन ही मन सोचने लगी. वो भगवान को शुक्रिया अदा कर रही थी कि उसे अंजलि जैसी सहेली मिली.

“तो सुमति मैडम? हम चले? मैं तो तैयार हूँ अब”, अंजलि सुमति की ओर पलट कर बोली. “तू ऐसे चलेगी? तुझे मेकअप नहीं करना है तो कम से कम साड़ी तो बदल ले. सुबह से घर के काम करते वक़्त से यही साड़ी पहनी हुई है”, सुमति ने अंजलि को लगभाग डांट ही दिया.

sb23
अंजलि ने अपने बालो का जुड़ा खोला और अपने बालो को एक रबर बैंड से बाँध कर कुछ ही मिनट में जाने को तैयार हो गयी. पर सुमति चाहती थी कि अंजलि साड़ी बदल ले..

“जैसी आपकी आज्ञा सुमति मैडम! मैं बदलती हूँ साड़ी. मुझे ५ मिनट लगेंगे बस”, अंजलि ने सुमति के गुस्से को शांत करना चाहा.

“अंजलि, तुझे याद है कि कैसे लेडीज़ क्लब में सबसे अच्छा मेकअप करना तुझे ही आता था. और आज तू नेल पोलिश तक नहीं लगायी है.”, सुमति बोली.

“मेरी प्यारी सुमति. तब मैं हाउसवाइफ नहीं थी न.. दिन में दर्जनों बर्तन धोने के बाद कोई नेल पोलिश नहीं टिकती है. समय बदल गया है. अब मेकअप के अलावा कई बातें है जो एक औरत के रूप में मुझे आनंद देती है. तो मेकअप के लिए समय निकालना अब मेरे लिए ज़रूरी नहीं है. समझ रही तू?”, अंजलि अपनी अलमारी में साड़ी ढूंढते हुए बोली. सुमति कुछ कह न सकी. अंजलि की प्राथमिकताएं अब बदल गयी थी. अब वो एक खाली समय में सजने वाली क्रॉसड्रेसर नहीं थी, अब वो एक माँ और एक गृहिणी थी जिसके लिए कपडे पहनना टाइम पास नहीं था. तब तक अंजलि ने एक नीली और ग्रे रंग की साड़ी निकाल ली. उसने सुमति को इशारा किया कि उसे साड़ी बदलने के लिए थोड़ी प्राइवेसी चाहिए.

“क्या यार…. जब तू आदमी थी तब तो नहीं शरमाई तू मेरे सामने कपडे बदलने से.”, सुमति ने चुटकी लेते हुए कहा. “हाँ तू सही कह रही है”, अंजलि ने धीमी आवाज़ में कहा. फिर थोड़ी देर बाद बोली, “तब मेरे पास बूब्स नहीं थे न छुपाने के लिए!” सुमति भी थोडा हँस दी उसकी बात सुनकर. “तब तो मेरे पास भी बूब्स नहीं थे. पर अब… हम्म… तू देखना चाहेगी मेरे बूब्स?”, सुमति बोली.

“चल हट बड़ी नटखट हो गयी है तू. मुझे तेरे बूब्स देखने की ज़रुरत नहीं है. मेरे अपने बूब्स को देख कर ही खुश हूँ मैं. ३४DD साइज़ है मेरा… पता है तुझे?”, अंजलि ने ब्लाउज पर से ही अपने बूब्स को छूते हुए कहा. “चल अब मैं ब्लाउज बदल रही हूँ. झाँकने की कोशिश मत करना”, अंजलि ने मज़ाक में कहा और अपना ब्लाउज उतारने लगी. अन्दर उसने एक बेहद ही साधारण सी सफ़ेद रंग की ब्रा पहनी हुई थी. उसके स्तन तो बेहद सुन्दर आकार के थे, पर उसकी ब्रा थोड़ी बदसूरत सी थी. अंजलि के लिए समय सचमुच बदल गया था. एक क्रॉसड्रेसर के रूप में उसके पास कई महँगी और फैंसी ब्रा हुआ करती थी. तब तो ऐसे ब्रा वो कभी न पहनती. पर अब की आर्थिक स्थिति में शायद वो यही मैनेज कर पाती हो किसी तरह. “शायद मुझे अंजलि को अच्छी ब्रा गिफ्ट करनी चाहिए.”, सुमति सोच में पड़ गयी. जहाँ तक सुमति अंजलि को समझती थी, अंजलि सुन्दर ब्रा पाकर ज़रूर खुश होगी.

अंजलि खुद इस वक़्त सोच रही थी कि अपनी सहेली के सामने कपडे बदलने में वो इतना शर्मा क्यों रही थी. सुमति के साथ तो उसने कितने बार कपडे बदले थे. शायद उसे थोड़ी सी शर्म आ रही थी कि अब उसके अन्तःवस्त्र इतने सुन्दर न थे. उसने झट से अपना पेटीकोट उतारकर दूसरा पेटीकोट पहन लिया. और फिर उसने अपनी नीली रंग की साड़ी पहनी जिस पर काले पोल्का डॉट बने हुए थे. उसका ब्लाउज उसके स्तनों पर बहुत बढ़िया फिट आ रहा था और आस्तीन भी उसकी मांसल बांहों पर बिलकुल सही फिट आ रही थी. सेक्सी दिख रही थी अंजलि. अब जब इस औरत के नए जीवन में अंजलि और सुमति लेस्बियन थी, तो अंजलि की तरह सुमति का आकर्षित होना स्वाभाविक था. पर फिर भी इस आकर्षण को काबू में रखना है, यह दोनों ने थोड़ी देर पहले ही तय किया था. सुमति इस वक़्त सिर्फ अपनी सहेली को देखकर एडमायर करती रही.

अपने कहे अनुसार, अंजलि ५ मिनट में तैयार भी हो गयी. “ओह राजकुमारी सुमति जी, मैं तैयार हूँ. मधुरिमा आंटी का घर यहाँ से १० मिनट की दूरी पर है. तो चलते है अब. मुझे फिर १ बजे के पहले वापस भी आना है. सास ससुर को खाना खिलाने.”

अपनी सहेली को तैयार देख सुमति उसके पास चल कर आई और उसके एक हाथ को पकड़ कर बोली, “किसी की नज़र न लगे तुझे”

अंजलि ने फिर अपना घर लॉक किया और दोनों सहेलियां गेट की ओर बढ़ने लगी. “अंजलि प्लीज़ एक बार मेरी साड़ी देख ले पीछे से. कहीं और अटकी तो नहीं है? बाहर सड़क पर शर्मिंदगी नहीं झेल सकूंगी मैं” सुमति अब भी चिंतित थी. “सब ठीक है. अब चल इस रास्ते जाना है”, अंजलि ने कहा और दोनों चल पड़ी.

sf04
अंजलि ने जल्दी से साड़ी बदल ली. अपने नीले ब्लाउज और काले पोल्का डॉट की साड़ी में सेक्सी लग रही थी वो. उसने घर पे ताला लगाया और दोनों सहेलियां निकल गयी मधुरिमा से मिलने के लिए.

“अंजलि तुझे याद है करीब २ साल पहले हम दोनों दोपहर में घर से बाहर औरत बनकर निकली थी?”, सुमति ने पूछा. “कैसे भूल सकती हूँ वो दिन? कितना पीछे पड़ना पड़ा था मुझे तेरे. तू तो भीगी बिल्ली की तरह घबरायी हुई थी. मेकअप में पसीने छूटे हुए थे तेरे. और ५ मिनट में तू घर वापस भी हो गयी थी.”, अंजलि ने सुमति की ओर देख कर कहा.

“अब बात को इतना भी बढ़ा चढ़ा के मत बोल. पूरे १५ मिनट बाहर थे हम!”, सुमति ने शिकायती लहजे में नखरे भरे हावभाव करते हुए कहा. “चल ठीक है. फिर भी ५ मिनट न सही पर तू १० मिनट भी बाहर नहीं थी. और डर के मारे वापस घर की ओर दौड़ कर भागते हुए तू बार बार अपनी ही साड़ी पर पैर रख रही थी. और वैसे भी ३ इंच की सैंडल पहन कर कौनसी औरत दौड़ती है भला?”, अंजलि सुमति को छेड़ रही थी.

“हाँ मैं मान लेती हूँ कि मैं एक मुर्ख औरत थी तब. पर अब देखो… हम अब दो खुबसूरत औरतें है और खुले आसमान के निचे अब हम बेफिक्र होकर घूम सकती है. मैं तो मधुरिमा माँ से मिलने को लेकर बहुत उत्साहित हूँ. कैसी है वो? तेरी बात हुई थी उनसे?”, सुमति ने पूछा. (सुमति एक क्रॉसड्रेसर के रूप में मधुरिमाँ को अपनी माँ मानती थी)

सुमति सही कह रही थी. खुली हवा में दोनों औरतें आज बेफिक्र थी. और अचानक से बहती तेज़ हवा जैसे उनसे सहमत थी. उन दोनों की साड़ी और पल्लू उस तेज़ हवा के झोंके में आज़ादी की ख़ुशी में लहराने लगे थे. उन दोनों ने जल्दी से अपने पल्लू और साड़ी को अपने हांथो से पकड़ कर संभालने की कोशिश की. वो हवा का झोंका भी जल्दी ही चला गया. उस वक़्त सड़क किनारे कुछ आदमी भी थे जो इन खुबसूरत औरतों को देख रहे थे जो उन नजरो से बेफिक्र होकर अपनी ही दुनिया में मग्न थी.

“तुझे तो पता ही है की मधुरिमा आंटी की तबियत ठीक नहीं रहा करती थी. अब भी वैसी ही है. उनकी पत्नी अजंता आंटी अब उनके पति जयंत है! तो सरप्राइज मत होना यदि जयंत अंकल मिले आज घर पर. तुझे याद है न अजंता आंटी कितनी प्यारी थी? (भाग ३ में अजंता के बारे में पढ़े) वो हमेशा हमें कितने प्यार से घर में बुलाती थी. कभी हमारी क्रॉसड्रेसिंग को लेकर हमें बुरा नहीं महसूस कराया उन्होंने. अब वो आदमी है पर पहले की ही तरह उतने ही स्वीट है वो. मधु आंटी का बेहद प्यार से ध्यान रखते है”, अंजलि ने सुमति को बताया.

सुमति को जवाब सुनकर अच्छा लगा. और फिर दोनों सहेलियां बातें करती चलती रही. और जल्दी ही मधु आंटी के घर के बाहर पहुच गयी. दरवाज़े पर अंजलि घंटी बजाने वाली ही थी कि सुमति ने उसका हाथ झटककर अंजलि को रोक लिया. “रुक न ज़रा…. एक बार देख कर बता मैं ठीक लग रही हूँ न? मेरे बाल सही है?”

“हे भगवान! तू न एक विचित्र औरत बन गयी है! महारानी सुमति आप बहुत सुन्दर लग रही है. अपने हुस्न की चिंता करना बंद करे!”, अंजलि बोली. “ऐसे भी न बोल यार… मुझे तो बस लगा कि उस तेज़ हवा में मेरे बाल बिखर गए होंगे.”, सुमति ने उदास स्वर में कहा. अंजलि ने फिर दरवाज़े पर घंटी बजायी.

और थोड़ी देर में जयंत अंकल ने दरवाज़ा खोला. और जैसे ही सुमति ने उन्हें देखा, उसे ध्यान आया की उसकी साड़ी का आँचल थोडा ज्यादा उठा हुआ है इसलिए उसकी बांयी ओर से उसका ब्लाउज और उसका उभार दिख रहा है. उसने तुरंत अपने आँचल को अपने बांये हाथ से निचे खिंचा और ब्लाउज को ढँक कर जयंत अंकल के पैर छूने को झुक गयी. “नमस्ते अंकल”, दोनों औरतों ने अंकल को प्रणाम किया. “आओ आओ बेटी. पहले अन्दर तो आओ. तुम्हारी आंटी तो तुम्हारा कब से इंतज़ार कर रही है!”, अंकल ने कहा.

और अंकल के पीछे पीछे दोनों चल दी. चलते चलते सुमति ने कुहनी से अंजलि की कमर पर वार करते हुए फुसफुसा कर बोली, “मेरा ब्लाउज बाहर दिख रहा था तूने बताई क्यों नहीं थी पहले?” अंजलि बस देख कर हँस दी. सुमति को थोडा सा अजीब लग रहा था कि उसकी प्यारी अजंता आंटी अब जयंत अंकल बन चुकी थी. और जयंत अंकल को तो कोई अंदाजा भी नहीं था कि वो कभी इतनी प्यारी ममता भरी औरत हुआ करते थे. सुमति और इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों की दुनिया में आया हुआ ये बदलाव हुए अब २ दिन हो गए थे, फिर भी सब कुछ किसी सपने सा ही मालूम होता था. अभी भी सुमति को यकीन नहीं होता था. भले ही इस जीवन के कुछ हिस्से उसे अच्छे लगे थे पर शायद अन्दर ही अन्दर वो चाह रही थी कि ये यदि सपना है तो जल्दी ख़त्म हो और वो अपने पहले वाले जीवन में जा सके.

“अच्छा अब तुम दोनों अन्दर जाकर आंटी से मिल लो. मैं चाय पानी लेकर आता हूँ.”, अंकल ने कहा. “अंकल जी कोई ज़रुरत नहीं है चाय पानी की. हम तो बस १० मिनट चल कर आये है. अभी तो प्यास भी नहीं लगी है.”, अंजलि बोली.

और फिर दोनों घर के अन्दर बढ़ चले उस कमरे में जहाँ मधुरिमा आंटी थी. ऐसा लग रहा था कि जैसे बस अभी अभी तैयार हुई है वो. शायद दरवाज़े की घंटी बजने पर वो जल्दी जल्दी में तैयार हुई होंगी. मधुरिमा ने पलट कर सुमति और अंजलि को देखा. उनके चेहरे पर पहले की ही तरह एक बड़ी सी प्यार भरी और शरारती मुस्कान थी.

“तो मेरी प्यारी बेटियाँ आ गई है! आओ मुझसे गले नहीं मिलोगी”, मधु ने उन दोनों को देखते ही कहा. और दोनों दौड़कर आंटी को गले लगाने आ गयी. मधु आंटी अपने आकर में इतनी बड़ी तो थी कि दोनों को एक साथ गले लगा सके. उन्होंने दोनों को माथे पे प्यार से चूम लिया जैसे एक माँ करती हो. मधु जी एक बड़ी औरत थी जिनका सीना भी बेहद बड़ा था. जब वो एक आदमी थी तब भी उनके पास बड़े स्तन थे. ये सब उनकी तबियत खराब होने की वजह से था… दवाइयों का साइड इफ़ेक्ट जिसकी वजह से उनका वजन बढ़ गया था. पर उनके मोटापे की वजह से उनका जो रूप था बड़ा मातृत्व भरा रूप लगता था. हमेशा हंसती रहती और शरारत करती रहती. सभी को उनसे गले मिलकर अच्छा लगता था क्योंकि उनके पास तब भी ममता से भरे असली स्तन थे. और फिर वो सबको अपनी हरकतों और बातों से हंसाती भी तो रहती थी.

6139190507_e4b0fa0536_o
मधुरिमा अंजलि और सुमति के लिए माँ की तरह थी.

“चलो लड़कियों, अब बैठ भी जाओ. और अपनी आंटी को अपनी पूरी जीवन कहानी सुनाओ. तुम दोनों को अपनी बूढी आंटी की याद आई, मैं तो बस इसी बात से बहुत खुश हूँ”, मधु बोली.

“बूढी आंटी? अरे आप तो अभी हॉट जवान औरत हो माँ”, सुमति ने छेड़ते हुए कहा. “जानती हूँ जानती हूँ. तुम दोनों से भी ज्यादा सुन्दर हूँ मैं. पर तुम दोनों को हीन भावना न हो जाए इसलिए कह रही थी मैं.”, मधु ने नैन मटकाते हुए कहा. ऐसे ही मसखरी करती थी वो हमेशा.

“अच्छा बताओ, कुछ कहोगी? जयंत अंकल बना देंगे तुम्हारे लिए कुछ”, मधु ने पूछा. “आंटी चिंता मत करो. हम बस अभी अभी घर से पोहा खाकर ही निकली है”, अंजलि बोली. वो अंकल आंटी को परेशान नहीं करना चाहती थी. पर तब तक अंकल चाय बिस्कुट लेकर आ गए थे. “लेडीज़, अब मैं तुम सभी को अपनी बातें करने के लिए छोड़ कर जा रहा हूँ. मुझे बाहर पौधों को पानी देना है. कोई भी ज़रुरत हो तो आवाज़ दे देना मुझे.”, अंकल न कहा. “थैंक यू अंकल”, सुमति बोली.

अब जब अंकल जा चुके थे तो मधु सुमति की ओर देख कर बोली, “सुमति बेटी, सब ठीक है नए जीवन में?” वो जानती थी कि ये अचानक आया हुआ बदलाव किसी के लिए आसान नहीं था.

“सब कुछ अच्छा है माँ! अब तो मेरे शादी भी होने वाली है. तुम्हारे बेटी दुल्हन बनने वाली है. और तुम्हे मेरी शादी में ज़रूर आना है. अपनी बेटी को सुन्दर लहंगे में देखने तो आना ही पड़ेगा तुम्हे. कोई बहाना नहीं चलेगा!”, सुमति ने ख़ुशी से मधु से कहा. वो मधु को शायद दिलासा देना चाहती थी कि सुमति अब ठीक है.

“अरे क्यों नहीं… ज़रूर आऊंगी मैं. अपनी प्यारी बेटी को खुबसूरत दुल्हन के जोड़े में देखने ऐसे कैसे नहीं आऊंगी मैं. भले मुझे अपने भारी भरकम शरीर के साथ पैदल भी चलना पड़े तो भी मैं आऊंगी.”, मधु बोली. तीनो औरतें बातें करती हुई हँस दी. पर कोई भी नए जीवन की वजह से आई हुई परेशानियों के बारे में बात नहीं कर रहा था. कुछ देर और हँसी-ठिठोली करने के बाद मधु गंभीर हो गयी.

madhu2
मधुरिमा ने सुमति और अंजलि से बैठने को कहा. वो उन दोनों से कुछ गंभीर बात करना चाहती थी.

“अंजलि, सुमति. मेरी बात ध्यान से सुनना. शायद तुम दोनों अपने दिल की बात कहने को अभी तैयार नहीं हो. पर तुम भी जानती हो कि औरत बनने के बाद से नयी कठिनाइयां आई होंगी. पर तुम दोनों हमेशा मुझ पर भरोसा कर सकती हो. मैं तुम दोनों के लिए पहले भी माँ समान थी, और आगे भी रहूंगी. तुम दोनों यदि अभी कुछ कहना नहीं चाहती हो तो न सही. पर मैं तुमसे कुछ कहना चाहती हूँ जो शायद तुम दोनों की मदद करे. ठीक है?”, मधु बोली. अंजलि और सुमति ने हाँ में सर हिला दिया. कितनी किस्मत वाली थी दोनों जो उन्हें मधु के रूप में एक माँ मिली थी जो उनकी असली माँ से ज्यादा उन दोनों के बारे में जानती थी.

“मुझे नहीं पता कि हम सब रातोरात औरतें कैसे बन गयी. और तुमने भी ये महसूस किया होगा कि हमारे आसपास की दुनिया भी कुछ बदल गयी है. हमारे अलावा किसी को याद तक नहीं कि हम कभी आदमी भी थे. सबके दिमाग में अब नयी यादें है जिसमे हम उनकी नजरो में हमेशा से औरतें थी. मुझे तो बहुत अच्छी लग रही है ये लाइफ, पर मैं पहले भी इतनी ही खुश थी अपनी लाइफ से. पर एक बात ज़रूर कहूँगी मैं. तुम्हारे आसपास के लोगो से तुम कैसे बर्ताव करती हो इस बात का ख़ास ध्यान रखना है तुम लोगो को. एक तरह से अपना भविष्य और अपना अतीत दोनों तैयार कर रहे है हम लोग. लोगो से अच्छा बर्ताव करोगी तो बदले में तुम्हारे साथ अच्छा ही होगा. और फिर बुरे बर्ताव का फल भी भुगतना पड़ेगा. यदि तुम अपने नए रूप को ख़ुशी से जीना चाहती हो तो सबके साथ अच्छे से रहो बस. बाकी सब ठीक होगा. सभी को प्यार करो और वो तुम्हे प्यार करेंगे. जो हो गया सो हो गया. वो क्यों हुआ यह हमारे हाथ में नहीं है. पर अपने भविष्य और रिश्तो को संभालना अब तुम्हारा काम है.”

सुमति ने मधु की बात ध्यानपूर्वक सुनी और फिर बोली, “माँ मुझे पूछने में थोडा संकोच हो रहा है क्योंकि ऐसी बात हमने पहले कभी नहीं की. पर आप अपने पति के साथ सम्बन्ध कैसे संभाल रही है? मेरा मतलब है… शारीरिक”, सुमति ने हिचकिचाते हुए पूछा.

सुमति का सवाल सुन मधु मुस्कुरा दी. “सुमति, अब हम उस उम्र में पहुच चुके है जहाँ शारीरिक सम्बन्ध अब बहुत कम बार बनाये जाते है. पर मेरे पति चाहे तो मैं ख़ुशी से उनकी इच्छा पूरी करूंगी. पता है क्यों? तुम्हे अजंता आंटी याद है? कितना ध्यान रखती थी वो मेरा? मेरी सेहत हो या मेरी क्रॉसड्रेसिंग… हर चीज़ में मेरा साथ दिया था उसने. और तुम दोनों को भी तो कितना प्यार करती थी वो. अब जब वो मेरे पति जयंत बन गए है, तो अब भी वो मेरा उतना ही ध्यान रखते है. पति होते हुए भी मेरी सेहत की वजह से घर का सारा काम देखते है. मैं भूल नहीं सकती कि पूरे जीवन में अजंता हो या जयंत, उन्होंने मेरा कितना ख्याल रखा है. और इसलिए कभी कभी मुझे अपना तन उन्हें समर्पित करना हो तो मेरे लिए ये कोई बड़ी बात नहीं है.”

sumati
सुमति उठ कर किचन जाकर सबके लिए पकोड़े तलने लगी. उसके दिल में इस घर से जुडी बहुत सुन्दर यादें थी.

सुमति को उसका जवाब मिल गया था. उसे याद था कि चैताली किस तरह सुमति की क्रॉसड्रेसिंग को जानते हुए भी दुनिया के लिए उसे राज़ ही रहने दिया था. यहाँ तक की सुमति को इसमें कई बार उसने सपोर्ट भी किया था. इसलिए जब चैताली से शादी की बात होने लगी थी तो सुमति ख़ुशी से मान गयी थी. और अब जब वो चैतन्य बन गयी है तो सुमति को एहसास होने लगा कि उसके दिल में अभी भी चैताली और चैतन्य के लिए प्यार है. सुमति भले इस नए जीवन में लेस्बियन बन गयी हो, पर फिर भी वो अपने होने वाले पति के प्रति प्यार और निष्ठा रखने वाली पतिव्रता स्त्री तो बन ही सकती है. क्योंकि उसके दिल में चैताली/चैतन्य के लिए प्यार जो है. कभी कभी बदलाव दिल पर भारी लग सकते है. दिमाग सब कुछ समझ रहा हो तब भी दिल के लिए भावनाओं को काबू करना आसान नहीं होता. ऐसे ही विचार अंजलि के दिल में उमड़ रहे थे. मधु की बातों ने उनकी थोड़ी तो मदद की थी ये समझने में कि वो अपने पतियों के साथ रिश्ता कैसे बनाये रखे. दोनों ही मधु की गोद में सर रखकर कुछ देर ख़ामोशी में रही. और मधु का ममता भरा प्यार जैसे उन्हें नयी उर्जा दे रहा था.

अंजलि और सुमति का मन अब कुछ हल्का हो गया था. सुमति ने कहा कि अब वो सभी के लिए पकोड़े तलेगी. इस घर से तो वो पहले से परिचित थी, इसलिए किचन में जाकर पकोड़े बनाना शुरू करने में उसे समय नहीं लगा. जब जयंत अंकल ने किचन में खटपट सुनी तो वो अन्दर आकर बोले, “अरे बेटा, ये सब तुम्हे करने की क्या ज़रुरत है. मैं हूँ न. मैं बना देता हूँ. तुम्हारे बूढ़े अंकल भी पकोड़े अच्छे बना लेते है” सुमति ने अंकल को देखा और उनके पास आकर बोली, “अंकल आपने वैसे भी मेरे लिए कितना कुछ किया है. मुझे कम से कम पकोड़े बना लेने दीजिये. आप जाकर अंजलि और आंटी के साथ बातें करिए” सुमति को वो दिन याद आ रहे थे जब अजंता आंटी ने उन्हें प्यार से बेटी के रूप में अपने दिल और घर में जगह दी थी.

सुमति जल्दी ही पकोड़े लेकर बाहर आ गयी जहाँ सभी आपस में बातें कर रहे थे. सुमति ने अंजलि की आँखों में देखा. दोनों सोच रही थी कि अब सब ठीक ही होगा. उनका दिल कह रहा था. आखिर सामने मधु और जयंत का प्यार उनके मन में एक नयी उम्मीद जगा रहा था. मधु के अन्दर जयंत के लिए शारीरिक आकर्षण न रहा हो पर उन दोनों के बीच का प्यार असीमित था. अंजलि और सुमति को उन्हें देख लगा कि उनका भी उनके पतियों के साथ ऐसा प्यार भरा रिश्ता हो सकता है. सब ठीक ही होगा.

क्रमश: …

Image Credits: Lasi_Beauty on Flickr (a beautiful crossdresser) and xossip.com

सभी भागो के लिए यहाँ क्लिक करे

< भाग १२ भाग १४ >

यदि आपको कहानी पसंद आई हो, तो अपनी रेटिंग देना न भूले!

free hit counter