Suhasini: The Dawn – Finale

The finale of the story after Suhasini fell unconscious on the ground. Will she survive?


Please use the star ratings above to rate this story!

Click here to read all the parts of this story

“HEY!!”, a beam of light blinded my eye as I was able to see a silhouette of a woman running towards me and shouting at someone behind me. “He…Help”, my bangles rustled as I slowly raised my blood-splattered hands for help. Soon the footsteps behind me began to recede and I could hear them talking towards each other and throwing their rods on to the floor. “Wake up… wake up”, she placed my head on her lap and rubbed my chin with her palm. “Don’t die”, her voice choked as she controlled her tears. She quickly picked me up and rushed towards my car. As the parking lights shed on her face, I could see it was Aarthi who placed me in the backseat and rushed back to driver seat. “Take care of Deepa, will you”, I muttered my last words and drifted towards my final sleep.

“Beep… Beep”, I could see nothing in the blackness but hear a mild sound coming nearby. Soon the blackness was filled with water and I felt like sinking and desperately fluttered my hands and legs to stay afloat. My efforts proved futile as I was sucked into its deep unending bottom. As I gave up hope and let myself sink, I saw a beam of light shining at the top, coming closer towards my eyes and filling the room with light. Suddenly conscious struck me and got up from my bed, breathing heavily. I looked around like a lost child and saw a doctor holding a flash light. I saw Aarthi, standing next to the doctor with a huge smile and stepped in forward to soothe me. “Where am I?”, I asked her still breathing heavily. She wrapped her hand around my shoulder and lowered my bed towards the pillow. “Just sleep”, she hummed her words as I drifted back to sleep again.

After few hours, I woke up in slow pace and looked around to see Aarthi seated next to me in chair looking at the doctor’s reports. As soon as she saw me, she quickly stood up and helped me to sit. “Praise the lord”, she smiled wiping her tears.

“Where am I?”, I asked her as I saw my right hand and head wrapped in bandages. “Aah ha…I told you”, I turned around only to see Rubini, in her male avatar walking towards me laughing.

“You lost”, he pestered Aarthi. “What… lost?”, I looked at him puzzled. “Yeah, she lost her bet”, Rubini began to laugh hysterically. “Bet?”, I questioned him again. “I made a bet that the moment you wake up, you would ask where were you?”, he looked at Aarthi as she placed some pillows behind me to make me comfortable.

“Where is Deepa?” I asked both of them, as the dreadful images flashed in my mind. “School”, Aarthi answered and handed me my medication pills.

“The boys?”, I wanted to know what happened to them. “Expelled”, she began to explain that they were expelled from the flat by the association members.

“Do they know…” I enquired whether they know anything about my dressing. “NO”, Aarthi said firmly and explained that she had fabricated a false story around my attack and reported it to them. “Oh, Okay…thanks”, I thanked for her help in concealing the truth.

z1
When Aarthi took me to the hospital after I fell unconscious, I was still dressed in a saree. I was worried that the doctors must have learnt the truth about me.

“Doctors ?” I began to question her again as I was dressed in saree when she must have taken me to the hospital. Doctors might have wondered too why I was dressed as a woman. “Drama”, Ruben aka Rubini took the stage now and began to explain that he had told them that I was attacked after returning from a stage drama. “Thanks”, I was relived hearing their words and laid back again.

z22
Ruben came upto me and explained everything about how they managed the situation at the hospital.

“When will Deepa come here?” I asked Ruben who was busy reading newspaper. “Not now”, he replied still reading the news.

“Why?”, I became restless and looked at him anxiously. “Not the right time”, he
shrugged me off again.

“WHY?” I raised my voice. Ruben placed the paper on the table and took a deep
breath. “Look at yourself”, he pointed his fingers towards my bandages. “What do you think will happen when she sees you like this?”, his words threw me off balance.

“You are right”, I leaned back thinking about my daughter. “Let her stay in Aarthi’s apartment for a while. Once you get back to shape, she is all yours”, Ruben knocked some sense in me. “I guess you are right again”, I agreed with him and grabbed my phone and call my manager to inform him about my leave.

“Thank you Arun. I shall work from home in the mean time”, Aarthi arrived as I hung my call. She quickly scanned me in her eyes and handed my pills. “Feeling better?” she asked as she sat beside me. “Somewhat”, I answered and gulped my medication.

“How is Deepa?”, I wanted to know how is she doing. “Good… she is strong… you know”, Aarthi explained about my daughter in detail that she is coping well after the incident.

“Does she miss her mother?” I wanted to check if Deepa said anything about her
mother. “Sometimes”, Aarthi replied in a calm manner. “But, not that much”, as Aarthi began her explanation, Doctor came along with his nurse to check my condition.

4 days later

“Does it hurt?” Doctor requested me to do some basic actions and noted my replies. “No”, the routine answer I gave him whenever he enquired about any pain.

“Well, Guhan…”, he began to talk looking at my medical reports which inadvertently made me a bit nervous. “Reports are fine. You can discharge at your convenience”, his wide smile made me happy. “Thank you doctor”, I thanked him as he left and told Aarthi that I can leave tomorrow.

“You sure?”, both Ruben and Aarthi looked at me puzzled. “Absolutely”, I jumped out of my bed and began to walk around them, making them laugh. “As you
wish”, Ruben left to pay the medical charges.

The next day, we picked up a cab and reached my apartment by 12pm. Aarthi prepared us lunch and left to attend her personal commitments. “Just relax, don’t do anything stupid. I will pick up Deepa and come here”, she ordered me to relax and left.

After an hour long chat with Ruben, he too left to care of his work. Not knowing how to spend my time, I took a walk around my home and saw my wife smiling in our family photo hanging in the hall. Her contagious smile mesmerized me for a moment and suddenly planted an idea in my heart. The clock showed the time as 3:30, as I quickly ran towards the bedroom and opened my wife’s wardrobe.

I shaved off my beard and rushed back to bedroom and roped in a green saree and placed makeup items in front of my dressing table. I quickly wrapped a towel around my neck and sat on the dressing table in front of mirror. I began with foundation but with caution to conceal my bruises. Then, I applied concealer below my eyes and blended it to a give a smooth look. I pasted the eye lashes and curled it around to give a more feminine look. Then came the mascara and finally for lips I used bright red lipstick for a more glossy look. “Not bad!” I patted myself on my back and moved on to wearing the saree.

I slipped into my inner wears and then the breastforms, checked in front of mirror to verify that it looked natural. With basic makeup and dressing complete, I picked the green saree and wrapped around in a jiffy. I placed the wig properly on head and began to comb again. Then I placed on the curls on my right shoulder to give a more feminine look. I took a thin gold necklace, non-piercing ear rings and half-dozen of bangles on each hand. Time was 4:45pm, when I completed my final corrections. I seated myself in front of the door and waited for Deepa.


I wore half a dozen bangles on each hand, and did a light makeup to compliment my green saree.

Soon, I heard the footsteps and Aarthi opened the door with her spare key. “I am bac… Oh my”, she froze the moment she saw me. “Hi…”, I smiled in a low feminine tone to Deepa who was peeking behind Aarthi. “MOMMY!!!”, she pushed Aarthi aside and ran towards me.

“Did you miss me?”, tears rolled down my eyes as I looked at her. She nodded back wiping her tears and hugged tight around my waist.

Aarthi slowly closed the door and sat on the sofa looking at both of us. Filled with happy tears, she sported a wide smile and looked at me. I reciprocated her smile and carried Deepa to kitchen.

“What do you want?”, I asked Deepa, who still held tight me like a fevicol bond. “Ummm…”, she placed her hand on her chin and thought for a moment. “Ummm…”, I too joined her in her thought. “YOU… ha ha ha”, her answer made me blush for a moment and kissed her on cheeks.

“Then, no food tonight”, I teased and acted like I was leaving the kitchen. “No… no”, she fell for my act and dragged me back to kitchen.

“Got you, Drama queen”, I placed Deepa on the kitchen slab. “My special”, she winked at me smiling. “Your special, it is”, I winked back and began my preparations.

As I continued my preparations for dinner, Deepa narrated her school life and her stay with Aarthi. She went on to explain about how much she missed me, turning her emotional. “I came back”, I cheered her up and continued my work. After spinning her entire tale, she went to hall to watch television with Aarthi.

az13a
I was really thankful to Aarthi who took care of Deepa when I was in the hospital.

“Dinner is ready”, I came out shouting holding the hot menu. “Perfect as usual… Muuahh”, Deepa tasted the dish and gave me a kiss for my accomplishment. I wasted no time, as I grabbed a plate and began to feed Deepa as usual.

“Mother’s love … it never wanes”, Aarthi gave a sarcastic look at us. “Continue… continue”, she teased us and began to dig in her dinner.

After finishing our dinner, I and Aarthi sat on the sofa, while Deepa made my lap as her seat. “Did you miss your mother?” Aarthi jokingly questioned Deepa. “A LOT”, Deepa laughed looking at me. “But?”, she gave a cryptic answer.

“But what?”, Aarthi wanted to know what she meant. “But… Mom… ”, Deepa’s face turned serious as she looked at me. She took a deep breath, “MOM… I don’t need you”, and her reply crushed my heart.

“Wait… what??? …is this a joke?”, Aarthi tried to make some sense out of Deepa’s answer. “No, I don’t need her”, Deepa said pointing to me. Devastated by her answer, I remained silent and watched Deepa getting down my lap.

Deepa went to the bedroom and came back with a towel in her hand, sweeping me
off guard. Deepa stood in front of me and gestured me to bow down. I turned towards Aarthi who was in still shell shocked by what was happening around her.

Deepa once again pulled my saree and gestured me to bow, to which I obliged as usual. She placed her palms on cheek and pulled me closer to her face.

“Mom”, Deepa began her monologue with her sweet tone. “You know… I love you”, she continued as I stared at her eyes. “I am sure you are happy wherever you are now and I am happy wherever I am now”, she pulled me much closer and gave a gentle kiss on my cheek.

“I just wanted to see you one last time. So, Thanks for everything and…”, she pulled me closer to her for one last time. “Good bye”, she took her towel and wiped my makeup.

“I… I…”, I froze like a statue in front of her, lost for words. “Shhh…”, she covered my lips with her finger prompting me maintain silence. I said nothing, but tears flowed out making my eyes red. Deepa did not utter a single word, but wiped my tears with her towel and continued to remove my makeup. My heart was brimming with pride that my daughter who was just a kid a minute ago, had turned into a mature woman.

Aarthi too chose silence and kept looking at us in awe. After doing final corrections, Deepa pulled my wig and placed it on the table beside. She looked at me for a moment and smile sprouted out slowly from both of us. “Hi, Dad”, she kissed me on my forehead and began to cuddle me.

Aarthi gestured her leave to me and slowly closed the door as she left. As the door closed, Aarthi saw a new dawn in me, the dawn of a DADDY.

The End

Note from Indian Crossdressing Novel: Please let us know how you felt after reading this heart-warming story. Our author Lakshmi Seetha would really appreciate your feedback.

< Chapter 11 All Chapters >

If you liked this story, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter

Suhasini: The Venture

After attending Deepa’s school function as her mother, Suhasini and Deepa began their adventure frequently going out as a mother-daughter duo. But there was a stroke of misfortune waiting for the mother…


Please use the star ratings above to rate this story!

Click here to read all the parts of this story

As I parked my car, I saw the boys stepping forward towards my car laughing and hooting. I picked up Deepa and began to walk towards the lift without daring to look at them. “Yo… look at him”, one of the boys began to shout. “Bro…It’s not him … it’s her”, another boy sarcastically replied.

As I pressed the button and waited for the lift, I could feel them closer to me than ever. Their sarcastic tone turned into serious harassment and began to call me names followed by insults and threats. As soon as the lift arrived, I pressed my floor and quickly covered my face as one of them unlocked his mobile to take a picture of me.

a40
As I parked my car, I saw the boys stepping forward towards my car laughing and hooting.

While walking towards my door controlling my tears, I saw Aarthi standing in front giving me a stare. I opened the door brushing her aside and let myself in. “You have made a big mistake”, she pointed me on the fact that I should have never ventured alone outside. “If it makes my daughter happy, I am even ready to do a bigger one”, I thanked for her concern and shut the door.

After Deepa slept, I removed my polish using the remover. Lying in my bed, I recollected the events which spiked my adrenaline uncontrollably. Though the events in the car park churned my stomach a bit, I felt something different when I thought about the school function. The student’s dance,  Deepa’s smile, crowd’s cheer and funny cough syrup incident made me strangely happy.  Viewing the world from mother’s eyes felt like liberation from prison in which I confined myself by distancing myself from Deepa when I was her father. At that moment, I felt like I can never give her the happiness I saw on her face as her father.

Since it was Saturday the next morning, I woke up late and it was surprising to see Deepa preparing coffee for me. “Ta da”, she gave me a cup and sat near me for my comments. “Hmm…”, she raised her eyebrows and bit her lips as I took a sip. “Perfect!”, she jumped in joy as I kissed on her forehead. “Go watch TV. Mommy will come”, I spontaneously said even though she never asked.

I quickly refreshed and took one old saree from my wife’s wardrobe. The next 30 minutes was spent in makeup and draping. “What shall we do today?”, I stepped into kitchen asking for her opinion. “We shall go by rest”, just as she was about to complete.

“What?”, I gave a smirk. “I said gobi recipe”, she fine tuned herself into Einstein and changed her answer. “Seriously?”, I gave another smirk leaning on the kitchen wall. “Yeah…yeah”, she replied without looking at me.

“Are you sure? I think I heard GO BY RESTAURANT”, I latched on to her answer. “No…no”, she now turned from Einstein to innocent baby.

“Okay. Gobi it is”, I laughed silently and began to prepare lunch. “Why don’t we go by restau…”, I rekindled our conversation while eating lunch. “Yes … yes … Gobi recipe for night”, she tried her level best to steer clear while gulping her food.

“No dummy, I said we shall go by restaurant”, she looked stunned with her mouth full of rice. “Seriously?”, she quickly gulped her food and looked at me in shock. “Yup … I am serio …”, she quickly jumped out and hugged me tight.

z1
I fed Deepa her lunch while we discussed our plans for the rest of the day. It was such a cute moment in my life as a mother.

“So where shall we go?” I asked for opinion while hugging her. Thus I began my (ad)venture with daughter into outside world.

“How about this place? … no … How about this one?… no”, after a few minutes of critical discussion we decided to go for a movie and dine in food court of that mall. The reason behind such selection was that “more the crowd, less the attention I get”. Soon I booked two corner tickets for evening show and prepared myself for the rollercoaster ride. For a change, I opted for modern black top and blue jeans to blend in mall freely. Deepa as usual got ready early and waited for me to complete my makeup and hair.

“How do I look?” I hesitantly came out asking as I was not convinced 100 percent about my looks. Deepa glanced from top to bottom and went inside bedroom which made me scratch my head. After pondering around, she came out with my wife’s purse and a black cooling glass. She fitted the glass and handed the purse over to me.

“Perfect!”, she gave her approval and lead me to the door. Once again as precaution, I covered my head with a scarf and reached out for the lift. “Shh…”, I requested to remain silent as I quickly glanced around to see if anyone was present nearby. “Area clear”, we both rushed towards our car and left to the mall.

“Welcome to Moviezone madam”, I gave a quick smile as the authority checked my ticket. We thoroughly enjoyed the movie without any second thoughts.

“Two popcorn and coke, please”, the person at counter gave a puzzled look as I ordered. “Mmm… Throat infection…”, I pretended to clear my throat and gave a wry smile. “Oh…”, his expression changed back to normal and came back with my
order. This entire episode repeated itself when I ordered my menu at food court.

We roamed around the mall and even gathered courage to step into shopping center to look for new dress. I never looked out of place as we enjoying to the core till 10pm.

z1
I went out as a mother to watch a movie with Deepa in a mall. I decided to wear a black top and jeans to blend easily with the mall crowd. Going out with Deepa had opened up a new world for me.

During our return, I decided to tread carefully and looked around the basement for those boys. “Phew…”, I was relieved to see basement empty. We reached our
apartment and changed back to normal dress.

“Deepa”, I picked up a conversation while putting my daughter to sleep. “Yeah”, she looked at me hugging her teddy. “Tomorrow… Hmmm … Do you want to Gobi (or) Go by”, I teased her with my sentence. “Definitely GO BY”, we both laughed hysterically looking at each other and began our critical discussion on where to dine tomorrow.

The next day, we decided to level up our game and went to a five star hotel. As usual I played my cough syrup game and generously tipped the waiter while leaving. With three trails proving success, we decided to up the ante in coming weeks.

Soon the boring weekends turned into thrillers as we partied in several social places. My fear turned into excitement, normal dresses to stellar sarees, and rugged beards to soft clean shaves and so on. To my annoyance, the insults from those boys continued as well.

Being her mother in public uplifted my mood during the weekdays. My feminine energy totally complimented my work and everyone in my workplace was surprised to see me happy like never before.

z1
Over the weekends, I would transform into a diva and a mother who would do everything to take care of her daughter.

Over the weekends, me a day job employee transformed into a diva and electrified the entire world. As the days turned into months, my persona as her mother took over our life and I prayed every day that it stayed that way.

On such weekend, “How do I look?” I stood in front as usual for her approval. “Huh, deep cut blouse …”, she opened her mouth in awe as she saw me wearing a deep back blouse for the first time. “Surprise!” I turned around making my free flowing pallu dance in the air. “Just Wow”, she approved me of my new try.

As usual, we went for a movie and dined in a five star restaurant. This time I needed no cough syrup as I had total grip on my feminine tone. It was 10pm when we reached the basement and Deepa had already begun to chat about tomorrow’s plan.

“Sanctuary?… Theme park? … How about Aquarium?”, she stacked her opinion as I stood carrying her waiting in front of lift.

“Anything you … ”, before I could complete my sentence. “MOMMY!”, Deepa screamed at the top of her lungs. “THUD” Someone struck me with an object from behind, as I slowly fell to the floor. I groaned in pain only to realize it was those boys who hit me. With bare conscious I saw lift door opening, “Run”, I pointed Deepa to get onto the lift.

As the lift door closed, one of the boys stood in front of me pointing his baseball bat near my head and began to throw insults. Tear began to flow and I begged him to stop.

z1

“Just DIE……THUD”, the last sound I heard was his bat striking my head as I was knocked unconscious.

To be continued … 

< Chapter 10 Last Chapter >

Click here to read all the parts of this story

If you liked this story, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter

Suhasini: The School

Deepa forces her “mother” Suhasini to come to her school function. How will Suhasini manage this? What if she gets caught?


Please use the star ratings above to rate this story!

Click here to read all the parts of this story

“Mommy, it’s late”, I could hear Deepa’s mumbles behind the shut door. “Coming…”, I replied in low voice as I was adjusting my pleats. Since this was special occasion, I opted for a green saree from my wife’s wardrobe. “Dress… check… Jewels… check… Wig… check”, I mumbled to myself as I checked for any corrections. Since this was first time venturing outside, I opted for minimal makeup comprised of maroon lipstick, mascara and a small red bindi. For jewels, I opted for few bangles and small pendant. I opted to keep my hair loose, since I my attempt to braid my hair turned into a colossal failure.

Satisfied with my makeup and dress and I opened the door and saw Deepa watching TV. Dressed in matching green floral dress, she looked at me and gave an innocent smile. “Let’s go”, I grabbed the car keys and switched off the TV. Deepa quickly ran to bedroom and checked herself in mirror for final makeup corrections, making me chuckle a bit. “I am done”, she locked the room and grabbed my hand as we reached for the main door.

As soon as I unlocked the door, my hands began to shiver and my palms began to sweat. I froze like a statue as my mind began to imagine worse things. I glanced at Deepa to check her expressions. To my surprise, Deepa was in a completely different world, she brimmed with pride as she held my hand. In her eyes, I am her mother and she was happy that me as her mother is taking her to school function. Taking confidence from her, “Winners don’t quit”, I took a big breath and opened my door to the world. Since the time was 6pm, the clouds were setting in and it was pretty much dark acting as an advantage. I quickly locked the door and reached for the elevator. Fortunately, the lift was free and I quickly pressed the basement button followed by lift close option to prevent anyone from entering the lift.

As the lift closed, I prayed to god that it must not stop anywhere till it reaches the basement. Seeing me praying like a child, Deepa began to laugh hysterically. “Wh… what?”, I gave a confused look still praying to god. She somehow controlled her laughter and pointed her finger to my hands. “Huh… so you notice at last”, I showed her my nails which I painted with green nail polish as icing on cake. “Cool!”, she grabbed my hand and inspected my nails with awe.

As lift reached the basement, I grew in confidence. “Shall we?” I gave a wink as she held my hand. “I am her mother and No one can stop can me from being her mother”, I repeated to myself as we began to walk towards our car. “I am her mother and No one can stop me … I am her mother and No one … Oh shit”, my jaws dropped to the floor as I saw our flat watchmen standing near my car and arguing with those rich boys.

“Shhh …”, I ordered Deepa to keep quiet as I took her and hid behind another car. In those few minutes of their argument, my worst fears played before my eyes as I held Deepa close to my heart than ever. After 10 minutes, both boys and watchman left the place cursing at each other. After ensuring that they were gone, I slowly took baby steps carefully and reached my car.

Suddenly, I heard footsteps behind me and I quickly pulled the saree over my head like a veil. “Sorry, my bike keys fell somewhere here”, one of the boys began to search for his keys. As he was in a hurry, he did not bother to look at me properly. “Ahh… here it is”, he grabbed the keys and retreated his steps. I unlocked the car door and saw Deepa seating herself comfortably.

Just as I was to about to start, “Isn’t this Mr.Guhan’s car?”, he returned back giving me a confused look. He slowly stepped aside solving the puzzle in his head. As I started my car, his look changed from confusion to shock indicating that he has indeed solved it.

On the way to the school, his expressions flashed my mind over and over again. After reaching near school, I choose an empty lot near the school back gate and parked the car. “School, Yay!!”, Deepa screamed as she heard the songs that were playing in the auditorium. Still haunted by his looks, I decided to tread carefully and pulled the saree over my head. The back gate was completely empty with just one guard standing post. As soon as he saw me, “Good evening madam”, he jumped from his post and sported a big smile. I gave a smile and shied away towards the school auditorium.

The auditorium was completely dark except the bright centre stage where students of different standards were dancing for a movie song. Everyone was so busy enjoying the performance, none of them bothered to notice me entering the auditorium. I found an empty seat near the corner and seated myself in a feminine way possible.

“It’s okay … No need to panic”, I calmed myself looking at Deepa who was totally immersed in watching the dance. After minutes passed my confidence grew and slowly I joined Deepa in her celebrations. With continuous claps and occasional shouts, I thoroughly enjoyed the show that students put up.

Suddenly, I felt someone pulling my saree and turned around to check who it was. Deepa was looking at me with weird expression. “What?”, I whispered in her ears amidst the loud crowd. She slowly lifted her pinky finger while giving more bizarre expressions. I understood what she meant and took to the restroom and waited outside.

“Hi”, a mother who was waiting outside started a conversation. “Mmmm…”, I sported a shy smile, but refrained myself from speaking. “You saree looks great”, she started to compliment my dress. I still stood like a statue with just a smile without uttering any words. “Nice matching dress”, her compliments made me shy but still kept my mouth shut. Before her face expressions turned into something else, I gathered courage and uttered “Thank you” in a low feminine tone.

z1
Another mother complimented me on my choice of my saree matching with my daughter’s dress. But when I said thank you to her on her compliments, she got a little confused with my voice.

“Do you have throat infection?” she questioned me with confused look. “Hmm…why?”, I replied still maintaining my feminine tone. “Nothing, your voice kind of sounds like male voice.”, she began to laugh.

“Ohh…”, I blushed a bit still smiling. Deepa came out after sometime and held my hand.

“Cute daughter”, she waved at Deepa who quickly hid behind me holding my saree. “Thanks”, I smiled and signaled Deepa to wave back. “Use some cough syrup”, she gave a doctor’s advice. “Sure…”, I blushed and left with Deepa for the show.

After the show got completed, I quickly rushed back to the car carrying Deepa as I did not want to meet any of Deepa’s teachers. “Mmm… not a bad one”, I reminisced the exhilarating experience while travelling back to my apartment.

I saw Deepa fast asleep and soothed her by brushing her hair. But the excitement turned into dread as I saw the rich boys standing near the basement staring at my car.

To be continued … 

Click here to read all the parts of this story

< Chapter 9 Chapter 11 >

If you liked this story, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter

इंडियन लेडीज़ क्लब: अंतिम भाग

आखिर वो रात आ ही गयी थी जब इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों का जीवन एक बार फिर बदलने वाला था. क्या वो आगे भी औरत बनी रहेंगी?


यदि आपको कहानी पसंद आये, तो ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर रेटिंग ज़रूर दे!

Click here to read in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

आखिर वो घडी आ ही गयी थी जब उस मेसेज के अनुसार सुमति और इंडियन लेडीज़ क्लब की सहेलियों के साथ कुछ ख़ास होने वाला था. क्या होने वाला था उस रात? सुमति तो अब भी एक खुबसूरत दुल्हन के लिबास में मुस्कुरा रही थी. उसके हाथों और पैरो पर बेहद सुन्दर डिजाईन वाली मेहंदी रचाई गयी थी. उसके आसपास उसकी बहाने, भाभियाँ और बहुत सी औरतों ने उसे घेर रखा था. हर जगह ख़ुशी और औरतों की हँसी की गूंज थी. हर कोई तो खुश था, फिर भी उस ख़ुशी के पीछे सुमति, अंजलि और मधुरिम चिंतित भी थी कि आज रात उनके साथ कौनसी नयी मुसीबत आने वाली है. इस वक़्त सभी औरतें सुमति की मेहंदी और उसकी खूबसूरती की तारीफ़ करने में लगी हुई थी. पर उसके बाद क्या हुआ वो किसी को अच्छी तरह से ध्यान नहीं आ रहा था. जैसे सभी शायद किसी नशीली नींद में चले गए थे. और सुमति को भी याद न रहा कि उसके बाद क्या हुआ था.

z10
सुमति को पिछली रात इतना ही याद रहा कि वो औरतों से घिरी हुई थी. पर उसके बाद क्या हुआ था?

अगली सुबह

सुमति अपने बिस्तर से सोकर उठी पर उसने अब तक अपनी आँखें नहीं खोली थी. वो बाहर से कुछ औरतों की आपस में बातें करने की आवाजें सुन सकती थी.

“क्या दूल्हा अब भी सो रहा है?” किसी ने पूछा. “हाँ, कल इतनी रात तक जगा हुआ जो था. पर आज तो उसकी शादी है. कोई जाकर जगाओ उसे”, दूसरी औरत ने कहा.

तभी सुमति को अपने सर पर के प्यार भरा स्पर्श महसूस हुआ. “बेटा सुमित, अब उठ भी जाओ. आज शादी है तुम्हारी!”, सुमति ने अपनी माँ की आवाज़ सुनी और अपनी आँखें धीरे से खोली. उसकी माँ उसके सामने मुस्कुराती हुई खड़ी थी.

सुमति को मुश्किल से बस एक सेकंड लगा होगा समझने के लिए कि वो एक बार फिर से आदमी बन चुकी थी. वो एक बार फिर से सुमित थी. वो अपनी माँ के चेहरे को देख मुस्कुराया. एक बार फिर से माँ का बेटा बनकर सुमित खुश था.

उसने उठकर अपना फ़ोन देखा. उसमे एक मेसेज उसका इंतज़ार कर रहा था. +GOD नंबर से आया मेसेज. “सुमति तुमने बिलकुल सही निर्णय लिया. तुमने पिछले कुछ दिनों एक औरत के कर्त्तव्य का बखूबी निर्वाह किया. इसलिए मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ है कि तुम्हारी हर इच्छा पूरी हो. इसलिए मैं तुम्हे तुम्हारा पुराना शरीर लौटा रहा हूँ. तुम्हारी दुनिया अब फिर से वैसी ही होगी जैसे १४ दिन पहले थी. तुम्हारा दाम्पत्य जीवन सुखी हो. अपनी पत्नी चैताली को हमेशा खुश रखना.”

सुमित उस मेसेज को पढ़कर तुरंत उठ खड़ा हुआ. और जल्दी ही नहाकर उसने चैताली से मिलने की सोची. उसकी माँ ने उससे कहा, “बेटा शादी के दिन शादी से पहले दुल्हन से मिलना ठीक नहीं होता है.” तो सुमित ने जवाब दिया, “यकीन मानो माँ. आज अब कुछ बुरा नहीं हो सकता. मुझे चैताली से बहुत ज़रूरी बात करनी है”

चैताली का घर बस कुछ १०० मीटर की दूरी पर ही था और सुमित दौड़ा दौड़ा चैताली से मिलने गया जो वहां अपने घर के मेहमानों के साथ व्यस्त थी. उसे दरवाज़े से देखते हुए चैताली खुश हो गयी. चैताली की माँ ने सुमित का स्वागत किया और उसकी इच्छा अनुसार, सुमित और चैताली को मिलने के लिए एकांत में एक कमरा दिलाया जहाँ सुमित चैताली से बात करने के लिए बेचैन था..

चैताली भी जल्दी ही वहां आ गयी. अपनी सिल्क साड़ी में वो परी लग रही थी. “क्या बात है सुमित? सब ठीक है न?”, उसने पूछा.

“चैताली. मैं तो सिर्फ ये कहने आया था कि आज मैं अपने आप को दुनिया का सबसे किस्मत वाला आदमी मानता हूँ जो मुझे तुम्हारी जैसी पत्नी मिल रही है. तुम हमेशा से मेरी अच्छी दोस्त रही हो. और मैं भी कहना चाहता हूँ कि मैं हमेशा तुम्हे प्यार करने वाला पति बन कर दिखाऊँगा. तुम्हारी ख़ुशी के लिए मैं कुछ भी करूंगा. और तुम चाहो तो मैं क्रॉसड्रेसिंग भी छोड़ दूंगा.”

“ओहो सुमित! मैंने तुमसे कभी कहा है क्रॉसड्रेसिंग छोड़ने को? तुम्हे पता है ये राज़ सिर्फ हम दोनों के बीच है. मैंने तुम्हे हमेशा सपोर्ट किया है, और आगे भी करूंगी. वैसे भी जब तुम औरत बनते हो, तो मुझे भी तो एक अच्छी सहेली मिल जाती है बात करने के लिए! मैं हम दोनों के बीच और कुछ भी नहीं बदलना चाहती. मैं तुम्हे प्यार करती हूँ और करती रहूंगी. तुम्हे क्रॉसड्रेसिंग छोड़ने की ज़रुरत नहीं है क्योंकि उसके बगैर तुम अधूरे रहोगे. सुमति को मैं अपने जीवन का हिस्सा बनाऊँगी. ये मेरा प्रॉमिस है”, चैताली ने कहा.

18033886_138057923399669_5105859512156221405_n
सुमित जल्दी ही चैताली से मिला. चैताली के साथ सुमति का राज़ सुरक्षित था.

चैताली की बात सुन सुमित का दिल भर आया. उसने उसे गले तो नहीं लगाया पर आँखों से उसने उसे धन्यवाद् किया. दोनों एक दुसरे की ओर देख कर मुस्कुराने लगे. उन दोनों के बीच काफी अच्छी आपसी समझ थी. उन्हें एक दुसरे से कुछ कहने के लिए शब्दों की ज़रुरत नहीं थी. वो जानते थे कि उन दोनों का जीवन बहुत खुबसूरत होगा.

जब अंजलि सुमति के घर में सोकर उठी तो उसे पता चला कि वो भी आदमी बन चुकी थी. उसने अपनी बेटी सपना और अपनी पत्नी को अपने बगल में सोता हुआ पाया. फिर उसने अपनी पत्नी को जगाकर कहा, “मेरी प्यारी धरम पत्नी. मैं तुमसे कुछ कहना चाहता हूँ. मैं जानता हूँ कि तुम सोचती हो कि तुम्हे मेरे हर निर्णय में साथ देना चाहिए. पर मैं तुम्हे बताना चाहता हूँ कि तुम मेरे बराबर हो और हर निर्णय में तुम्हारा उतना ही हक़ है जितना मेरा. तुम अपने विचार से मुझे अवगत करा सकती हो. और एक बात, मैं अपनी बेटी को बढ़ा कर एक स्वाभिमानी औरत बनाना चाहता हूँ. मेरे माता-पिता तुम्हारे साथ भले ठीक से व्यवहार न करते हो क्योंकि तुम्हे पोता नहीं मिला, पर सपना हमारे लिए किसी बेटे से कम नहीं होगी. मैं उसके हर सपने को पूरा करूंगा. और एक माँ होने के नाते तुम भी वैसा ही करना” ये शब्द सुनकर अंजलि की पत्नी दिल ही दिल में अपने पति की ओर शुक्रगुज़ार थी. उसे ख़ुशी थी कि उसकी बेटी बड़ी होकर स्वाभिमानी और इंडिपेंडेंट लड़की बनेगी.

और वहीँ जब मधुरिमा सोकर उठ, तो वो भी अब आदमी बन चुकी थी पहले की तरह. मधुरिमा के लिए तो पुरुष हो या स्त्री, उसका जीवन वैसे ही अच्छा था. उसने अपनी पत्नी अजंता को देखा और कहा, “अजंता, मैंने शायद तुमसे कई बार कहा नहीं है पर तुम्हे पत्नी पाकर मेरा जीवन सचमुच धन्य रहा है. तुम मेरा हर कदम साथ देती रही हो. पता है यदि संभव हुआ तो अगले जनम में मैं तुम्हारी पत्नी बनना चाहूँगा ताकि मैं तुम्हारी सेवा कर सकू!” अजंता के पास कुछ कहने को नहीं था… क्योंकि उसका पति तो हमेशा से ही उसे बेहद प्यार करता था. और फिर अजंता का स्वभाव भी सिर्फ देने वाला था पर उसे बदले में हमेशा बहुत सारा प्यार भी मिलता था.

इन सब से दूर शहर में जहाँ साशा रहती थी, उसकी रात भी चिंता में बीती थी. उसे याद आ रहा था कि कैसे उसने नौरीन के साथ दिल खोलकर बातें की थी. पर जब वो सोकर उठी तो वो एक बार फिर से आदमी बन चुकी थी. और जिस घर में वो थी, वो उसका पहले के घर था जहाँ उसके लड़के रूममेट थे. नौरीन आसपास कहीं भी नहीं थी. वो नौरीन को देखने को बेचैन हो उठी और जल्दी से ऑफिस जाने को तैयार हुई, अब एक आदमी के रूप में. उसे आज एक ज़रूरी काम था.

“नौरीन”, साशा अब लड़के के रुप में दौड़कर नौरीन के पास ओफ्फिए में पहुंचा. “हाँ सुशिल. तुम इतना हांफ क्यों रहे हो? दौड़ कर आये हो क्या?” नौरीन ने साशा के पुरुष रूप सुशील से कहा. नौरीन को पिछले दिनों के बारे में कुछ भी याद नहीं था जब साशा उसके साथ उसकी रूममेट बन कर रही थी.

“नौरीन मुझे तुमसे कुछ कहना है. अर्जेंट!”, साशा यानी सुशील ने कहा. और फिर दोनों एक मीटिंग रूम में चले आये जहाँ सुशील ने दोनों के बीच की चुप्पी को तोड़ते हुए कहा, “नौरीन, तुम ने दुनिया की सबसे अच्छी लड़की हो. तुम सबका सम्मान करती हो और सभी की बिना मांगे मदद भी करती हो, और बदले में किसी से कुछ भी नहीं चाहती. तुम्हे अंदाजा नहीं है कि तुमने मेरे सबसे मुश्किल समय में कैसे मदद की थी. पर मैं वो बात जानता हूँ. इसलिए मैं तुम्हे दिल से धन्यवाद देना चाहता हूँ. उस हर बात के लिए उस हर पल के लिए जिसमे तुमने मेरे साथ दिया था.”

फिर सुशील थोड़ी देर चुप रहने के बाद आगे बोला, “नौरीन, तुम मुझे बेहद पसंद हो. क्या तुम मुझसे शादी करके मेरी पत्नी बनना चाहोगी?”

नौरीन तो सुशील की बात सुनकर हैरान सी रह गयी. वो कुछ कह न सकी. “तुम मेरे सवाल का जवाब दो, उसके पहले मैं तुम्हे कुछ और बताना चाहता हूँ अपने बारे में”, सुशील ने कहा.

और फिर सुशील ने नौरीन को अपनी क्रॉसड्रेसिंग और साशा वाले रूप के बारे में बताया. वो नौरीन को बताना चाहता था पिछले दिनों के बारे में जब साशा और वो साथ रही थी, पर उसे पता था कि नौरीन उस बात का कभी यकीन नहीं करेगी. और उसके पास कोई सबूत भी तो नहीं था. यहाँ तक कि वो फ़ोन में आये sms भी अब उसके फ़ोन से गायब हो चुके थे. सुशील की बात सुनकर कुछ देर सोचने के बाद नौरीन ने सुशील की ओर देखा और बोली, “हाँ. मेरा जवाब हाँ है.” नौरीन मुस्कुरा दी. सच तो ये था कि नौरीन हमेशा से सुशील को चाहती थी और सुशील को ये पता भी नहीं था. पर पिछले कुछ दिनों में सुशील को उसका सच्चा प्यार पाने का मौका मिला था.

z2
नौरीन को ज़रा भी याद नहीं था कि पिछले कुछ दिन साशा उसकी रूममेट बनकर उसके साथ रही थी.

एक बार फिर इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों का जीवन बदल गया था पर इस बार अच्छे के लिए. सुमति यानी सुमित की शादी भी निपट गयी थी जिसमे अंजलि और मधुरिमा उसके पुरुष मित्र बन कर शामिल हुए थे. सभी का जीवन आज ख़ुशी से भरा हुआ था. अब क्रॉसड्रेसर होना किसी के लिए अभिशाप नहीं था.

कुछ दिन बाद

आज इंडियन लेडीज़ क्लब में खुशियाँ ही खुशियाँ थी. और खूब भीड़-भाड थी. न जाने कितने ही आदमी आज यहाँ इकट्ठा हुए थे और खुद को खुबसूरत साड़ियों और लहंगो में सजा रहे थे. क्योंकि आज एक ख़ास दिन था. कुछ दिनों के ब्रेक के बाद इंडियन लेडीज़ क्लब फिर से खुल रहा था. पर इस बार के बदलाव था इस क्लब में. अब ये क्लब न सिर्फ क्रॉसड्रेसर “महिलाओं” के लिए था बल्कि अब उनकी पत्नियों, गर्ल फ्रेंड के लिए भी खुल गया था. बहुत सी क्लब की औरतों की मदद आज उनकी पत्नियां या गर्ल फ्रेंड कर रही थी. उन्हें सजाते हुए वो सब भी खुश थी. और जो क्लब की सदस्य अकेली थी, उनकी मदद के लिए क्लब की सीनियर लेडीज़ तो थी ही. सबके चेहरे पर ख़ुशी थी आज.

पर एक सदस्य जो सबसे ज्यादा खुश थी, वो थी सुमति. सुमति को आज दुल्हन के रूप में सजाया जा रहा था. अंजलि, मधुरिमा और कई औरतें इस ख़ास अवसर पर सुमति को सजाने में मदद कर रही थी. अंजलि और मधुरिमा का साथ पाकर सुमति भी बहुत खुश थी. इन तीनो सहेलियों ने कठिन समय भी साथ में गुज़ारा था, और इस दौरान उनकी दोस्ती और गहरी हो गयी थी. आज इस क्लब में सुमति और चैताली की शादी हो रही थी जहाँ वो दोनों ही दुल्हनें होंगी. सभी “लेडीज़” आज इस शादी में सुमति की तरफ से सम्मिलित हो रही थी और उनकी पत्नियाँ और गर्ल फ्रेंड चैताली की ओर से. सुमति अब दुल्हन के रूप में सजकर तैयार थी. और क्लब की दूसरी औरतें भी जो रंग बिरंगे परिधानों में निखर रही थी. सुमति आज क्लब के सदस्यों के प्रति शुक्रगुज़ार थी जो इस पल को यादगार बनाने के लिए शामिल हुए थे.

z3
इंडियन लेडीज़ क्लब में आज खुशियाँ ही खुशियाँ थी. आज लेडीज़ सुन्दर साड़ियों और लहंगो में सजी थी, क्योंकि आज सुमति और चैताली की शादी का ख़ास अवसर था. सुमति इस वक़्त एक पारंपरिक दुल्हन बनकर अपनी सहेलियों से घिरी हुई थी. इंडियन लेडीज़ क्लब एक बार फिर जाग उठा था.

इंडियन लेडीज़ क्लब की आखिरी मीटिंग में शामिल सभी औरतें आज इस शादी में भी आई थी, बस एक औरत इस शादी में नहीं थी. वो थी अन्वेषा, जिसने पिछली बार राजकुमारी बनाया गया था. कुछ रात पहले जब सभी वापस आदमी बन गए थे, उस दिन अन्वेषा भी बदल गयी थी. पर आदमी बनने की बजाये या एक खुबसूरत औरत बनी रहने की जगह, जब वो सोकर उठी थी तो वो एक कुरूप औरत बन चुकी थी. वो एक बुरे विचारो वाली औरत थी जो अपने अलावा किसी और के बारे में नहीं सोचती थी. अपने सुन्दर औरत के रूप का उसने बहुत गलत फायदा उठाया था. और उसी कर्मो का फल था कि उसे हमेशा के लिए एक कुरूप औरत बनकर अब जीवन गुजारना था. शायद किसी दिन कोई राजकुमार आकर उसे इस श्राप से मुक्त करेगा पर तब तक उसे अकेले ही ऐसे जीवन गुजारना होगा.

पिछले कुछ हफ्ते, एक औरत के रूप में इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों को एक ख़ास शिक्षा दे गया था. क्रॉसड्रेसर होना श्राप नहीं है. ये हमारे ऊपर है कि हम इसे एक वरदान मान कर अपने अन्दर की स्त्री को अनुभव करे या फिर इसे श्राप मानकर अपने जीवन को दुखी करे. हम अपने अन्दर की खुबसूरत स्त्रियोचित भावनाओं और क्वालिटी का उपयोग अपनी जीवन संगिनियों को अच्छे से समझने में उपयोग कर सकती है. पर इसके लिए हमें खुद को अपने जीवन साथ के समक्ष खोलना होगा और उन्हें समझाना होगा कि हम सभी अच्छे लोग, चाहे हम जो भी कपडे पहने. और साथ ही साथ हमें उनकी ज़रूरतों को भी समझना होगा. हम हर समय औरत बनकर नहीं रह सकती उनकी इच्छाओ का सम्मान किये बगैर. किसी भी रिश्ते में एक बैलेंस ज़रूरी है और यह बात ये सभी औरतें समझ चुकी थी. इसलिए आज वो ये खुशियों भरा जीवन जी सकती थी.

लेखिका का नोट:  इस कहानी को ख़त्म करके मुझे बेहद ख़ुशी है. बहुत लम्बा था इसे लिखना और बहुत समय भी लगा. भले ये काल्पनिक कहानी थी और शायद हम सब भी चाहेंगी कि काश हमारे साथ भी ऐसा हो. पर रातोरात हम सब औरत बन जाए, ये शायद संभव नहीं है. पर यही तो इस कहानी का मुख्य सन्देश है. यह हमारे ऊपर निर्भर करता है कि हम अपने जीवन को खुशहाल बना सकते है चाहे हमारे पास सब कुछ न हो. और यदि हम ज़रा कोशिश करे, तो खुशियाँ हमसे दूर नहीं रह सकेगी. मैं प्रार्थना करती हूँ कि जितनी भी क्रॉसड्रेसर औरतें ये कहानी पढ़ रही है उन सबके सपने सच हो और उनका जीवन पुरुष और स्त्री दोनों रूप में खुशहाल रहे.
समाप्त

सभी भागो के लिए यहाँ क्लिक करे

< भाग १४

यदि आपको कहानी पसंद आई हो, तो अपनी रेटिंग देना न भूले!

free hit counter

इंडियन लेडीज़ क्लब: भाग १४

सुमति अपनी शादी के लिए घर आ गई थी. क्या वो इस शादी और अपने नए जीवन के लिए तैयार थी?


यदि आपको कहानी पसंद आये, तो ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर रेटिंग ज़रूर दे!

Click here to read in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

सुमति की शादी

“माँ, सुमति दीदी आ गयी. जल्दी आओ न”, रोहित ने ख़ुशी से अपनी बहन को रिक्शे से आते देख अपनी माँ को आवाज़ दी. सुमति अब अपनी माँ के घर आ गयी थी जहाँ उसकी शादी की तैयारियां जोर शोर से चल रही थी. अब चैतन्य और सुमति की शादी में सिर्फ ८ दिन रह गए थे. अभी भी सुमति को यकीन नहीं हो रहा था पर कुछ ही दिनों में वो एक पत्नी बनने वाली थी. फिर भी, अपने घर में अपनी माँ के पास वापस आकर वो खुश थी.

रोहित भी अब दौड़े दौड़े सुमति के बैग उठाने आ गया था. शिक्षा भाभी जो पड़ोस के घर में रहती थी वो भी दौड़ी चली आई. “सुमति आ गयी! अरे वाह सुमति तो और भी खुबसूरत होकर आई है शहर से”, सर को अपने पल्लू से धक्के शिक्षा भाभी ने उत्साह से कहा. गाँव की रहने वाली शिक्षा भाभी को बड़ा उत्साह होता जब भी कोई शहर से आता. लगता है कि उन्हें सुमति बहुत पसंद थी तभी तो सुमति और रोहित को चलकर आते देखकर इतनी खुश थी वो.

अब तक सुमति की माँ भी दरवाजे पर आ गयी थी. वो हाथ में एक पूजा की थाली लिए खड़ी थी जिसमे एक दिया जल रहा था. अपनी बेटी सुमति को बेहद ख़ुशी के साथ उन्होंने घर में प्रवेश कराया. माँ को पूजा की थाली के साथ देख सुमति ने भी अपना सर अपने सलवार सूट के दुपट्टे से ढँक लिया और माँ उसकी नज़र उतारने लगी. माँ को देखते ही सुमति के चेहरे की ख़ुशी बढ़ गयी थी. पिछली बार जब वो यहाँ आई थी, तब वो घर का बड़ा बेटा थी. आज स्थिति बदल गयी थी पर फिर भी माँ का प्यार बिलकुल वैसा ही था. सुमति ने अपनी माँ के पैर छूने चाहे तो उन्होंने उसे रोक लिया. “अरे बेटी की जगह तो दिल में होती है पैरो पे नहीं”, ऐसा कहकर उन्होंने अपनी प्यारी बेटी के चेहरे को छुआ. माँ बेटी गले मिल अपनी अनकही ख़ुशी एक दुसरे के साथ बांटने लगी.

“अरे शिक्षा. वहां खड़ी खड़ी क्या कर रही है. तेरी ननद आई है, तू भी ज़रा नज़र उतार दे इसकी. स्वागत नहीं करेगी अपनी ननद का?”, सुमति की माँ ने शिक्षा भाभी से कहा जो एक जगह खड़ी होकर यह सब देख रही थी. शिखा सामने आई, और पूजा करके सुमति को गले लगा ली. “कैसी हो भाभी? और आपके शरारती बच्चे कैसे है?”, सुमति ने पूछा. “बच्चे ठीक है सुमति. थोड़ी ही देर में स्कूल से आते ही होंगे. “, भाभी ने जवाब दिया.

“लड़कियों! अभी बहुत समय है बात करने के लिए. पहले सुमति को घर के अन्दर आकर थोडा आराम तो करने दो”, सुमति की माँ ने दोनों से कहा.

अन्दर आकर सुमति अपने कमरे में चली गयी. कितना कुछ बदल गया था उस कमरे में. पहले वो एक लड़के का कमरा हुआ करता था. पर अब तो देख कर ही पता चल रहा था कि वो एक लड़की का कमरा था. और सब कुछ बिलकुल सुमति की एक औरत के रूप में पसंद के अनुसार ही था वहां. जब बचपन में वो सोचती थी कि यदि वो लड़की होती तो अपने कमरे को कैसे सजाती, बिलकुल वैसे ही सब सजा था उस कमरे में. सुमति की बनायीं हुई पेंटिंग भी थी उस कमरे में.

Sumati
नहाने के बाद सुमति ने एक हरे रंग का सलवार सूट पहन लिया.

सुमति कुछ देर अपने बिस्तर पर बैठी जिस पर फूलो के प्रिंट वाली चादर बीछी थी. उसने कमरे की खिड़की से बाहर की ओर देखा तो, वहां से कुछ १०० मीटर की दूरी पे चैताली का घर दिखा जो अब चैतन्य थी, सुमति का होने वाला पति! दूर से ही उस घर में मेहमानों के चहल पहल दिख रही थी. कुछ ही दिन में सुमति उस घर की बहु बनने वाली थी. इस बारे में सोचना भी सुमति के लिए भारी था. पर फिर भी उन विचारो को अनदेखा करती हुई वो नहाने चली गयी. और नहाने के बाद उसने एक हरे रंग का सलवार सूट पहना. एक क्रॉसड्रेसर के रूप में तो सुमति हमेशा साड़ी पहनना पसंद करती थी. पर अब जब वो औरत बन चुकी थी, वो अब सलवार सूट पहनना ज्यादा पसंद करने लगी थी. साड़ी के मुकाबले शायद उसे मैनेज करना ज्यादा आसान था. उसने कुछ देर अपनी माँ के साथ समय बीताया क्योंकि इतने दिनों बाद अपनी माँ से मिल रही थी सुमति. माँ-बेटी ने साथ में लंच किया और फिर सुमति की माँ ने उसे कुछ घंटे सोने के लिए जाने कहा. वैसे भी लम्बी ट्रेन की यात्रा के बाद सुमति थक भी गयी थी. पर वो सोना नहीं चाहती थी. वो अपनी माँ से कुछ बातें करना चाहती थी. न जाने क्यों वो अपनी माँ को बताना चाहती थी कि सुमति उनकी बेटी नहीं बल्कि बेटा हुआ करती थी. पर कैसे समझाएगी वो ये सब अपनी माँ को जिनकी नजरो में आज वो हमेशा से ही उनकी बेटी रही है. इस स्थिति से सुमति अन्दर ही अन्दर थोडा कुढ़ सी गयी थी. पर क्या कर सकती थी वो. अंत में मन की उधेड़-बून के बाद उसने सोना ही उचित समझा.

कुछ घंटे बाद सुमति की माँ ने आकर उसके सर पे हाथ फेर कर सुमति को दुलार से जगाया. “बेटी शाम हो गयी है. अब उठ जाओ.”, माँ ने कहा और माँ की बात सुनकर सुमति उठ गयी. “ओह्ह मुझे तो पता भी नहीं चला इतनी देर हो गयी. शायद ट्रेन की थकान कुछ ज्यादा ही थी.”, सुमति बोली.

“कोई बात नहीं बेटा. वैसे भी घर में मेहमान कल से आना शुरू होंगे. उसके पहले मैं तुझसे कुछ बातें करना चाहती थी.”, सुमति की माँ ने कहा. “क्या बात है माँ?”, सुमति ने पूछा.

“बेटा तू जल्दी ही अब नए घर में चली जाएगी. मुझे तो बहुत ख़ुशी है कि तेरी शादी चैतन्य से हो रही है. बचपन से मैंने अपनी प्यारी गुडिया को चैतन्य के साथ खेलते देखा है और अब तू दुल्हन भी बनने जा रही है.”, माँ ने कहना शुरू किया.

“नहीं माँ, वो गुडिया चैताली थी मैं नहीं. मैं तो लड़का थी.”, सुमति ने मन ही मन सोचा. ये इंसान का दिल भी बड़ा अजीब होता है. जब सुमति लड़का थी तब वो चाहती थी कि उसकी माँ उसे लड़की के रुप में स्वीकार करे. अब जब वो औरत है तो वो माँ को अपने लड़के वाले रूप के बारे में याद दिलाना चाहती है. पर चाहते हुए भी वो माँ से कुछ कह न सकी.

“सुमति, अपने नए घर में सब तुझसे उम्मीद करेंगे कि तू सीधा पल्लू स्टाइल में साड़ी पहने और अपना सर ढँक कर रहे. तुझे कई सारे मेहमानों के लिए खाना भी बनाना पड़ेगा. और किसी भी माँ की तरह, मुझे भी अपनी बेटी की फ़िक्र है. मुझे पता है कि तूने शहर में अकेले रहते हुए खाना बनाना तो सिख लिया है. फिर भी मैं तुझे सीधा-पल्ला साड़ी पहनना और कुछ ख़ास डिश सीखाना चाहती हूँ. तू सीखेगी मुझसे?”

z3
सुमति की माँ ने उसे सीधा पल्ला साड़ी पहनना सीखाया. किसी और माँ बेटी की तरह, उन दोनों का समय भी अच्छा बीत रहा था.

“ज़रूर माँ. मैं तुम्हारी रेसिपी ज़रूर सीखना चाहूंगी”, सुमति ने उत्साह के साथ कहा. वैसे भी लड़के के रूप में वो हमेशा सपने देखती थी कि उसकी माँ उसे बेटी की तरह ट्रीट करेगी और एक दिन अपनी एक साड़ी उसे पहनने को देगी. शायद एक माँ बेटी के बीच का सबसे प्यारा पल होता है ये जब माँ उसे पहली बार अपनी साड़ी गिफ्ट करती है. सुमति अब खुश थी कि आज वो बेटी बन रही है जो वो हमेशा से सोचा करती थी. थोड़ी देर में ही सुमति की माँ उसके लिए एक मेहंदी रंग की साड़ी लेकर आ गयी. तब तक सुमति भी अपना ब्लाउज और पेटीकोट बदल चुकी थी. उसके बाद उसकी माँ ने उसे सीधे पल्ले स्टाइल में साड़ी पहनना सिखाया. सुमति सचमुच बहुत खुश थी अपनी माँ से साड़ी पहनना सिख कर. वैसे सच तो यह था कि सुमति को पहले से ही कई तरह से साड़ी पहनना आता था पर वो यह ख़ुशी महसूस करना चाहती थी जिसमे उसकी माँ उसे बेटी के रूप में स्वीकार कर रही थी. बहुत सुन्दर पल थे वो माँ बेटी के बीच के. इसके बाद दोनों किचन गयी जहाँ सुमति की माँ ने अपनी ख़ास रेसिपी सुमति को सिखाई. दोनों को खाना बनाते वक्त बहुत मज़ा आया. तभी इस बीच सुमति के फ़ोन में एक sms आया. उसने देखा की उसके फ़ोन की लाइट टिमटिमा रही थी. उसने सोचा थोड़ी देर बाद sms देख लेगी पर न जाने क्यों वो उस sms को अनदेखा नहीं कर सकी. “मैं एक मिनट में फ़ोन देखकर आती हूँ माँ”, सुमति ने अपनी माँ से कहा. और फिर अपने हाथ धोकर अपनी साड़ी के पल्लू से पोंछकर वो फ़ोन में मेसेज पढने लगी.

“हेल्लो सुमति! औरत के रूप में नया जीवन कैसा बीत रहा है? क्या तुम्हे अपने पुरुष रूप के जीवन की याद आ रही है? पर तुम तो हमेशा से औरत बनना चाहती थी न? अब तक तो तुम्हे एहसास हो गया होगा कि चाहे पुरुष का जीवन हो या स्त्री का, जीवन में मुश्किलें और उतार-चढ़ाव तो बने ही रहते है. यदि तुम्हारी क़िस्मत में मुश्किलें लिखी है तो वो तुम्हारे कर्मो की वजह से होती है, न कि इस वजह से की तुम्हारा जन्म पुरुष या स्त्री रूप में हुआ है. औरत बनने के बाद भी तुम अपने कर्मो से आज़ाद नहीं हुई हो. तुमने जीवन का ये पाठ अब तक तो सिख ही लिया होगा. पर तुम्हारे पास अब भी मौका है. अच्छे कर्मो से तुम अपने भविष्य को अब भी संवार सकती हो. तो तुम बताओ, क्या अब भी तुम औरत बनी रहना चाहोगी या तुम्हे फिर से पुरुष बनना है? तुम्हारे पास सोचने के लिए एक हफ्ते का समय है. फिर समय का ये चक्र तुम्हारा भविष्य निर्धारित करेगी. हमेशा सुखी रहो यही मेरा आशीर्वाद है.”

बड़ा ही अजीब सा मेसेज था यह. कौन भेज सकता था ये? इंडियन लेडीज क्लब की औरतों के अलावा तो दुनिया में कोई भी सुमति के पुरुष रूप में जीवन को नहीं जानता था. “कौन हो तुम?”, सुमति ने उत्सुकतावश उस sms के जवाब में सवाल पूछा.

“मैं कौन हूँ, इससे क्या फर्क पड़ता है सुमति? कुछ लोग मुझे मोहन के नाम से जानते है और कुछ ने मुझे मोहिनी रूप में भी देखा है. तुम बस इस एक हफ्ते अपने भविष्य की सोचो. एक अच्छी औरत होने का कर्त्तव्य अदा करो, और सब ठीक ही होगा. गुड लक”

उस जवाब के बाद सुमति ने उस नंबर पर कॉल करने की कोशिश की. पर वो नंबर भी अधूरा दिख रहा था. +४६३. उसने ध्यान से देखा तो वो नंबर +GOD था. कोई उसके साथ खेल खेल रहा था. पर इस मेसेज ने उसे अन्दर से हिला कर रख दिया था.

ऐसा मेसेज पाने वाली सिर्फ सुमति नहीं थी. करीब उसी समय, साशा को भी ऐसा ही मेसेज ऑफिस में आया. अंजलि को भी जब वो अपनी बेटी सपना को खाना खिला रही थी. मधु के पास भी ऐसा ही मेसेज आया और अन्वेषा के पास भी. और इंडियन लेडीज़ क्लब की सभी सदस्यों को जो अब सभी उस एक रात के बाद औरतें बन गयी थी. कोई भी उस मेसेज को समझ नहीं सकी. क्या होगा एक हफ्ते में? सुमति के लिए तो वो दिन उसकी शादी के एक दिन पहले का दिन होगा.

अगले ७ दिन

z6
सांतवे दिन सुमति जब उठी तो उसे पता नहीं था कि उस रात उसके साथ क्या होने वाला था.

अगले ७ दिन, सुमति का जीवन चलता रहा. उसके घर में कई मेहमान भी आ गए थे. उसने अपना नया जीवन अब तक स्वीकार कर लिया था और वो पूरी कोशिश करती की उसके आसपास सभी खुश रहे. उसके अन्दर चल रहे द्वन्द को वो अपने तक ही सीमित रखती. और फिर सांतवे दिन जब वो सोकर उठी, तो उसे एक हफ्ते पुराना वो मेसेज याद आया. पर उसे पता नहीं था कि उस रात उसके साथ क्या होगा. वो कुछ देर बिस्तर पर ही लेटी रही, वो अभी किसी से तुरंत बात नहीं करना चाहती थी. उसने बस भगवान से प्रार्थना की कि सब ठीक हो. और फिर बिस्तर से उठकर घर में अभी अभी आये दो मेहमानों से मिलने बाहर निकल आई. उन्हें देख कर वो बहुत खुश हुई, आखिर वो दोनों अंजलि और मधुरिमा थी. वो दोनों अपने परिवार समेत सुमति की शादी में सम्मिलित होने आये थे. अंजलि, अपने पति और सास-ससुर के साथ थी वही मधु अपने पति जयंत के साथ. उन्हें देखते ही सुमति को पता चल गया था कि उन दोनों को भी सुमति की ही तरह एक मेसेज आया था. उसे एक दिलासा हुआ कि चलो आज हम तीनो उस पल में साथ रहेंगी.

उस मेसेज के बाद का एक हफ्ता अंजलि के लिए भी कुछ बदलाव लेकर नहीं आया था. उसे एक पत्नी, एक माँ और एक बहु के रूप में अपने कर्त्तव्य हमेशा की तरह निभाने थे. वो भी सब की ख़ुशी के लिए दिन रात काम करती रहती थी, बिना कोई शिकायत. वो अब ऐसी औरत बन गयी थी जो सिर्फ देना जानती है बिना कुछ किसी से मांगे. असीमित प्यार से भरी औरत बन गयी थी अंजलि. वो तब भी उतने ही प्यार से रहती जब उसका पति देर रात काम से आता और उससे शारीरिक प्रेम करने लगता चाहे वो कितनी ही थकी होती. उसने खुद को अपने पति के प्रति समर्पित कर दिया था.

शादी के घर में, उन सहेलियों के लिए प्राइवेट में समय निकाल कर उस मेसेज के बारे में बात करना थोडा मुश्किल था पर उनकी आँखें एक दुसरे से सब कुछ कह दे रही थी. दिन अपनी गति से बीत रहा था. और दोपहर में सुमति को हल्दी लगाये जाने वाली थी. हल्दी के लिए मधु ने सुमति को उसकी माँ के साथ पीले रंग की लहंगा चोली पहनाने में मदद भी की. और फिर मधु और सुमति की माँ ने मिलकर सुमति को स्टेज पर लेकर आई जहाँ उसे बैठा कर ५ सुहागन औरतें उसे हल्दी लगाने की रस्म पूरा करने वाली थी. मधु तो एक माँ की तरह ही खुबसूरत सुमति को देख गर्व से फूली नहीं समा रही थी. अंजलि पहली सुहागन थी जो सुमति को हल्दी लगाने वाली थी. सुमति जो अब एक खुबसूरत दुल्हन थी, उसने अंजलि की आँखों में देखा. दोनों सहेलियां इस मीठे खुबसूरत पल का आनंद ले रही थी. वो इस पल को हमेशा याद रखेंगी.

z9
अंजलि पहली सुहागन थी जो खुबसूरत दुल्हन को हल्दी लगाने वाली थी. दोनों सहेलियां इस पल को हमेशा याद रखेंगी.

हल्दी के बाद अब दिन जल्दी ही ख़त्म होने को आ रहा था. अब घर में मेहंदी की रस्म निभायी जा रही थी. सुमति के हाथो और पैरो पर खुबसूरत मेहंदी सजाई जा रही थी. और अंजलि और मधु उसके बगल में बैठ कर सुमति की खूबसूरती निहार रही थी. तभी अंजलि को एहसास हुआ कि उसके फ़ोन में कोई मेसेज आया है. बहुत सीधा सा मेसेज था. “क्या तुम तैयार हो आज रात के लिए अंजलि?” ये मेसेज उसी अनजान नंबर से आया था. मधु ने भी अपना फ़ोन देखा और उसमे भी वैसा ही मेसेज था. दोनों ने थोड़ी चिंता के साथ सुमति की ओर देखा जो इस वक़्त अपनी बहनों और भाभियों के संग ख़ुशी से खिलखिला रही थी. वो रात भी शान्ति से बढ़ रही थी. तब तक जब तक सब सो नहीं गए. अब वो समय आ गया था. समय का चक्र चल रहा था. पर अब कुछ होने वाला था.

अगला भाग इस कहानी का अंतिम भाग होगा. उस रात को क्या हुआ जानने के लिए ज़रूर पढ़े.

क्रमश: …

सभी भागो के लिए यहाँ क्लिक करे

< भाग १३ अंतिम भाग >

यदि आपको कहानी पसंद आई हो, तो अपनी रेटिंग देना न भूले!

free hit counter

इंडियन लेडीज़ क्लब: भाग १३

सुमति और अंजलि आज मधुरिमा से मिलने जा रही थी. क्या मधुरिमा के पास सुमति के सवालो का जवाब होगा?


यदि आपको कहानी पसंद आये, तो ऊपर दी हुई स्टार रेटिंग का उपयोग कर रेटिंग ज़रूर दे!

Click here to read in English/ सभी भागो के लिए क्लिक करे

मधुरिमा का स्वर्ग

बाथरूम से फ्लश चलने की आवाज़ हुई, और दरवाज़ा खोल कर सुमति अपनी साड़ी ठीक करती हुई बाहर निकली. “उफ़.. ये इंडियन स्टाइल के टॉयलेट में साड़ी पहनकर जाना ज़रा भी आसान नहीं होता!”, सुमति ने शिकायत भरे लहजे में कहा. वो अपनी कमर के निचे की प्लेट को हिलाकर सुधार रही थी ताकि वो अपने पहले के रूप में आ जाए. वैसे भी टॉयलेट चाहे इंडियन हो या वेस्टर्न, हमेशा से आदमी के रूप में जाने की आदत के बाद औरत के रूप में जाना तो मुश्किल ही था सुमति के लिए.

सुमति की परेशानी देखकर अंजलि जोर जोर से हँसने लगी. उसने अपने बालो का जुड़ा खोला और फिर अपने बालों को पीछे एक रबर बैंड से बाँधने लगी. “तेरी साड़ी पीछे ऊपर अटक गयी है कमर पर. ठीक कर ले वरना ऐसे ही बाहर जायेगी तो दुनिया हँसेगी हम पर!”, अंजलि ने सुमति को चेताया.

सुमति ने पीछे पलट कर देखा तब उसे पता चला कि बाथरूम के बाद पेंटी ऊपर चढाते वक़्त उसकी साड़ी और पेटीकोट उसकी पेंटी में अटक गयी थी. बड़ी ही हास्यास्पद स्थिति थी और अंजलि का हँसना रुक ही नहीं रहा था. सुमति को थोड़ी शर्म सी महसूस हो रही थी. भले ही हँसने वाली स्थिति थी, पर एक औरत के रूप में सुमति को सावधान रहना होगा भविष्य में. “आई हेट दिस!”, सुमति गुस्से में बोली, “… देख, मेरी प्लेट भी अब सही से नहीं बन रही है. मुझे खोल कर फिर से ठीक करना होगा” सुमति थोड़ी सी उदास दिख रही थी. शायद वो ड्रामा क्वीन बन रही थी पर उसकी मुसीबत असली थी.

“अब शांत भी हो जाओ मैडम. मैंने तुझे पहले भी कितनी बार समझाया है कि प्लेट की लम्बाई में दो सेफ्टी पिन का उपयोग किया कर. एक सबसे ऊपर कमर के पास और दूसरी कुछ इंच निचे. अब याद रखेगी न? इधर आ मैं ठीक कर देती हूँ प्लेट”, अंजलि बोली. अंजलि अब भी पहले की ही तरह थी, सहायता करने वाली, प्यार से भरी हुई औरत. जब वो आदमी थी तब भी उसके अन्दर एक अच्छी औरत के सारे गुण मौजूद थे. उसने सुमति की साड़ी सुधारने में मदद की और फिर उसके बाद बोली, “अब ठीक है?” वो मुस्कुरायी और सुमति की आँखों में देखने लगी. सुमति अब ठीक मूड में थी. उसने हाँ में सर हिलाया और अपनी सहेली की तरह देख कर मुस्कुराने लगी.

इसके बाद अंजलि भी खुद तैयार होने लगी. वो एक पुराने से लम्बे आईने के सामने खड़े होकर अपने बालों पर कंघी कर सुलझाने लगी, और फिर से एक रबर बैंड से उन्हें बाँध ली. “कितनी प्यारी है अंजलि!”, सुमति मन ही मन सोचने लगी. वो भगवान को शुक्रिया अदा कर रही थी कि उसे अंजलि जैसी सहेली मिली.

“तो सुमति मैडम? हम चले? मैं तो तैयार हूँ अब”, अंजलि सुमति की ओर पलट कर बोली. “तू ऐसे चलेगी? तुझे मेकअप नहीं करना है तो कम से कम साड़ी तो बदल ले. सुबह से घर के काम करते वक़्त से यही साड़ी पहनी हुई है”, सुमति ने अंजलि को लगभाग डांट ही दिया.

sb23
अंजलि ने अपने बालो का जुड़ा खोला और अपने बालो को एक रबर बैंड से बाँध कर कुछ ही मिनट में जाने को तैयार हो गयी. पर सुमति चाहती थी कि अंजलि साड़ी बदल ले..

“जैसी आपकी आज्ञा सुमति मैडम! मैं बदलती हूँ साड़ी. मुझे ५ मिनट लगेंगे बस”, अंजलि ने सुमति के गुस्से को शांत करना चाहा.

“अंजलि, तुझे याद है कि कैसे लेडीज़ क्लब में सबसे अच्छा मेकअप करना तुझे ही आता था. और आज तू नेल पोलिश तक नहीं लगायी है.”, सुमति बोली.

“मेरी प्यारी सुमति. तब मैं हाउसवाइफ नहीं थी न.. दिन में दर्जनों बर्तन धोने के बाद कोई नेल पोलिश नहीं टिकती है. समय बदल गया है. अब मेकअप के अलावा कई बातें है जो एक औरत के रूप में मुझे आनंद देती है. तो मेकअप के लिए समय निकालना अब मेरे लिए ज़रूरी नहीं है. समझ रही तू?”, अंजलि अपनी अलमारी में साड़ी ढूंढते हुए बोली. सुमति कुछ कह न सकी. अंजलि की प्राथमिकताएं अब बदल गयी थी. अब वो एक खाली समय में सजने वाली क्रॉसड्रेसर नहीं थी, अब वो एक माँ और एक गृहिणी थी जिसके लिए कपडे पहनना टाइम पास नहीं था. तब तक अंजलि ने एक नीली और ग्रे रंग की साड़ी निकाल ली. उसने सुमति को इशारा किया कि उसे साड़ी बदलने के लिए थोड़ी प्राइवेसी चाहिए.

“क्या यार…. जब तू आदमी थी तब तो नहीं शरमाई तू मेरे सामने कपडे बदलने से.”, सुमति ने चुटकी लेते हुए कहा. “हाँ तू सही कह रही है”, अंजलि ने धीमी आवाज़ में कहा. फिर थोड़ी देर बाद बोली, “तब मेरे पास बूब्स नहीं थे न छुपाने के लिए!” सुमति भी थोडा हँस दी उसकी बात सुनकर. “तब तो मेरे पास भी बूब्स नहीं थे. पर अब… हम्म… तू देखना चाहेगी मेरे बूब्स?”, सुमति बोली.

“चल हट बड़ी नटखट हो गयी है तू. मुझे तेरे बूब्स देखने की ज़रुरत नहीं है. मेरे अपने बूब्स को देख कर ही खुश हूँ मैं. ३४DD साइज़ है मेरा… पता है तुझे?”, अंजलि ने ब्लाउज पर से ही अपने बूब्स को छूते हुए कहा. “चल अब मैं ब्लाउज बदल रही हूँ. झाँकने की कोशिश मत करना”, अंजलि ने मज़ाक में कहा और अपना ब्लाउज उतारने लगी. अन्दर उसने एक बेहद ही साधारण सी सफ़ेद रंग की ब्रा पहनी हुई थी. उसके स्तन तो बेहद सुन्दर आकार के थे, पर उसकी ब्रा थोड़ी बदसूरत सी थी. अंजलि के लिए समय सचमुच बदल गया था. एक क्रॉसड्रेसर के रूप में उसके पास कई महँगी और फैंसी ब्रा हुआ करती थी. तब तो ऐसे ब्रा वो कभी न पहनती. पर अब की आर्थिक स्थिति में शायद वो यही मैनेज कर पाती हो किसी तरह. “शायद मुझे अंजलि को अच्छी ब्रा गिफ्ट करनी चाहिए.”, सुमति सोच में पड़ गयी. जहाँ तक सुमति अंजलि को समझती थी, अंजलि सुन्दर ब्रा पाकर ज़रूर खुश होगी.

अंजलि खुद इस वक़्त सोच रही थी कि अपनी सहेली के सामने कपडे बदलने में वो इतना शर्मा क्यों रही थी. सुमति के साथ तो उसने कितने बार कपडे बदले थे. शायद उसे थोड़ी सी शर्म आ रही थी कि अब उसके अन्तःवस्त्र इतने सुन्दर न थे. उसने झट से अपना पेटीकोट उतारकर दूसरा पेटीकोट पहन लिया. और फिर उसने अपनी नीली रंग की साड़ी पहनी जिस पर काले पोल्का डॉट बने हुए थे. उसका ब्लाउज उसके स्तनों पर बहुत बढ़िया फिट आ रहा था और आस्तीन भी उसकी मांसल बांहों पर बिलकुल सही फिट आ रही थी. सेक्सी दिख रही थी अंजलि. अब जब इस औरत के नए जीवन में अंजलि और सुमति लेस्बियन थी, तो अंजलि की तरह सुमति का आकर्षित होना स्वाभाविक था. पर फिर भी इस आकर्षण को काबू में रखना है, यह दोनों ने थोड़ी देर पहले ही तय किया था. सुमति इस वक़्त सिर्फ अपनी सहेली को देखकर एडमायर करती रही.

अपने कहे अनुसार, अंजलि ५ मिनट में तैयार भी हो गयी. “ओह राजकुमारी सुमति जी, मैं तैयार हूँ. मधुरिमा आंटी का घर यहाँ से १० मिनट की दूरी पर है. तो चलते है अब. मुझे फिर १ बजे के पहले वापस भी आना है. सास ससुर को खाना खिलाने.”

अपनी सहेली को तैयार देख सुमति उसके पास चल कर आई और उसके एक हाथ को पकड़ कर बोली, “किसी की नज़र न लगे तुझे”

अंजलि ने फिर अपना घर लॉक किया और दोनों सहेलियां गेट की ओर बढ़ने लगी. “अंजलि प्लीज़ एक बार मेरी साड़ी देख ले पीछे से. कहीं और अटकी तो नहीं है? बाहर सड़क पर शर्मिंदगी नहीं झेल सकूंगी मैं” सुमति अब भी चिंतित थी. “सब ठीक है. अब चल इस रास्ते जाना है”, अंजलि ने कहा और दोनों चल पड़ी.

sf04
अंजलि ने जल्दी से साड़ी बदल ली. अपने नीले ब्लाउज और काले पोल्का डॉट की साड़ी में सेक्सी लग रही थी वो. उसने घर पे ताला लगाया और दोनों सहेलियां निकल गयी मधुरिमा से मिलने के लिए.

“अंजलि तुझे याद है करीब २ साल पहले हम दोनों दोपहर में घर से बाहर औरत बनकर निकली थी?”, सुमति ने पूछा. “कैसे भूल सकती हूँ वो दिन? कितना पीछे पड़ना पड़ा था मुझे तेरे. तू तो भीगी बिल्ली की तरह घबरायी हुई थी. मेकअप में पसीने छूटे हुए थे तेरे. और ५ मिनट में तू घर वापस भी हो गयी थी.”, अंजलि ने सुमति की ओर देख कर कहा.

“अब बात को इतना भी बढ़ा चढ़ा के मत बोल. पूरे १५ मिनट बाहर थे हम!”, सुमति ने शिकायती लहजे में नखरे भरे हावभाव करते हुए कहा. “चल ठीक है. फिर भी ५ मिनट न सही पर तू १० मिनट भी बाहर नहीं थी. और डर के मारे वापस घर की ओर दौड़ कर भागते हुए तू बार बार अपनी ही साड़ी पर पैर रख रही थी. और वैसे भी ३ इंच की सैंडल पहन कर कौनसी औरत दौड़ती है भला?”, अंजलि सुमति को छेड़ रही थी.

“हाँ मैं मान लेती हूँ कि मैं एक मुर्ख औरत थी तब. पर अब देखो… हम अब दो खुबसूरत औरतें है और खुले आसमान के निचे अब हम बेफिक्र होकर घूम सकती है. मैं तो मधुरिमा माँ से मिलने को लेकर बहुत उत्साहित हूँ. कैसी है वो? तेरी बात हुई थी उनसे?”, सुमति ने पूछा. (सुमति एक क्रॉसड्रेसर के रूप में मधुरिमाँ को अपनी माँ मानती थी)

सुमति सही कह रही थी. खुली हवा में दोनों औरतें आज बेफिक्र थी. और अचानक से बहती तेज़ हवा जैसे उनसे सहमत थी. उन दोनों की साड़ी और पल्लू उस तेज़ हवा के झोंके में आज़ादी की ख़ुशी में लहराने लगे थे. उन दोनों ने जल्दी से अपने पल्लू और साड़ी को अपने हांथो से पकड़ कर संभालने की कोशिश की. वो हवा का झोंका भी जल्दी ही चला गया. उस वक़्त सड़क किनारे कुछ आदमी भी थे जो इन खुबसूरत औरतों को देख रहे थे जो उन नजरो से बेफिक्र होकर अपनी ही दुनिया में मग्न थी.

“तुझे तो पता ही है की मधुरिमा आंटी की तबियत ठीक नहीं रहा करती थी. अब भी वैसी ही है. उनकी पत्नी अजंता आंटी अब उनके पति जयंत है! तो सरप्राइज मत होना यदि जयंत अंकल मिले आज घर पर. तुझे याद है न अजंता आंटी कितनी प्यारी थी? (भाग ३ में अजंता के बारे में पढ़े) वो हमेशा हमें कितने प्यार से घर में बुलाती थी. कभी हमारी क्रॉसड्रेसिंग को लेकर हमें बुरा नहीं महसूस कराया उन्होंने. अब वो आदमी है पर पहले की ही तरह उतने ही स्वीट है वो. मधु आंटी का बेहद प्यार से ध्यान रखते है”, अंजलि ने सुमति को बताया.

सुमति को जवाब सुनकर अच्छा लगा. और फिर दोनों सहेलियां बातें करती चलती रही. और जल्दी ही मधु आंटी के घर के बाहर पहुच गयी. दरवाज़े पर अंजलि घंटी बजाने वाली ही थी कि सुमति ने उसका हाथ झटककर अंजलि को रोक लिया. “रुक न ज़रा…. एक बार देख कर बता मैं ठीक लग रही हूँ न? मेरे बाल सही है?”

“हे भगवान! तू न एक विचित्र औरत बन गयी है! महारानी सुमति आप बहुत सुन्दर लग रही है. अपने हुस्न की चिंता करना बंद करे!”, अंजलि बोली. “ऐसे भी न बोल यार… मुझे तो बस लगा कि उस तेज़ हवा में मेरे बाल बिखर गए होंगे.”, सुमति ने उदास स्वर में कहा. अंजलि ने फिर दरवाज़े पर घंटी बजायी.

और थोड़ी देर में जयंत अंकल ने दरवाज़ा खोला. और जैसे ही सुमति ने उन्हें देखा, उसे ध्यान आया की उसकी साड़ी का आँचल थोडा ज्यादा उठा हुआ है इसलिए उसकी बांयी ओर से उसका ब्लाउज और उसका उभार दिख रहा है. उसने तुरंत अपने आँचल को अपने बांये हाथ से निचे खिंचा और ब्लाउज को ढँक कर जयंत अंकल के पैर छूने को झुक गयी. “नमस्ते अंकल”, दोनों औरतों ने अंकल को प्रणाम किया. “आओ आओ बेटी. पहले अन्दर तो आओ. तुम्हारी आंटी तो तुम्हारा कब से इंतज़ार कर रही है!”, अंकल ने कहा.

और अंकल के पीछे पीछे दोनों चल दी. चलते चलते सुमति ने कुहनी से अंजलि की कमर पर वार करते हुए फुसफुसा कर बोली, “मेरा ब्लाउज बाहर दिख रहा था तूने बताई क्यों नहीं थी पहले?” अंजलि बस देख कर हँस दी. सुमति को थोडा सा अजीब लग रहा था कि उसकी प्यारी अजंता आंटी अब जयंत अंकल बन चुकी थी. और जयंत अंकल को तो कोई अंदाजा भी नहीं था कि वो कभी इतनी प्यारी ममता भरी औरत हुआ करते थे. सुमति और इंडियन लेडीज़ क्लब की औरतों की दुनिया में आया हुआ ये बदलाव हुए अब २ दिन हो गए थे, फिर भी सब कुछ किसी सपने सा ही मालूम होता था. अभी भी सुमति को यकीन नहीं होता था. भले ही इस जीवन के कुछ हिस्से उसे अच्छे लगे थे पर शायद अन्दर ही अन्दर वो चाह रही थी कि ये यदि सपना है तो जल्दी ख़त्म हो और वो अपने पहले वाले जीवन में जा सके.

“अच्छा अब तुम दोनों अन्दर जाकर आंटी से मिल लो. मैं चाय पानी लेकर आता हूँ.”, अंकल ने कहा. “अंकल जी कोई ज़रुरत नहीं है चाय पानी की. हम तो बस १० मिनट चल कर आये है. अभी तो प्यास भी नहीं लगी है.”, अंजलि बोली.

और फिर दोनों घर के अन्दर बढ़ चले उस कमरे में जहाँ मधुरिमा आंटी थी. ऐसा लग रहा था कि जैसे बस अभी अभी तैयार हुई है वो. शायद दरवाज़े की घंटी बजने पर वो जल्दी जल्दी में तैयार हुई होंगी. मधुरिमा ने पलट कर सुमति और अंजलि को देखा. उनके चेहरे पर पहले की ही तरह एक बड़ी सी प्यार भरी और शरारती मुस्कान थी.

“तो मेरी प्यारी बेटियाँ आ गई है! आओ मुझसे गले नहीं मिलोगी”, मधु ने उन दोनों को देखते ही कहा. और दोनों दौड़कर आंटी को गले लगाने आ गयी. मधु आंटी अपने आकर में इतनी बड़ी तो थी कि दोनों को एक साथ गले लगा सके. उन्होंने दोनों को माथे पे प्यार से चूम लिया जैसे एक माँ करती हो. मधु जी एक बड़ी औरत थी जिनका सीना भी बेहद बड़ा था. जब वो एक आदमी थी तब भी उनके पास बड़े स्तन थे. ये सब उनकी तबियत खराब होने की वजह से था… दवाइयों का साइड इफ़ेक्ट जिसकी वजह से उनका वजन बढ़ गया था. पर उनके मोटापे की वजह से उनका जो रूप था बड़ा मातृत्व भरा रूप लगता था. हमेशा हंसती रहती और शरारत करती रहती. सभी को उनसे गले मिलकर अच्छा लगता था क्योंकि उनके पास तब भी ममता से भरे असली स्तन थे. और फिर वो सबको अपनी हरकतों और बातों से हंसाती भी तो रहती थी.

6139190507_e4b0fa0536_o
मधुरिमा अंजलि और सुमति के लिए माँ की तरह थी.

“चलो लड़कियों, अब बैठ भी जाओ. और अपनी आंटी को अपनी पूरी जीवन कहानी सुनाओ. तुम दोनों को अपनी बूढी आंटी की याद आई, मैं तो बस इसी बात से बहुत खुश हूँ”, मधु बोली.

“बूढी आंटी? अरे आप तो अभी हॉट जवान औरत हो माँ”, सुमति ने छेड़ते हुए कहा. “जानती हूँ जानती हूँ. तुम दोनों से भी ज्यादा सुन्दर हूँ मैं. पर तुम दोनों को हीन भावना न हो जाए इसलिए कह रही थी मैं.”, मधु ने नैन मटकाते हुए कहा. ऐसे ही मसखरी करती थी वो हमेशा.

“अच्छा बताओ, कुछ कहोगी? जयंत अंकल बना देंगे तुम्हारे लिए कुछ”, मधु ने पूछा. “आंटी चिंता मत करो. हम बस अभी अभी घर से पोहा खाकर ही निकली है”, अंजलि बोली. वो अंकल आंटी को परेशान नहीं करना चाहती थी. पर तब तक अंकल चाय बिस्कुट लेकर आ गए थे. “लेडीज़, अब मैं तुम सभी को अपनी बातें करने के लिए छोड़ कर जा रहा हूँ. मुझे बाहर पौधों को पानी देना है. कोई भी ज़रुरत हो तो आवाज़ दे देना मुझे.”, अंकल न कहा. “थैंक यू अंकल”, सुमति बोली.

अब जब अंकल जा चुके थे तो मधु सुमति की ओर देख कर बोली, “सुमति बेटी, सब ठीक है नए जीवन में?” वो जानती थी कि ये अचानक आया हुआ बदलाव किसी के लिए आसान नहीं था.

“सब कुछ अच्छा है माँ! अब तो मेरे शादी भी होने वाली है. तुम्हारे बेटी दुल्हन बनने वाली है. और तुम्हे मेरी शादी में ज़रूर आना है. अपनी बेटी को सुन्दर लहंगे में देखने तो आना ही पड़ेगा तुम्हे. कोई बहाना नहीं चलेगा!”, सुमति ने ख़ुशी से मधु से कहा. वो मधु को शायद दिलासा देना चाहती थी कि सुमति अब ठीक है.

“अरे क्यों नहीं… ज़रूर आऊंगी मैं. अपनी प्यारी बेटी को खुबसूरत दुल्हन के जोड़े में देखने ऐसे कैसे नहीं आऊंगी मैं. भले मुझे अपने भारी भरकम शरीर के साथ पैदल भी चलना पड़े तो भी मैं आऊंगी.”, मधु बोली. तीनो औरतें बातें करती हुई हँस दी. पर कोई भी नए जीवन की वजह से आई हुई परेशानियों के बारे में बात नहीं कर रहा था. कुछ देर और हँसी-ठिठोली करने के बाद मधु गंभीर हो गयी.

madhu2
मधुरिमा ने सुमति और अंजलि से बैठने को कहा. वो उन दोनों से कुछ गंभीर बात करना चाहती थी.

“अंजलि, सुमति. मेरी बात ध्यान से सुनना. शायद तुम दोनों अपने दिल की बात कहने को अभी तैयार नहीं हो. पर तुम भी जानती हो कि औरत बनने के बाद से नयी कठिनाइयां आई होंगी. पर तुम दोनों हमेशा मुझ पर भरोसा कर सकती हो. मैं तुम दोनों के लिए पहले भी माँ समान थी, और आगे भी रहूंगी. तुम दोनों यदि अभी कुछ कहना नहीं चाहती हो तो न सही. पर मैं तुमसे कुछ कहना चाहती हूँ जो शायद तुम दोनों की मदद करे. ठीक है?”, मधु बोली. अंजलि और सुमति ने हाँ में सर हिला दिया. कितनी किस्मत वाली थी दोनों जो उन्हें मधु के रूप में एक माँ मिली थी जो उनकी असली माँ से ज्यादा उन दोनों के बारे में जानती थी.

“मुझे नहीं पता कि हम सब रातोरात औरतें कैसे बन गयी. और तुमने भी ये महसूस किया होगा कि हमारे आसपास की दुनिया भी कुछ बदल गयी है. हमारे अलावा किसी को याद तक नहीं कि हम कभी आदमी भी थे. सबके दिमाग में अब नयी यादें है जिसमे हम उनकी नजरो में हमेशा से औरतें थी. मुझे तो बहुत अच्छी लग रही है ये लाइफ, पर मैं पहले भी इतनी ही खुश थी अपनी लाइफ से. पर एक बात ज़रूर कहूँगी मैं. तुम्हारे आसपास के लोगो से तुम कैसे बर्ताव करती हो इस बात का ख़ास ध्यान रखना है तुम लोगो को. एक तरह से अपना भविष्य और अपना अतीत दोनों तैयार कर रहे है हम लोग. लोगो से अच्छा बर्ताव करोगी तो बदले में तुम्हारे साथ अच्छा ही होगा. और फिर बुरे बर्ताव का फल भी भुगतना पड़ेगा. यदि तुम अपने नए रूप को ख़ुशी से जीना चाहती हो तो सबके साथ अच्छे से रहो बस. बाकी सब ठीक होगा. सभी को प्यार करो और वो तुम्हे प्यार करेंगे. जो हो गया सो हो गया. वो क्यों हुआ यह हमारे हाथ में नहीं है. पर अपने भविष्य और रिश्तो को संभालना अब तुम्हारा काम है.”

सुमति ने मधु की बात ध्यानपूर्वक सुनी और फिर बोली, “माँ मुझे पूछने में थोडा संकोच हो रहा है क्योंकि ऐसी बात हमने पहले कभी नहीं की. पर आप अपने पति के साथ सम्बन्ध कैसे संभाल रही है? मेरा मतलब है… शारीरिक”, सुमति ने हिचकिचाते हुए पूछा.

सुमति का सवाल सुन मधु मुस्कुरा दी. “सुमति, अब हम उस उम्र में पहुच चुके है जहाँ शारीरिक सम्बन्ध अब बहुत कम बार बनाये जाते है. पर मेरे पति चाहे तो मैं ख़ुशी से उनकी इच्छा पूरी करूंगी. पता है क्यों? तुम्हे अजंता आंटी याद है? कितना ध्यान रखती थी वो मेरा? मेरी सेहत हो या मेरी क्रॉसड्रेसिंग… हर चीज़ में मेरा साथ दिया था उसने. और तुम दोनों को भी तो कितना प्यार करती थी वो. अब जब वो मेरे पति जयंत बन गए है, तो अब भी वो मेरा उतना ही ध्यान रखते है. पति होते हुए भी मेरी सेहत की वजह से घर का सारा काम देखते है. मैं भूल नहीं सकती कि पूरे जीवन में अजंता हो या जयंत, उन्होंने मेरा कितना ख्याल रखा है. और इसलिए कभी कभी मुझे अपना तन उन्हें समर्पित करना हो तो मेरे लिए ये कोई बड़ी बात नहीं है.”

sumati
सुमति उठ कर किचन जाकर सबके लिए पकोड़े तलने लगी. उसके दिल में इस घर से जुडी बहुत सुन्दर यादें थी.

सुमति को उसका जवाब मिल गया था. उसे याद था कि चैताली किस तरह सुमति की क्रॉसड्रेसिंग को जानते हुए भी दुनिया के लिए उसे राज़ ही रहने दिया था. यहाँ तक की सुमति को इसमें कई बार उसने सपोर्ट भी किया था. इसलिए जब चैताली से शादी की बात होने लगी थी तो सुमति ख़ुशी से मान गयी थी. और अब जब वो चैतन्य बन गयी है तो सुमति को एहसास होने लगा कि उसके दिल में अभी भी चैताली और चैतन्य के लिए प्यार है. सुमति भले इस नए जीवन में लेस्बियन बन गयी हो, पर फिर भी वो अपने होने वाले पति के प्रति प्यार और निष्ठा रखने वाली पतिव्रता स्त्री तो बन ही सकती है. क्योंकि उसके दिल में चैताली/चैतन्य के लिए प्यार जो है. कभी कभी बदलाव दिल पर भारी लग सकते है. दिमाग सब कुछ समझ रहा हो तब भी दिल के लिए भावनाओं को काबू करना आसान नहीं होता. ऐसे ही विचार अंजलि के दिल में उमड़ रहे थे. मधु की बातों ने उनकी थोड़ी तो मदद की थी ये समझने में कि वो अपने पतियों के साथ रिश्ता कैसे बनाये रखे. दोनों ही मधु की गोद में सर रखकर कुछ देर ख़ामोशी में रही. और मधु का ममता भरा प्यार जैसे उन्हें नयी उर्जा दे रहा था.

अंजलि और सुमति का मन अब कुछ हल्का हो गया था. सुमति ने कहा कि अब वो सभी के लिए पकोड़े तलेगी. इस घर से तो वो पहले से परिचित थी, इसलिए किचन में जाकर पकोड़े बनाना शुरू करने में उसे समय नहीं लगा. जब जयंत अंकल ने किचन में खटपट सुनी तो वो अन्दर आकर बोले, “अरे बेटा, ये सब तुम्हे करने की क्या ज़रुरत है. मैं हूँ न. मैं बना देता हूँ. तुम्हारे बूढ़े अंकल भी पकोड़े अच्छे बना लेते है” सुमति ने अंकल को देखा और उनके पास आकर बोली, “अंकल आपने वैसे भी मेरे लिए कितना कुछ किया है. मुझे कम से कम पकोड़े बना लेने दीजिये. आप जाकर अंजलि और आंटी के साथ बातें करिए” सुमति को वो दिन याद आ रहे थे जब अजंता आंटी ने उन्हें प्यार से बेटी के रूप में अपने दिल और घर में जगह दी थी.

सुमति जल्दी ही पकोड़े लेकर बाहर आ गयी जहाँ सभी आपस में बातें कर रहे थे. सुमति ने अंजलि की आँखों में देखा. दोनों सोच रही थी कि अब सब ठीक ही होगा. उनका दिल कह रहा था. आखिर सामने मधु और जयंत का प्यार उनके मन में एक नयी उम्मीद जगा रहा था. मधु के अन्दर जयंत के लिए शारीरिक आकर्षण न रहा हो पर उन दोनों के बीच का प्यार असीमित था. अंजलि और सुमति को उन्हें देख लगा कि उनका भी उनके पतियों के साथ ऐसा प्यार भरा रिश्ता हो सकता है. सब ठीक ही होगा.

क्रमश: …

Image Credits: Lasi_Beauty on Flickr (a beautiful crossdresser) and xossip.com

सभी भागो के लिए यहाँ क्लिक करे

< भाग १२ भाग १४ >

यदि आपको कहानी पसंद आई हो, तो अपनी रेटिंग देना न भूले!

free hit counter

Suhasini: The Stress

Will Suhasini be able to manage her dual roles as a father working full time and as a mother for her daughter Deepa?


Please use the star ratings above to rate this story!

Click here to read all the parts of this story

“MOTHER”, the word and Aarthi’s smile indicated that she had given her approval. Things turned back to normal between us and regular contacts resumed. She would appreciate me but she was careful not to come between me and my daughter during weekends. Whenever I invited her to visit my place, she would politely decline it as she did not wish to barge in and disrupt the moments between Deepa and
her mother. After my prolonged persistence, she visited on rare occasions and slowly joined the party.

Over the months, whenever she had free time she would come to our apartment over weekends and help me in preparing dishes and other routines. Also she would help in correcting my makeup and dressing mistakes. She would also advise me about how women feel and behave during different situations. Having her beside me provided a morale boost which helped me in enhancing my feminine qualities even whenever I became a mother. On top of it, exploring the feminine world was a revelation as I saw the world through my wife’s eye.

z1
I now had Aarthi’s approval who would frequently give me advice on how to behave as a woman.

Rubini was totally impressed when I informed her about Aarthi’s advice and she too decided to listen to her advice via phone calls/chats. I couldn’t ask for
anything more in my life and the weekends were just nothing short of adventure.

Until…

“Guhan, do you have minute”, my manager called me from his cabin. “Yes, Amrish”, I stood before him.

“Please take a seat”, my manager pulled the chair near him. I closed the door and seated myself in front of him. “You are aware that our project is currently in YELLOW”, my manager opened a power point and showed me the burn out chart.

“Yes, I saw them in the mail. But, that’s not a problem. We can complete it before deadline”, I gave him my assurance. “That’s the problem here”, he twisted my answer. “Why do you think so?” I enquired him about the problem.

“Today morning, customer has come up with a new deadline. We have to release it 3 months before the estimated deadline”, I was in utter shock as he spoke. “That’s impossible”, I pointed him about the toll it would take on Team leaders and junior engineers if it were to be done earlier.

“I too felt the same. But you know, customer says we do it”, he too was helpless as he said. “May be we can arrange a meeting and discuss with team”, I too felt the same as customers are gods in corporate culture. Amrish quickly booked a meeting and brainstormed with team to meet the new deadline. It was decided at the end that all engineers will be working on weekends.

“Not as bad as I thought, I will work from home” I said to myself and informed my manager. “Sorry Guhan, I need you in office”, Amrish rejected me in no time.

“But I can’t, I have a daughter…”, I narrated my reality. “I know, just till release. Leave her under your relatives care till then”, Amrish was in no mood to entertain me. “Shit man! It is bad” I cursed myself and accepted his proposal.

If accepting to come on weekends was harder, then convincing my daughter to allow me was the hardest. “Deepa”, I slowly opened up the topic while eating. “Yeah”, she replied looking at TV. “Mommy can’t come this weekend because…” I made weird expressions as I begun to explain her. “NOOO!!!!” she screamed at the top of her lungs and rushed to the bed and locked it from inside. “Deepa, listen to me” I knocked the door only to receive a loud scream again. “You Liar” I could only hear her muffled screams behind the door. “Deepa, please”, I slowly explained the crisis situation I was facing in my office. I stood in front of the door with silence giving me company. After 15 minutes of pin-drop silence, she opened rubbing her eyes. I quickly sensed that she was crying and hugged her tight. After an emotional moment, she kissed me on the cheek and went to sleep.

I completely stopped dressing for next two months to endure the painful night and weekend works. But, what was more painful to endure was to see my daughter’s happiness crumbling in front of my eyes. During the initial weekends, she would at look at me on Friday nights hoping that her mother will come this week. But, it only seconds for me to crush her dreams by saying a plain NO. Soon, she understood me and stopped her pesters. Though she behaved normally her eyes suggested the converse. Every weekend, she would look at her mother’s wardrobe for few moments and touch them to get the feel. In spite of noticing her, I continue with my work.

Soon the deadline week arrived and the pressure increased exponentially to deliver a quality product. The pressure gripped me to the core to the extent that I began to work from home in late nights. During one such night, Deepa came to me with an invitation. “Annual Day Celebrations” I glanced through the card as I read the title and fortunately the date was a week after the release.

“We will definitely go” I gave my thumbs up to her and continued my work. “But?” she placed a twist in her sentence. “But, what?” I looked puzzled and looked at her eagerly. “I want to go with Mother”, her words threw me off my groove. “What?” I was befuddled by her request. “Okay…uh…I will ask and tell you tomorrow”, I did not want to start an argument late night and requested her to sleep.

Working late night shifts and skipping meals took a toll on my body. “Amrish, I am not feeling well. I am going home”, I requested permission from my manager. “Time is…uh…12:30. But, the release is tomorrow!” my manager was skeptical of my permission. “Yeah, don’t worry. I will login from home” I assured him and left early. Though I supported from home, I was totally drained of physical and mental health. By 4:30pm, I somehow gathered strength to pick up Deepa. “Will mommy come to function?” she began her pester from the school entrance itself. “Okay…okay”, I tried to dodge the bullet. “Answer me!” she continued her question till we reached home.

As god would have it, my manager called me to discuss another important issue just as I entered home. “Just give me a minute, Amrish”, I ran to open my laptop and began to browse through mail. Without knowing the seriousness, Deepa still continued her pester and suddenly, I snapped.

z1
I snapped at Deepa.

“Will you please stop it!” I shouted at her on top of my lungs and unknowingly knocked her on her head. She began to cry out loud which prompted me to shout at her even more. Hearing my loud scream, Aarthi who was returning to her apartment after work began to bang on my door. After I opened, she noticed Deepa crying and quickly went to console her. “Take her to your room … please”, I controlled my anger and requested Aarthi to help me. She took Deepa to her room without even looking at me. I banged the door shut and began to work on the office issues.

By the time I was done with my work, the clock reached 11pm. “Oh man!” I quickly rushed to Aarthi’s apartment and rang the bell. Aarthi opened the door holding Deepa who was fast asleep. “Thanks” I placed Deepa on my shoulders and left to my apartment. The next morning, Deepa did not even look at me while getting ready for school. “Talk to me…please”, whenever I came close to her for apology, she ignored me and carried on. “I got a surprise for you”, I used my final trick to make her talk during breakfast. “Which is?” though she was surprised, she acted normal and asked me what it was. “You know… uh… I talked to mommy”, just as uttered the word she jumped out of chair and came close to me.

z1.png
I am glad Aarthi was there to take Deepa with her.

“What did she say?” she was all over me while asking her question. “She said… uh… uh… YES”, as soon as I said, she hugged me tight and began to cry.

To be continued … 

Click here to read all the parts of this story

< Chapter 8 Chapter 10 >

If you liked this story, please don’t forget to give your ratings!

free hit counter